Hindi shayari iss saal ki chuttiyon Ka plan hindishayarih.in सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Hindi shayari iss saal ki chuttiyon Ka plan hindishayarih.in

१) एक दोस्त: इस साल छुट्टियों का क्या प्लान है?
दूसरा दोस्त: कुछ खास नहीं, पिछले साल यूरोप नहीं गए थे इस साल अमेरिका नहीं जाएंगे।


२) एक लड़की को अनजान नंबर से फोन आया।
लड़का -  हेलो!
लड़की - कौन हो तुम?
लड़का - मेरी बात तो सुनो !
लड़की - मुझे कुछ नहीं सुनना, मैं शादीशुदा हूं
और मेरे पास बहुत अच्छा पति है!
लड़का - वह पति मेरे पास है! मैं थाने से बोल रहा हूं। अपने पति को ले जाओ, लड़की छेड़ता पकड़ा गया है। 藍


३) पति पेप्सी को सामने रखकर दास बैठा था।
पत्नी आई और पेप्सी पी गई और बोली आज आप उदास क्यों हैं?
पति : आज तो दिन ही खराब है। सुबह तुमसे झगड़ा हो गया, रास्ते में कार खराब हो गई। ऑफिस लेट पहुंचा, बॉस ने नौकरी से निकाल दिया। अब सुसाइड करने के लिए पेप्सी में जहर मिलाया था, वह भी तो पी गई। 藍




४) टीचर: चलो बताओ 4 और 4 कितने होते हैं?
रामू : 10 होते हैं......
टीचर : 8 होते हैं ..... नालायक
रामू : मैं बहुत दिलदार घर से हूं, दो मैंने अपने खुद से भी डाले हैं। 藍




1)Ek dost : is saal chuttiyon ka kya plan hai ?
Dusra dost : Kuch khaas Nahin, pichle saal Europe Nahin gaye the is baar America nahi jayenge.



2)Ek ladki ko anjaan number se phone aaya !
Tadka - hello
Ladki - kaun ho tum ?
Ladka - meri baat to suno
Ladki - mujhe kuch nahi sunna main shadi shuda hoon aur mere paas bahut accha Pati hai !
Ladka - Wo pati hamare paas hai ! main Thane se bol raha hoon Apne pati ko le jao ladki chhedta pakda gaya hai.




3) Pati : Pepsi ko samne Rakh kar baitha tha.
Patni aur Pepsi pee gayi aur boliye aaj aap bahut udas kyun hai ?
Pati : aaj to din hi kharab hai. Subah tumse jhagda ho Gaya, raste mein kal kharab ho gayi.
Office late pahuncha, boss ne Naukri se nikal Diya.ab suicide karne ke liye Pepsi jahar milaya tha, Wo bhi tum bhi gayi .





4) Teacher : chalo batao char char kitne hote Hain ?
Ramu : 10 hote Hain .....
Teacher : 8 hote hain ... nalayak
Ramu : main bahut dildar Ghar se hoon, do main Apne khud se bhi dale hai .






Ek shayari


लिखना था कि
खुश है तेरे बगैर भी यहां हम
मगर कमबख्त....
आंसू है कि कलम से पहले ही चल दिए।




Likhna tha ki
Khush hai tere bagair bhi yahan hum
Magar kambakht
Aansu hai ki kalam se pahle ki chal diye.




इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे