Annpurna gaon pahunch te hi wahan ki aabo hawa Hawi hone lagi सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Annpurna gaon pahunch te hi wahan ki aabo hawa Hawi hone lagi

वस्तु विनिमय का दौर था। गर्मियों की छुट्टियों में दादा दादी की गांव जाना जरूरी होता था।
पापा का कहना था कि अन्य धन देने वाली जन्मभूमि और अन्नपूर्णा मां के दर्शन, वंदन और चरण स्पर्श आजीवन करते रहना चाहिए।


हम जैसे ही गांव पहुंचे, वहां की आबो हवा हम पर हावी होने लगी थी। मस्त मस्त पुरवा के झोके, चाचा जी का हम बालकों को खेतों में घुमाना, खलिहान में गेहूं की पकी बालियों से गेहूं के दाने निकालना, फिर से सुपो में भर भरकर फटककर भूसे (सूखा चारा) और गेहूं को अलग अलग करते हुए देखना, सरसों ताई की दुकान से गेहूं के बदले दाल, सेव और संतरी टोफी खाना नहर में देर तलक नहाना बस मजा आ जाता।


आज मेरे चचेरे भैया को किसी कोर्स के लिए अपनी फीस जमा कराने शहर जाना था।
चाचा जी ने फीस के ₹5 देकर ताकीद किया था संभाल कर रखना।
जाने कैसे वह पैसे खो गएं और भैया बेहद दुखी थे।


ले सोहन मेरे पास ₹2 तो है। अरे भाई पूरे पैसे दूंगा तभी काम होगा चलो रास्ते में कर्मों ताऊ जी के खलिहान होकर चलेंगे।
तुम्हें मस्करी सोच रही है मेरी तो जान निकल रही है बाबा खूब मारेंगे आज तो।
मैंने खलिहान की और साइकिल घुमा दी वहां ताऊ जी को गेहूं भटकते देख मेरी आंख चमक उठी।
आओ बालको तुम भी हाथ बटाओ । हमें क्योंकि ढेरों पर चढ़कर अपने स्पोर्ट्स शूज दोनों से भर लिए थे।



खुश होकर ताऊ जी बोले, बहुत काम कराया और को... शाबाश इनाम मिलेगा दोनों बालकों को, जब  कहोगे ।
बस दोनों को दो-दो खोच भरकर गेहूं दे दो ताऊजी...
हम कुछ खा लेंगे खरीद कर, मैं बोला।
उन्होंने हमें एक थैले में हाथों से भर-भरकर क्यों दिए।



हमने उन्हें बनिए को वेदर पैसों का इंतजाम करके फीस चुकाई ।
दोनों भाई गले मिले। हमने धरती मां को छू कर प्रणाम किया। सचमुच अन्नपूर्ण है यह धरती मैं सोचता रहा था।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे