kathirikai kuzhambu baigan ki tikhi Karee( कतरीकाय कारै कोजुम्बू ) सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

kathirikai kuzhambu baigan ki tikhi Karee( कतरीकाय कारै कोजुम्बू )










आमतौर पर तमिलनाडु के लोग अपने लंच के लिए कोजुम्बू व्यंजनों की विभिन्न किस्मों को बनाना पसंद करते हैं ‌। कई घरों में हफ्ते में कम से कम 7 किस्म के कोजुम्बू बनाए जाते हैं। इनमें से एक है, बैगन से तैयार कोजुम्बू, जिसका अलग ही स्वाद होता है। और हां, इसे बनाना भी आसान है



कतरीकाय कारै कोजुम्बू, यह मेरे पिता की बैचलर स्टाइल रेसिपी है। जब मैं छोटी थी, मेरी पिता काम के सिलसिले में 2 साल के लिए मुंबई में थे। वह अपने कुछ दोस्तों के साथ वहां बैचलर रूम में रहते थे। उसी दौरान उन्होंने अपने दोस्तों से कुछ सरल व्यंजनों को सीखो और खाना बनाना शुरू किया।
जब भी वह छुट्टियों में घर आते, हमारे लिए पसंद का खाना जरूर बनाते। मैं और मेरी बहन अप्पा की कुकिंग को ज्यादा पसंद करते थे, क्योंकि मम्मी की रूटीन खाने से छुटकारा मिल जाता था, कुछ अलग खाने को मिलता था।




मेरे अप्पा रसम और कारै कोजुम्बू बहुत अच्छे बनाते थे। यह सुबह की व्यस्तता के बीच बहुत जल्दी तैयार होने वाली आसान रेसिपी है। सबसे अच्छी बात यह है कि इसके लिए आपको कुछ भी अलग से पीसने की जरूरत नहीं है, इसलिए मैंने इसका बैचलर नुस्खा के रूप में उल्लेख किया है। इसे तैयार करने के लिए मैंने अपने पिता की रेसिपी का अनुसरण किया है।



मेरे अप्पा मुझे हमेशा इमली के रस में मसाला पाउडर और नमक मिलाने के बाद चखने के लिए देते थे, क्योंकि इस पानी से ही कोजुम्बू का स्वाद नहीं होता है। भले ही सामग्रियों सूची देखने में कुछ बड़ी लगे, लेकिन इसे रेसिपी को तैयार करने में लगभग 20 मिनट ही लगते हैं। मैंने बैगन (कतरीकाय) व साबुत लहसुन का इस्तेमाल किया है। अधिक स्वाद के लिए सहजन भी मिलाया जा सकता है।




सांभर पाउडर, लाल मिर्च पाउडर धनिया पाउडर का मिश्रण कोजुम्बू के ग्रेवी को बहुत गाढ़ा बनाते हैं। अच्छे स्वाद के लिए तिल का तेल इस्तेमाल किया जा सकता है।


सामग्री
इमली  - स्वादानुसार
मध्यम आकार के बैगन -4
सांभर पाउडर - डेढ़ बड़ा चम्मच
लाल मिर्च पाउडर -एक बटे दो छोटे चम्मच
धनिया पाउडर एक चम्मच
हल्दी पाउडर -1/4 चम्मच
गुड - एक चम्मच
नमक और पानी आवश्यकतानुसार




तड़के की सामग्री
तिल का तेल - 4 बड़ा चम्मच
साबूत सरसों - एक चम्मच
साबुत मेथी -  1/2 चम्मच
उड़द की दाल - एक चम्मच
जीरा - 1 चम्मच
चना दाल -1 चम्मच
हींग - एक चुटकी
दो लाल मिर्च, कुछ करी पत्ते, लहसुन की 8 से 10 कलियां
एक बड़ा प्याज (बारीक कटा हुआ)
टमाटर -2 (कटे हुए)


विधि
इमली का रस तैयार करने के लिए इमली को डेढ़ कप पानी में 10 मिनट के लिए भिगा दें। फिर मैश करके इसे छान लें। ऊपर दिए गए सभी मसालों को इस पानी में मिलाएं। बैगन को चाट रूम कटिंग और इसे पानी में डुबो कर रखें, ताकि इसका रंग खराब ना हो।




प्याज को बारीक काटें और लहसुन छील लें। अब एक कड़ाही में तेल गरम करें और तड़के की सारी सामग्री को उसमें डाल दें। सरसों के चटकते ही सारी सामग्री को मिलाएं और आंच को माध्यम कर ले। फिर इसमें प्याज, लहसुन की कलियां और करी पत्ते डालें। सुनहरा होने तक भूनें।



अब इसमें बैगन के टुकड़ों को डालें, कुछ देर पकने दें, फिर टमाटर के टुकड़ों को मिलाएं। मुलायम होने तक इसे भूनें। इसके बाद इमली का रस मिलाएं। गुरुवा आधा कप पानी डालकर इसे ढक दे, बैगन के पकने तक। आम तौर पर इसमें 8-10 मिनट लगते हैं।




इस दौरान आज मध्यम ही रखें। अगर इसमें पानी कम लगे, तो जरूरत के हिसाब से और पानी बना सकते हैं। ग्रेवी के गाढ़ा होते ही इसे चूल्हे से उतारे। अब इसमें एक बड़ा चम्मच तिल का तेल और कुछ करी पत्ते मिला कर ढक दें। आधे घंटे बाद सादे चावल के साथ परोसे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे