Dhanish ruhi aur rakt daan Hindi story धनिश रोही और रक्तदान सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Dhanish ruhi aur rakt daan Hindi story धनिश रोही और रक्तदान





एक छोटे उम्र बच्चे की कहानी, जिसने अपनी बड़ी बहन को बचाने के लिए खुशी-खुशी अपना खून दिया।
डॉक्टर सुनील शहर के नामचीन सर्जन थे। वह स्वभाव से बहुत विनम्र थे और सब को सेवा दृष्टि से देखते थे। एक बार उन्हें एक कॉलेज में बतौर मुख्य अतिथि बनाया गया।
वहां उन्होंने कहा, एक डॉक्टर होने के नाते मैं समाज में कई तरह के लोगों से मिलता हूं। रोज मुझे अलग-अलग होते हैं। लेकिन कुछ अनुभव ऐसे होते हैं, जो जीवन भर याद रह जाते हैं।

उन्हीं में से एक अनुभव में आज आपसे बांट रहा हूं। एक बार मेरे अस्पताल में 8 वर्ष के एक लड़की रूही विराज के लिए आई। उसके शरीर का खून धीरे-धीरे खराब हो रहा था।
जिससे उसके शरीर के कई अंगों पर पड़ने लगा था। उसे रक्तदान यानी ब्लड ट्रांसफ्यूजन की जरूरत थी। रूही का एक छोटा भाई था दानिश, जो 5 साल का था। लगभग 1 साल पहले दानिश को भी कुछ ऐसे ही बीमारी हुई थी।लेकिन दानिश के खून में वैसी रोग प्रतिरोधक कोशिकाएं थी, जिस कारण व एकदम स्वस्थ था।

मैंने नन्हे से दानिश से पूछा, क्या वह अपनी बहन को बचाने के लिए अपना खून देने को तैयार है। कुछ देर तक चुप रहने के बाद उसने पूछा, क्या मेरी बहन मेरे खून से ठीक हो जाएगी ? जब मैंने कहा हां, तो वहां झट से तैयार हो गया।


ट्रांसफ्यूजन की तैयारी शुरू हुई। कुछ ही देर में दानिश के शरीर से खून निकालने की प्रक्रिया शुरू हो गई। दूसरी तरफ रूही को खून चढ़ रहा था। रूही के गालों में लाली देखकर दानिश मुस्कुरा रहा था। जब मैं उसके पास गया, तो उसने मुझसे पूछा, अंकल, क्या अब मैं मरने वाला हूं ?

दानिश को यह  लगा रहा था कि शायद उसका सारा खून रूही को दे दिया जाएगा और वह मर जाएगा। फिर भी मुस्कुराता हुआ वह अपनी बहन को खून देने के लिए तैयार था। उस एक घटना ने मेरे अंदर बहुत कुछ बदल दिया।

छोटे-छोटे बच्चे अक्सर हमें बड़ों से बेहतर शिक्षा दे जाते हैं

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे