यती मार पाई करलाने, की दरद ना आया सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

यती मार पाई करलाने, की दरद ना आया


5:20 पर गोलियां चलने बंद हुई। जब तक शहर के लोग कीमत करके अपने-अपने परिजनों को ढूंढने भाग तक पहुंचे, तब तक कर्फ्यू लगने का समय हो चुका था।
डायर ने हुकुम दिया था कि 8:00 बजे के बाद जो कोई भी सड़क पर दिखे उसे गोली मार दिया जाए।
5:20 minute par goliya chalne band hui.
jab tak shehar ke log himmat Karke Apne Apne pariyon ko dhoondhne baat tak pahunche, tab tak curfew lagne ka samay ho chuka tha.
dayan hukum Diya ki 8 baje ke baad Jo koi bhi sadak par dikhai de use goli maar Di jaye.
इसीलिए जो लोग हिम्मत कर के अपने परिजनों को ढूंढने 7:00 बजे तक बाग में पहुंचे थे, वह भी 8:00 बजने से पहले ही, अपने घरों को लौट आए। अगर किसी को अपने मित्र या रिश्तेदार की लाश मिली थी, तो वह उसे अपने साथ ले जाने की स्थिति में नहीं था। इसीलिए अधिकतम ला से वही बाग में ही पड़ी रही। विद्या, नीरू के पास पहुंची, उसने नीरू को पहचान लिया।
isiliye Jo log himmat Kar ke Apne pariyon ko dhun ne 7 baje tak baag mein pahunche bhi the, weh bhi 8 bajne se  pahle hi, Apne ghar ko laut aye.
दो बार पहले ही देख चुकी थी वह उसे। नीरू उठ कर बैठी और दीवार से टेप लगाकर बैठ गई। उसकी सास बहुत तेजी से चल रही थी। उदम ने उसे पानी पिलाया। पानी पीकर नीरू थोड़ा थोड़ा सैफ अली और एकदम अपने आसपास देख  के बोली, वह बच्चा ‌ उधम सिंह ने बच्चे को उठाया और नेहरू के पास लेकर आया।
तुम्हारा बच्चा है विद्या ने नीरू से पूछा । नहीं देश का बच्चा है, नीलू बोली। नीरू ने उठने की चेष्टा की तब उसे अपने पैर में धंसी गोली का एहसास हुआ गोली उसे बाएं पैर के अंगूठे के पास से घुसी थी और पैर को चीरती हुई आधी से ज्यादा तलवे से बाहर निकल गई थी।
वीरे नीरू ने हमसे कहा मेरी गोली निकाल दे।
नहीं बहना बहुत तकलीफ होगी चल मैं तुझे अस्पताल में चलता हूं उधम ने कहा। क्यों मजाक कर रहा है वीरे फिरंगीओं के किस अस्पताल में जगह मिलेगी मुझे? तू गोली निकाल। मैं दर्द सह लूंगी।
बहन जिद मत कर। यहां कोई ऐसा तरीका नहीं है जिससे कि मैं यह गोली निकाल सकूं।
उन दोनों की बातें बाघ के वीराने में गूंजी तो उन्हें सुनकर निम्मो वहां आए । नीरू को देखते ही वह बोली नहीं हो तो ठीक है?
हां मैं ठीक हूं, नीलू ने कहा यह था कि उसके पैर में जोर का दर्द उठा। उसने हॉट खींच कर आकाश की ओर देखा, तो एक नई मुसीबत उसे जलिया वाले बाग की और आती दिखाई दी। खून और मुर्दा जिस्मो कि वह घूमते आवारा कुत्ते और गिद्ध जलियांवाला बाग की जमीन और आकाश पर मंडराने लगे थे।
नीरू ने बच्चा विद्या के हवाले किया और उधम से बोली वीर्य रखवाली करनी होगी हमें। कुत्तों के आने की आवाज तब तक सभी को आ चुकी थी। रती देवी ने वहां बड़ी एक लाठी उठाई और छज्जू राम के आसपास घूमती कुत्तों को वहां से हटाया। उधम ने भी एक लाठी उठाई और कुत्तों की तरफ दौड़ा। नीरू एक टांग पर खड़ी हो गई और वह भी लाठी उठा कर लाशों और घायलों की रक्षा में जुट गई ।
विद्या ने भी एक हाथ में बच्चे को पकड़ और दूसरे हाथ में डंडा लेकर कुत्तों को लाश से दूर करने लगी। कर्फ्यू का सायरन बज उठा। शहर का सन्नाटा और भी बढ़ गया। तभी उस कुछ सन्नाटे को चीरते हुए बाबा नानक के एक शब्द की आवाज उन चारों ने सुनी। यह आवाज भाई भाग सिंह की थी जो कि उस वक्त जलियां वाले बाग में प्रवेश कर रहा था उधम सिंह ने भाग सिंह को देखा तो दौड़कर अपने बाबा जी से गले मिला। उसकी आंखों से आंसुओं की धारा वह निकली।
बाबा जी वीरा उधम ने साधु सिंह की लाश की ओर इशारा किया। भाई भाग सिंह ने उधम के सिर पर हाथ रखा और गुरु नानक का शब्द गाना जारी रखा। गुरु के वाक्यों में उन चारों की मौत कई गुना बढ़ा दी और वह रात भर लो और घायलों की रक्षा करते रहे।
विद्या ने बीते घंटों में एक बार भी गोपाल के बारे में नहीं सोचा था। इस भयावह मंजर ने विद्या को उसके पिता की ओर से अभय मुक्त कर दिया था।
गोपाल कहां था?
क्या जलिया वाले बाग में लाश बना पड़ा था?
या घायल हुआ डॉक्टर की सहायता का इंतजार कर रहा था?
या फिर वह भला चंगा घर में बैठा विद्या के लिए चिंतित हो रहा था?
इन सब सवालों से विद्या उस घड़ी आवाज थी? मैं जरूर जानता हूं कि गोपाल का क्या हुआ लेकिन इस वक्त में भी इतना की तरह सब कुछ भूलकर 100 साल पुराने उस दर्दनाक मंजर में भाई भाग सिंह की करुणामई ममतामई आवाज में बाबा नानक की बानी सुन रहा हूं और चाहता हूं कि आप भी उसे सुने और उसका मार्मिक अहसास महसूस करें।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Famous Love Shayari Of These Five Noted Urdu Poet होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते

  Bashir badr shayari  बशीर बद्र की नज़्मों में मोहब्बत का दर्द समाया हुआ है। उनकी शायरी का एक-एक लफ़्ज़ इसका गवाह है। Bashir badr shayari     होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते साहिल पे समुंदर के ख़ज़ाने नहीं आते पलकें भी चमक उठती हैं सोते में हमारी आंखों को अभी ख़्वाब छुपाने नहीं आते दिल उजड़ी हुई इक सराये की तरह है अब लोग यहाँ रात जगाने नहीं आते उड़ने दो परिंदों को अभी शोख़ हवा में फिर लौट के बचपन के ज़माने नहीं आते इस शहर के बादल तेरी ज़ुल्फ़ों की तरह हैं ये आग लगाते हैं बुझाने नहीं आते अहबाब भी ग़ैरों की अदा सीख गये हैं आते हैं मगर दिल को दुखाने नहीं आते मोहब्बत के शायर हैं जिगर मुरादाबादी इक लफ़्ज़-ए-मुहब्बत का अदना सा फ़साना है सिमटे तो दिल-ए-आशिक़, फ़ैले तो ज़माना है हम इश्क़ के मारों का इतना ही फ़साना है रोने को नहीं कोई हंसने को ज़माना है ये इश्क़ नहीं आसां, बस इतना समझ लीजे एक आग का दरिया है और डूब के जाना है     जिगर मुरादाबादी शायरी     वो हुस्न-ओ-जमाल उन का, ये इश्क़-ओ-शबाब अपना जीने की तमन्ना है, मरने का ज़माना है अश्क़ों के तबस्सुम में, आहों के तरन्नुम में मासूम मुहब्ब