hindi shayari h in antariksh-ki-football सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

hindi shayari h in antariksh-ki-football


बड़े-बड़े कमाल दिखाती अंतरिक्ष की फुटबॉल


अंतरिक्ष के बगीचे में तरह-तरह के गुलाब, लाल-पीले गेंदा के फूल खिले थे। एक गमले में छोटे पीले संतरे, तो दूसरे में एक सेब और तीसरे में एक नीबू लटका था। बीच में हरी-हरी घास ही घास थी।

शाम के समय कभी पापा, कभी बुआ, कभी मम्मी के साथ वह टेनिस, बैडमिंटन या फुटबॉल खेलता था। सबके साथ वह खूब मस्ती करता। टीवी पर फुटबॉल खिलाड़ियों को देख, कुछ-कुछ वैसे ही करतब करने की कोशिश करता। उसके बाद दिन के वक्त दादाजी के साथ शतरंज खेलता। खेलते वक्त दादाजी उससे कहते, ‘देखो, अगर तुम यह चाल चलोगे, तो मैं तुम्हारे घोड़े को मार दूंगा।’ दादाजी उसे हर हाल में जिता देना चाहते थे।

सब हंसते। जब अंतरिक्ष उन्हें उनके ही बताए खेल से हरा देता, तो वह झूठ-मूठ रोने की एक्टिंग करते हुए कहते, ‘अरे, यह लड़का तो बहुत तेज हो गया है। ये तो हर बार मुझे हरा देता है। अब तो यह बहुत बड़ा शतरंज खिलाड़ी बनेगा।’

‘नहीं, मैं रोनाल्डो बनूंगा और ऐसे गोल मारूंगा।’ कहकर वह अपनी फुटबॉल की तरफ दौड़ता और जोर से उसमें किक जमाता। फुटबॉल कभी ऊपर छत पर गिरती, कभी पाइन के लंबे पेड़ों में उलझ जाती। एक रात जब आसमान में पूरा चांद उगा था और अंतरिक्ष ने खेल-खेल में फुटबॉल उछाली, तो वह कहीं जाकर अटक गई। उसने स्टूल पर चढ़कर देखने की कोशिश की, मगर कहीं हो तो मिले।

‘कहां गई फुटबॉल?’ उसने मम्मी से पूछा। मम्मी बोलीं, ‘कहां गई होगी। बाहर चली गई होगी। अब सवेरे जाकर उठाना।’

बुआ ने कहा, ‘क्या पता वह जो चील आसमान में उड़ रही थी, वही उसे अपनी चोंच में दबाकर उड़ गई हो।’

दादाजी कहने लगे, ‘अरे, चील नहीं, वह जो तीन खरगोश आते हैं न, हो सकता है, उनमें से ही कोई उसे मुंह में दबाकर भाग गया हो। अपने बच्चों और दोस्तों के साथ खेल रहा हो।’

पापा बोले, ‘मुझे तो लगता है इसकी फुटबॉल स्पेसशिप बनकर चांद पर चली गई है।’

‘स्पेसशिप।’ अंतरिक्ष मुस्कराया। फिर सोचता हुआ बोला, ‘अगर मैं उस पर बैठा होता, तो मैं भी चांद पर चला जाता।’

‘और क्या।’ पापा हंसे।

‘ठीक है, मैं अपनी दूसरी फुटबॉल लाता हूं। वह भी स्पेसशिप बन जाएगी। मैं दादाजी के साथ उस पर बैठकर चांद पर जाऊंगा।’

‘फिर वहां क्या करोगे?’

‘शतरंज खेलूंगा। दादाजी से बैठकर मैथ्स पढ़ूंगा। होमवर्क भी कर लूंगा। सुना है कि चांद पर आइसक्रीम के बहुत सारे पहाड़ हैं। मैं वहां खूब आइसक्रीम भी खाऊंगा। आपके लिए भी ले आऊंगा।’
‘और जब नींद आएगी तो।’ दादीजी ने पूछा।

‘नींद आएगी, तो सो जाऊंगा।’

‘मगर कैसे सोओगे। तुम्हें तो तब तक नींद ही नहीं आती, जब तक अपने बिस्तर पर न सोओ। और मम्मी तुम्हें कोई कहानी न सुनाएं।’ दादीजी बोलीं। ‘वहां मेरे दादाजी होंगे न। वह कहानी सुना देंगे।’

‘मगर तुम्हारा बिस्तर, तुम्हारी डॉली मछली कहां से आएगी। जिसका तकिया न बने, तो तुम सोते ही नहीं।’ कहते हुए मम्मी मुस्कराईं। बेचारा एक अकेला अंतरिक्ष और इतने सारे सवाल-जवाब।

‘तो मैं अपने कमरे और डॉली को साथ ले जाऊंगा। और मम्मी, पापा, दादी, मेरी बुआ सब साथ चलेंगे। पूरी छुट्टियां हम वहीं रहेंगे।’

‘जितना बड़ा तू, उससे छोटी तेरी फुटबॉल। उसमें बैठकर कौन-कौन जाएगा?’ दादाजी कहने लगे।

‘क्यों, क्या सब नहीं जा सकते?’

‘जा सकते हैं, मगर उसके लिए तो असली वाला स्पेसशिप लाना पड़ेगा। फुटबॉल से तो काम नहीं चलेगा बेटा।’ दादाजी ने समझाने की कोशिश की। ‘कहां मिलेगा स्पेसशिप। पापा दिलवा देंगे मुझे। मैं उसे चलाना भी सीख लूंगा।’

‘इस बारे में तो रोनाल्डो से पूछना पड़ेगा। क्या वह भी हमारे साथ चलेगा?’ मम्मी खिलखिलाईं।

‘हां पापा, नंबर दो उसका। मैं पूछूंगा।’

‘ठीक है, ठीक है। ढूंढ़ेंगे।’

तभी बगीचे में खड़-खड़ सुनाई दी। देखा कि एक खरगोश गमले में लगी गोभी को खाने के लिए चढ़ा था और उसने दूसरा गमला गिरा दिया था। गमला टूट गया था। सारी मिट्टी बिखर गई थी।

‘दादाजी खरगोश।’ अंतरिक्ष चिल्लाया।

दादाजी बाहर आए। और जोर-जोर से खरगोश को डांटते हुए पूछने लगे, ‘क्यों भई, अंतरिक्ष की फुटबॉल कहां छिपाकर आए हो। जल्दी वापस लाओ। तुम्हें मालूम नहीं, उसे अपनी फुटबॉल से स्पेसशिप बनाना है और चांद पर जाना है।’ कहते हुए दादाजी खरगोश की तरफ बढ़े, तो वह भागकर दूसरे कोने में चला गया। दादाजी ताली बजाते उधर पहुंचे, तो वह गमले के पीछे छिप गया और मौका पाकर भाग गया।

दादाजी बोले, ‘देखो, तुम्हारी फुटबॉल लेने गया है। अभी दे जाएगा।’

‘लेकिन वह तो चांद पर चली गई।’

‘क्या पता न गई हो। इसके पास हो। नहीं लाया तो हो सकता है, जो तुम कह रहे हो वही ठीक हो।’

‘अंतरिक्ष आकर दूध पिओ। सोने का समय हो गया है। सवेरे टेनिस खेलने जाना है।’ मम्मी कह रही थीं।

पापा उसके लिए दूध ले आए। अपने कमरे की तरफ बढ़ते हुए वह रह-रहकर चांद को देख रहा था। उसे लग रहा था कि गोल चांद ही तो कहीं उसकी फुटबॉल नहीं। वह सोते वक्त बार-बार मम्मी से यही पूछ रहा था, ‘अगर फुटबॉल चांद बन गई है, तो वह पीली कैसे हो गई। वह तो लाल थी। और इतनी चमक क्यों रही है?’

उसके सोने के बाद दादाजी बाहर गए, तो पड़ोस की आंटी पेड़ों के बीच से झांकते हुए बोलीं, ‘अरे, यह अंतरिक्ष की फुटबॉल हमारे ड्रम में आकर गिर गई थी। अभी पानी निकालने लगे, तो दिखाई दी। पापा ने उसे अंतरिक्ष की कुर्सी पर रख दिया। दादीजी बोलीं, ‘सवेरे उठेगा, तो पूछेगा कहां से आई।’

‘कह देंगे कि चांद आकर दे गया। कह गया है कि एक रात वह अंतरिक्ष को खुद आकर ले जाएगा।’ बुआ ने धीरे से कहा।

रात बहुत हो गई थी। अंतरिक्ष भी मीठे-मीठे सपनों में खोया था। वह हाथ-पांव फेंक रहा था जैसे कि फुटबॉल के पीछे दौड़ रहा हो।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे