Tum har baat par chutkula सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Tum har baat par chutkula

१)पति : तुम हर बात पर हमेशा मेरा मेरा कहती हो, तुम्हें हमारा कहना चाहिए।
पत्नी : कुछ ढूंढ रही होती है अलमारी में ।
पति : क्या ढूंढ रही हो ?
पत्नी : हमारा पेटिकोट 藍


२) पत्नी (गुस्से में) : मैं घर छोड़ कर जा रही हूं।
पति (गुस्से में) : हां जान छोड़ो अब।
पत्नी : बस आपकी यही 'जान' कहने की आदत ना हमेशा मुझे रोक लेती है।


३) वर्मा जी वकील से : मुझे अपनी पत्नी से तलाक चाहिए,
वह पिछले कुछ महीने से मुझसे बात नहीं कर रही है।
वकील : एक बार अच्छी तरह से सोच लो,
ऐसी पत्नी बार-बार नहीं मिलती ।藍





४) सोनू : मेरे साथ धोखा हुआ है ।
     मोनू :क्या हो गया ?
    सोनू : किसी ने मुझसे कहा कि पेड़ से हमें शीतल छाया मिलती है
   मोनू : हां तो यह तो सही है न ।
  सोनू : अरे 3 दिन से पेड़ के नीचे ठंडे में बैठा हूं ना शीतल आई ना छाया 藍



1) Pati : Tum har baat par hamesha mera mera Kahti ho,
tumhe hamara kehna chahie
Patni : kuch dhoond rahi Hoti hai almari mein
Pati : kya dhoond rahi ho ?
Patni : hamara petticoat .



2) Patni : (gusse mein) main Ghar chhod Kar ja rahi hoon
Pati : (gusse mein) haan Jaan chodo ab.
Patni : bas aap ki yahi Jaan kehne ki aadat na hamesha mujhe rok leti hai .


3) Verma ji vakil se : mujhe apni Patni se talak chahiye,
wah pichle 6 mahine se mujhse baat nahin kar rahi .
Vakil : ek baar acche Tarah se Soch lo,
aisi Patni baar baar Nahi milti


4) Sonu : mere sath dhokha hua hai.
Monu : kya ho Gaya ?
Sonu : Kisi ne mujhse kaha ki ped se hamein shital Chhaya milti hai.
Monu : ha to yeh To sahi hai na .
Sonu : are teen din se ped ke niche thand mein baitha hoon.
na sheetal aai na Chhaya. 藍




शायरी

हमें खुश रहने की अपनी ख्वाहिश को
अब नाकाम ही हो जाने दो ....
ना जाने क्यों यह गम ही रास आ रहा,
हमें इसी में डूब जाने दो....।



Ek Shayari

Hame Khush rehne ki Apne khwahish ko,
Ab nakaam hi ho Jane do....
Na jaane kyon ya gum Ek ras aa raha
Hamein esi mein doob jaane do .

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे