New Hindi jokes सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

New Hindi jokes

१)पत्नियां अपने पति को इतना सताती है।
उतना ही पत्नियों को कामवाली बाई या सताती हैं
सब कार्मों का फल है।


1)Patniya Apne pati ko itna satati hai
Utna hi patniyon ko kam wale bhai satati hai.
Sab karmo Ka fal hai.


२)क्या जमाना आ गया है, लड़कों पर फिल्म बनी एक था टाइगर।
लड़कियों पर फिल्म बनी एक थी डायन ।


2)Kya jamana aa gaya hai, ladko par film Bani Ek tha Tiger.
Ladkiyon par film Bani Ek thi daayan.


३)बड़ी खोजबीन के बाद अब कहीं जाकर एडमिन का हिंदी नाम मिला 'झुंड नियंत्रक'
और सेल्फी का भी नया हिंदी नाम मिल गया है। 'खुदखेचू'
व्हाट्सएप का हिंदी शब्द 'जन धन निशुल्क गपशप योजना'


3)Badi khoj bhigne ke bad ab kahin jakar 'admin' ka Hindi naam Mila jhund niyantrak.

Aur selfie ka bhi naya Hindi na mil Gaya hai 'khud khechu'
WhatsApp ka Hindi shabd 'Jan dhan nishulk gup shap yojana'


एक भारत रत्न उन लड़कियों को भी देना चाहिए,
जो शैंपू खत्म हो जाने पर उसमें पानी मिलाकर 3 से 4 दिन और चला लेती हैं।


Ek Bharat Ratna ladkiyon ko bhi dena chahiye,
Jo shampoo khatam ho jane par usme Pani Milakar, teen chaar din Chala dete Hain.


भारतीय महिला भी अजीब होती हैं ।
दोपहर में पड़ोसन से पति की बुराई करती हैं और शाम को पति से पड़ोसन की


Bhartiya mahila bhi ajeeb hoti hai. dopahar mein padosan se Pati ki burai Karti Hain aur Shyam ko pati se padosan ki

Har Kisi ko safai mat dijiye,
Aap insaan Hain, detergent powder Nahi.


हर किसी को सफाई मत दीजिए,
आप इंसान हैं, डिटर्जेंट पाउडर नहीं।


एक शायरी

बेवफा हम हैं
ये ऐलान किए देते हैं
चल तेरे काम को 
आसान किए देते हैं।



Ek shayari


Bewafa hum Hain
Yeh elaan kiye dete Hain 
chal tere kaam ko
aasan kiye dete Hain

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Famous Love Shayari Of These Five Noted Urdu Poet होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते

  Bashir badr shayari  बशीर बद्र की नज़्मों में मोहब्बत का दर्द समाया हुआ है। उनकी शायरी का एक-एक लफ़्ज़ इसका गवाह है। Bashir badr shayari     होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते साहिल पे समुंदर के ख़ज़ाने नहीं आते पलकें भी चमक उठती हैं सोते में हमारी आंखों को अभी ख़्वाब छुपाने नहीं आते दिल उजड़ी हुई इक सराये की तरह है अब लोग यहाँ रात जगाने नहीं आते उड़ने दो परिंदों को अभी शोख़ हवा में फिर लौट के बचपन के ज़माने नहीं आते इस शहर के बादल तेरी ज़ुल्फ़ों की तरह हैं ये आग लगाते हैं बुझाने नहीं आते अहबाब भी ग़ैरों की अदा सीख गये हैं आते हैं मगर दिल को दुखाने नहीं आते मोहब्बत के शायर हैं जिगर मुरादाबादी इक लफ़्ज़-ए-मुहब्बत का अदना सा फ़साना है सिमटे तो दिल-ए-आशिक़, फ़ैले तो ज़माना है हम इश्क़ के मारों का इतना ही फ़साना है रोने को नहीं कोई हंसने को ज़माना है ये इश्क़ नहीं आसां, बस इतना समझ लीजे एक आग का दरिया है और डूब के जाना है     जिगर मुरादाबादी शायरी     वो हुस्न-ओ-जमाल उन का, ये इश्क़-ओ-शबाब अपना जीने की तमन्ना है, मरने का ज़माना है अश्क़ों के तबस्सुम में, आहों के तरन्नुम में मासूम मुहब्ब