Stree strotam Hindi story सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Stree strotam Hindi story


इस पूजा में अश्रु जल ही पा‌ध है,


दीर्घ वास ही अर्ध्य है, आश्वासन है आचमन है
मधुर भाषण ही मधुपर्क है, सुवर्णालंकार ही पुष्प है, दर ही धूप है, दीपक ही, चुप रहना ही चंदन है और बनारसी साड़ी ही बिल्वपत्र है, आयु रूपी आंगन में सौंदर्य तृष्णा रूपी खूंटा है ।
देविका सुहागी खबर है और प्रीति ही तलवार है, प्रत्येक शनिवार की रात्रि इसमें अष्टमी है और पुरोहित यौवन है।

परदादी उपचार करके होम के समय यौवन पुरोहित उपासक के प्राण समिधाओं में मोहाग्नि लगाकर सर्व नाश तंत्र में मंत्रों से आहुति दे मानव खंड के लिए निद्रा स्वहा   
बात मानने के लिए मां-बाप का बंधन सुहाग स्वास्थ्य अलंकार दिन के लिए यथा सर्वस्व मन प्रसन्न करने के लिए यहां लोक परलोक स्वाहा इत्यादि होम के अंतर हाथ जोड़ कर स्थिति करें

स्त्री देवी संसार रूपी आकाश में तुम गुब्बारा हो क्योंकि बात बात में आकाश में चढ़ा देती हो व्हाट्सएप धक्का दे देती हो तब समुद्र में डूबा ना पड़ता है अथवा पर्वत शिखरो पर हाड़ चूर्ण हो जाते हैं जीवन के मार्ग में तुम रेलगाड़ी हो जिस शब्द रचना रूपी इंजन तेज करती हो एक घड़ी भर में 14 भुवन दिखला देती हो।

कार्यक्षेत्र में तुम इलेक्ट्रिक टेलीग्राफ हो बात बढ़ने पर एक निवेश में उसे देश देशांतर में पहुंचा देती हो तुम भवसागर में जहाज हो, बस आज हम को प्यार करो तुम इंद्र शवसुर कुल के दोष देखने के लिए तुम्हारे सहस्त्र नेत्र हैं ।

स्वामी पर शासन करने को तुम वजपाणि हो। रहने का स्थान अमरावती है, क्योंकि जहां तुम हो वही स्वर्ग है तुम चंद्रमा हो तुम्हारा हास्य कौमुदी है, उससे मन का अधिकार दूर होता है तुम्हारा प्रेम रीत है जिसके प्रबंध में होता है वह इसी शरीर से स्वर्ग सुख अनुभव करता है और लोग में जो तुम व्यर्थ पराधीन कहलाती हो यही तुम्हारा मन का कंकाल है

तुम वरुण हो, क्यों की इच्छा करते ही अश्रु जल से पृथ्वी आर्द् कर सकती हो। तुम्हारे ने तेजल को देख हम भी गल जाते हैं। तुम सो रहे हो तुम्हारे ऊपर वालों का आवरण है पर भीतर अंधकार का वास है।

हमें तुम्हारे एक घड़ी भर भी आंखों के आगे ना रहने से दसो दिशा अंधकारमय मालूम होता है, पर जब माथे पर चढ़ जाती हो तब तो हम लोग उतार के मारे मर जाते हैं। तुम ही हो क्योंकि जगत के प्राण हो। तुम्हें छोड़कर कितनी देर जी सकते हैं? एक घड़ी भर तुम्हें देखे बिना प्राण तड़फड़ाने लगते हैं,

 जल में डूब जाने की इच्छा होती है, पर जब तुम प्रखर बहती हो, किस बात में समर्थ है कि तुम्हारे सामने खड़ा रहे।
तुम यम हो, यदि स्त्री को बाहर से आने में विलंब हो तो तुम्हारे वक्तृत्ता नर्क है। यह यातना जिससे ना सहने पड़े वहीं पुण्यवान है, उसी की अंत तपस्या है।


तुम अग्नि हो, कैसे दिन रात हमारी हड्डी हड्डी चलाया करती हो, तुम्हारी नाथ तुम्हारा सुदर्शन चक्र है। उसके भाई से पुरुष असुर माथा मुड़ा कर तटस्थ हो जाते हैं। जो कोई मन से तुम्हारी सेवा करें तो सशरीर बैकुंठ को प्राप्त कर सकता है।
तुम हुमा हो, तुम्हारे मुख से जो कुछ बाहर निकलता है वही हम लोगों का वेद है और किसी वेद को हम नहीं मानते। तुम्हारे चार मुख हैं, क्योंकि तुम बहुत बोलती हो। सृष्टि कर्ता प्रत्यक्ष ही हो।


तुम शिव हो, सारे घर का कल्याण तुम्हारे आधीन है।
भुजंग बेनी धारणी हो। त्रिशूल तुम्हारे हाथ में है।
क्रोध में तुम्हारे कंठ में विश है, तो भी आशुतोष हो। इस दिव्य स्त्रोत पाठ में तुम हम पर प्रसन्न हो जाओ। समय पर भोजनादि दो, बालकों की रक्षा करो भृकुटी धनु के संधान से हमारा वध मत करो और हमारे जीवन को अपने कोप से कटकमय मत बनाओ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे