तुम्हारी बहुत याद आती है सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

तुम्हारी बहुत याद आती है


तुम्हारी बहुत याद आती है....
1) याद आती है आज भी वो गर्मी की धूप,
जिस पल में मैंने तेरी तस्वीर दिल में बसा ली थी,
कुछ तो नूर था खुदा का तेरे चेहरे में,
मेरी हर सांस को एक नजर में तुम अपना बना ली थी,
पर अब जाने क्यों हर पल दम घुटने लगा है मेरा,
हवाओं के शिखर पे हूं खड़ा पर सांस नहीं आती है,
तुम्हारी बहुत याद आती है....



2)वो पहली दफा था जब किसी अजनबी की शक्ल पढ़ी थी मैंने,
जाने कैसे पर अंदर तक तुझे महसूस किया था मै,
कैसे कोई किसी की हर सांस पे हुकूमत कर सकता है,
अपनी सांसें तेरे नाम कर के ये समाज पाया था मै,
जिसको में मेरे अभी भी धड़कन दौड़ती है,
पर सांसें चलने को बस तेरी इजाज़त चाहती है,
सुनो ना..तुम्हारी बहुत याद आती है।



3)बड़ा ही मुश्किल वक्त था वो,
जब मैंने एक चेहरे को देख के कुछ महसूस किया था,
जज़्बात कुछ यूं इन लबों के बीच दब के रह गए थे,
तुझ तक पहुंचा सकु उन्हें ऐसा जरिया ढूंढ़ रहा था,
वो तो तेरी मोहब्बत थी जो मै हाल - ए - दिल कह पाया तुझसे,
और वो तेरी मोहब्बत ही है जो आज बहुत रुलाती है मुझे,
सच में तुम्हारी बहुत याद आती है.....



4) जाने कितने दिलो की उम्मीदों को तोड़ दिया तुमने,
मुझसे एक नायाब रिश्ता जोड़ लिया तुमने,
काबिल नहीं था मै शायद तुम्हारी पाक मोहब्बत के,
फिर भी इस दिल को आहिस्ता आहिस्ता अपनी ओर मोड़ लिया तुमने,
धड़कने तुम्हारी आज भी सीने पे महसूस होती है,
वहीं धड़कने फिर एक दफा धड़कने को बुलाती है,
तुम्हारी बहुत याद आती है....



5)तेरे साथ के ये कुछ साल कितने जन्मों जैसे लगते है,
कैसे दो अंजान दिल हमेशा एक दूसरे के लिए धड़कते है,
भूला नहीं हूं मै तेरी कोई भी याद बीते वक़्त की,
कैसे तूने मेरे खातिर अपने हिस्से के वक़्त से अदावत की,
गर्माहट तेरी सांसों की अब तेरी ही याद दिलाती है,
और तेरी वहीं याद मुझे बहुत रुलाती है,
यार सच में तुम्हारी बहुत याद आती है....



6) मैसेज नहीं करता तो ये मत सोचना कि भूल गया हूं,
तू किसी और का हाथ थाम सके इसलिए बस थोड़ा दूर गया हूं,
मोहब्बत तो तुझसे हर लम्हा उतनी ही करूंगा जितनी तू सांसें लेगी,
बस कुछ पल के लिए मेरा लास्ट सीन छुप गया है,
तकिए पे आंसुओं की नमी अब भी तेरा ख्याल ज़हन में लाती है,
बस भी करो तुम्हारी बहुत याद आती है....



7) वो आखिरी साल था जब मैं तुझसे जुदा हुआ था,
दूरी जिस्मों से थी दिल तो अब भी तुमसे जुड़ा हुआ था,
वो हर सुबह 9 बजे तुम्हारे फोन का इंतज़ार करना,
वो जल्दबाजी में तुम्हारे लबो से" ख्याल रखना" सुनना,
जाने कैसी मुझे एक अजीब आदत सी पड़ गई थी,
अब तो बस यूं आदतों की तस्वीर दिख जाती है,
आज भी तुम्हारी बहुत याद आती है,



8)अब तो एक अरसा बीत गया है तुम्हारी आवाज़ सुने,
कौन है यह जो मेरे इस दर्द की कराह सुने,
और मुझे तो आज भी तेरे एक मेसेज का इंतज़ार रहता है,
तू रखेगी दिल के कोने में तस्वीर मेरी ये ऐतबार रहता है,
हूं था और रहूंगा हमेशा तेरा ये बात रख लो अपने जेहन में,
क्युकी रहूंगा तुम्हारा इस सौदे पर ज़िन्दगी जीने की राह दिखाती है,
लौट आओ वापस अब तुम्हारी बहुत याद आती है,
तुम्हारी बहुत याद आती है।।


आकाश मिश्रा













तेरे शहर में



किसको नहीं पुकारे , तेरे शहर में हम।
फ़िरते थे मारे-मारे, तेरे शहर में हम।।




ज़िदगी क्या-क्या नहीं, तुमने दिखा दिया।
तोड़ डाले भरम सारे, तेरे शहर में हम।।




नफ़रतो के तीर खाये, पर रुके नहीं ।
खाते रहे शरारे, तेरे शहर में हम।।




फूलों से लगे जख़म, किसको दिखाये हम।
गिनते रहे सितारे, तेरे शहर में हम।।




मानें रक़ीब किसको, ऐ खुदा बता।
ढूँढे बहुत सहारे, तेरे शहर में हम।।


पंडित अनिल

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Famous Love Shayari Of These Five Noted Urdu Poet होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते

  Bashir badr shayari  बशीर बद्र की नज़्मों में मोहब्बत का दर्द समाया हुआ है। उनकी शायरी का एक-एक लफ़्ज़ इसका गवाह है। Bashir badr shayari     होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते साहिल पे समुंदर के ख़ज़ाने नहीं आते पलकें भी चमक उठती हैं सोते में हमारी आंखों को अभी ख़्वाब छुपाने नहीं आते दिल उजड़ी हुई इक सराये की तरह है अब लोग यहाँ रात जगाने नहीं आते उड़ने दो परिंदों को अभी शोख़ हवा में फिर लौट के बचपन के ज़माने नहीं आते इस शहर के बादल तेरी ज़ुल्फ़ों की तरह हैं ये आग लगाते हैं बुझाने नहीं आते अहबाब भी ग़ैरों की अदा सीख गये हैं आते हैं मगर दिल को दुखाने नहीं आते मोहब्बत के शायर हैं जिगर मुरादाबादी इक लफ़्ज़-ए-मुहब्बत का अदना सा फ़साना है सिमटे तो दिल-ए-आशिक़, फ़ैले तो ज़माना है हम इश्क़ के मारों का इतना ही फ़साना है रोने को नहीं कोई हंसने को ज़माना है ये इश्क़ नहीं आसां, बस इतना समझ लीजे एक आग का दरिया है और डूब के जाना है     जिगर मुरादाबादी शायरी     वो हुस्न-ओ-जमाल उन का, ये इश्क़-ओ-शबाब अपना जीने की तमन्ना है, मरने का ज़माना है अश्क़ों के तबस्सुम में, आहों के तरन्नुम में मासूम मुहब्ब