Garmi ki chuttiyan ekdum se khatam ho gayi  सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Garmi ki chuttiyan ekdum se khatam ho gayi 

Garmi ki chuttiyan ekdum se khatam ho gayi 


म्योप मुर्गी खाने से सूअरों के बाड़े तक, और वहां से धोएं वाले कमरे में चुदाती हुई चली गई उसको लगा उसने सुहाने दिन उसने पहले कभी नहीं देखें।

उत्सुकता भरी हवा चारों और पसरी हुई थी जो उसकी नाक में रह-रहकर चिकोटि कर रही थी।
मक्का, कपास, मूंगफली, और स्क्वांश की फसल बच्चों की थी और हर रोज इसके साथ जुड़ा हुआ नया तजुर्बा उसको खूब उत्साहित कर रहा था।

इस अनूठे आनंद से उसका शरीर सिहर जाता।
म्योप के हाथ में एक छोटी सी गोल हाथ वाली घड़ी थी, जो चूजा उसको लुभाता हौले से उसके ऊपर वह छड़ी का सिरा रख देती और सुअरों के बाड़े के घेरे के इर्द गिर्द अपनी पसंद के एक गाने की धुन गुनगुनाते हुए घूम रही थी।

धूप की तपिश में वह खुश और हल्का महसूस कर रही थी। वह टीवी तो महज 10 साल की और उसके लिए उसका गीत और सांवली हथेली में थामी हुई छड़ी सरीखे साजो सामान के शिवा भला किस और चीज का महत्व था।

म्योप वहां अपने केबिन से धीरे-धीरे आगे बढ़ती हुई आहतें के तार लगे बाढ़ तक आई, तो सामने हाल की बरसात में बन गए एक नाले पर उसकी नजर पड़ी।
इस नाले से ही उसके घर का पीने का पानी जाता था।

उसके आसपास सिल्वर फर्न और जंगली फूल खिले हुए दिखे। इसके पास अकर सूअर लौटते थे। म्योप का ध्यान मिट्टी के ऊपर काली औरत के बीच से बाहर निकलते सफेद बुलबुलों की और अनायास चला गया,

जिनके कारण गीली मिट्टी कभी उठ रही थी कभी गिर रही थी
घर के पीछे के जंगल में म्योप पहली बार नहीं आई थी इधर आना उसका प्रिय शगल था।

पतझड़ के मौसम में नीचे गिरी पत्तियां के बीच से बादाम के फल बिन कर लाने के लिए उसकी मां कई बार उसको इधर लेकर आती थी। आज वह अपने आप इधर आ गई डालियों को इधर-उधर परे हटाती हुई पर उसका ध्यान हर पल सांपों से बचने पर लगा रहा।

फर्न और दूसरे फूल पत्तियों के अलावा आज म्योप को नीले रंग की अजीब से फूल और झांकी तरह दिखने वाले भूरे रंग की कलियों के गुच्छे दिखाई दिए, जिम से खूब भीनी भीनी सुगंध आ रही थी।

12 बस्ते बस्ते वहां अपने घर से कोई नील भर आगे निकल आई थी और उसके दोनों हाथ डालियों और फूलों से भरे थे।ऐसा नहीं कि पहले कभी वह इतनी दूर तक नहीं आई थी पर आज वह जहां आप होती थी वह अजनबी तो लग रहा था, कहीं कुछ गड़बड़ भी लग रहा था।

वह एक संकरे खोह मैं पहुंच गई थी जिसमें पहले से कुछ उचाटपन मौजूद था। हवा नमी से भरी थी और आसपास बहुत गहरा सन्नाटा पसरा हुआ था।
इन सब से घबराकर म्योप घर की ओर वापस मोरनी को हुई शांत माहौल में जैसा सुबह सुबह घर से निकलते हुए उसको अहसास हुआ था। होते ही म्योप की नजर उसकी आंखों से जा टकराई दरअसल म्योप की जूती की हील उसकी मां और नाक के बीच के गड्ढे में फस गई थी उसको डर नहीं लगा लेकिन घबरा कर वह अपने गांव निकाल कर नीचे की ओर चली गई।


जब उसने उसके नंगी चेहरे को होले होले मुस्कुराते हुए देखा तो घबराहट में उसके मुंह से चीख निकल गई। वह लंबे कद का आदमी था पांव से लेकर गर्दन तक का घर एक तरफ और कटा हुआ सिर दूसरी तरफ पड़ा हुआ था। जब म्योप ने जिज्ञासावश पत्तियां, टहनिया और जमी हुई मिट्टी वहां से हटाने तो उसके बड़े बड़े सफेद दांत चमकते हुए दिखाई दिए। हालांकि नजदीक जाकर देखा तो उसमें से एक भी साबूत नहीं बचा था।

सब टूटे हुए थे लंबी उंगलियां और चौड़ी हड्डियां। उसके कपड़े तार तार होकर गल चुकी थी बस ब्लू डेनिम के कुछ धागे यहां वहां बचे हुए थे। उसके ओवरऑल के बकल अपनी चमक खो चुके थे और हरे रंग की दिख रहे थे।

म्योप ने इधर उधर निगाह दौड़ाई जहां उसका सिर पड़ा था उसके बिल्कुल पास जंगली गुलाब का गुलाबी फूल सिर उठाए खड़ा था। जैसे ही म्योप उसको तोड़ने झुकी और हथेलियों की अपने खजाने में शामिल किया उसकी नजर गुलाब के पौधे की जड़ के पास गोल उभरी हुई तीली नुमा जमीन पर पड़ी, जिसके ऊपर एक गोला बना हुआ सा दिखा।

नजदीक जाकर देखा तो यह गले में डालने वाले फांसी के फंदे का अवशेष था जिससे लंबा रस्सा बांधा हुआ था जो अब सड गलकर धीरे धीरे मिट्टी का हिस्सा बनने लगा था।


निकट है ओक एक विशाल वृक्ष खड़ा था ।
सड गलकर बदरंग और तार तार हो गया था पर हवा चलने से लगातार फड़फड़ा रहा था। इसको देखते ही म्योप के हाथ से चेतन सेठा में सारे फूल और टहनियां फौरन वहीं जमीन पर छूट गए।
म्योप की गर्मी की छुट्टियां वही एकदम से खत्म हो गई।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे