Hindi Jokes On Old Age Joke of The Day in Hindi सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Hindi Jokes On Old Age Joke of The Day in Hindi

Hindi Jokes On Old Age Joke of The Day in Hindi
Jokes On Old Age




Hindi Jokes On Old Age very funny jokes in hindi joke of the day in hindi dirty jokes in hindi
made jokes in hindi Hindi Jokes On Old Age


एक अवॉर्ड तो गांव के उन
टैलंटेड बुजुर्गों को भी मिलना चाहिए....ज
ो घूंघट वाली औरतों को भी देखकर
बता देते हैं कि ये फलाने की बहू है!







कभी तो हंस लो इन दांतों से खिल-खिलकर......
बुढ़ापे में दुख ही देंगे ये हिल-हिलकर!

Hindi Jokes On Old Age






एक दादा और एक दादी ने
अपनी जवानी के दिनों को
ताज़ा और relive करने की सोची.

उन्होन्ने प्लान किया कि
वो एक बार
शादी से पहले के दिनों की तरह
छुप कर
नदी किनारे मिलेंगे.
 



यह भी पढ़े  Make Cheese Garlic Bread At Home



दादा तैयार शैयार होकर,
बांके स्टाइल वाला बाल संवार कर, लंबी टहनी वाला
खूबसूरत लाल गुलाब
हाथ में लेकर
नदी किनारे की
पुरानी जगह पहूंच गये.
उनका उत्सुक इंतज़ार
शुरू हो गया.
ताज़ी ठंढी हवा
बहुत रोमैंटिक लग रही थी.

 





एक घंटा गुजरा,
दूसरा भी,
यहां तक कि तीसरा भी .
पर दादी
दूर दूर तक नहीं दिखी.

दादा अपना सेलफोन भी
नहीं ले गये थे
क्यों कि
उनके तब के वक्त में तो
PCO भी नहीं होते थे.
नदी किनारे तो नहीं ही.








दादा को फ़िक्र नहीं हुई,
बहुत गुस्सा आया .

झल्लाते हुए घर पहुंचे .
…….

तो देखा
दादी 😊😊😊😊😊
कुर्सी पर बैठी
मुस्करा रही थी.

.
दादा,
लाल पीले होते हुए
😡😡😡😡😡😡

” तुम आयीं क्यों नहीं ?”

दादी,
😋😋😋शरमाते हुए.
👧👧👧👧👧👧

.”मम्मी ने आने नहीं दिया.”
😜😜😜😜😜😂😂😂
 




एक 88 वर्ष के बुज़ुर्ग से शेयर दलाल ने कहा….

” दादा ये रिलायन्स के शेयर ले लो,
एक साल में भाव डबल हो जायेंगे…

दादा ने जवाब दिया..

” बेटा.. .
मैं उम्र के उस कगार पर हूँ
कि “केले” भी कच्चे नही खरीदता..!!
😂😂😂😂😂
😜😜😜😜







एक युवक ने एक बुजुर्ग से पूछा “चाचाजी मुझे क्या बनना चाहिए,
किस क्षेत्र में अच्छा कॅरियर बन सकता है?”

चाचाजी ने उत्तर दिया
“इंसान बन जा इसमें फिलहाल बहुत स्कोप है
और कॉम्पिटिशन तो बिल्कुल भी नहीं है !!”






प्यार में पड़े लड़के...
.
और गर्म चाय में डूब रहे बिस्किट को...
.
.
कोई नहीं बचा सकता...!!!

 






सवाल - जीवन क्या है?
.
.
.
जवाब - मोबाइल से बचा हुआ समय...!!!

 





जो दोस्त मुझे रोज कहता था कि भाई...
.
तेरे लिए तो जान भी हाजिर है...
.
.
आज उसी ने मोबाइल में पासवर्ड
टाइप करते हुए कहा- तू उधर देख...!!!


 





मेरे जल्दी जगने से घर वालों को
कोई खुशी नहीं होती...
.
.
क्योंकि उनको पता है...
.
जल्दी उठकर भी मोबाइल
में ही घुसा रहेगा...!!!







कल पत्नी ने सिर्फ इतना ही कहा...
.
थोड़े दिनों के लिए मायके जाके आती हूं...
.
कसम से...
.
करैले की सब्जी भी पनीर जैसी लगने लगी...!!!








एक प्रेमी अपनी प्रेमिका की जुल्फों में ऐसा खोया कि...
.
बेहोश हो गया...
.
.
जब होश में आया तो रोमांटिक होकर पूछा-
जानू नहाती नहीं हो क्या...!!!

 
 
 

यह भी पढ़े Top 10 Most Iconic Movie Characters of all time Mithun Chakraborty

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे