कवि प्रदीप यानि शब्दों की आकाशगंगा की एक चमकीला सितारा सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कवि प्रदीप यानि शब्दों की आकाशगंगा की एक चमकीला सितारा


'ऐ मेरे वतन के लोगों, जरा आंख में फर लो पानी
कुछ याद उन्हें भी कर लो, जो लौट के फिर ना आएं



आजादी के बाद से कवि प्रदीप की ये पंक्तियां गीतों का सिरमौर बनी हुई हैं। कवि प्रदीप यानि शब्दों की आकाशगंगा में एक चमकता हुआ सितारा, उनकी ये पंक्तियां नस-नस में देशभक्ति का जज़्बा पैदा करती हैं और सही रास्ते के चयन का मार्ग प्रशस्त करती हैं, मनोबल बढ़ाती हैं। एक इंटरव्यू के दौरान उन्होंने इस गीत की रचनात्मकता के पीछे की कहानी बताते हुए कहा था- 1962 के भारत-चीन युद्ध में भारत की हार से लोगों का मनोबल गिर गया था, ऐसे में सरकार की तरफ़ से फ़िल्म जगत के लोगों से ये अपील की गई कि- भई अब आप लोग ही कुछ करिए. कुछ ऐसी रचना करिये कि पूरे देश में एक बार फिर से जोश आ जाए और चीन से मिली हार के ग़म पर मरहम लगाया जा सके।
उसके बाद प्रदीप जी ने यह गीत लिखा, जिसे स्वर कोकिला लता जी ने अपनी आवाज दी, उस समय भारत के पहले प्रधान मंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू भी वहां मौजूद थे, और उनकी भी आंखें नम हो गईं थीं। कवि प्रदीप ने इस गीत का राजस्व युद्ध विधवा कोष में जमा करने की अपील की। आज भी यह गीत जब बजता है, लोग ठहर जाते हैं, रोंगटे खड़े हो जाते हैं।


इंसान का इंसान से हो भाईचारा
यही पैगाम हमारा
यही पैगाम हमारा



नये जगत में हुआ पुराना ऊँच-नीच का किस्सा
सबको मिले मेहनत के मुताबिक अपना-अपना हिस्सा
सबके लिए सुख का बराबर हो बँटवारा
यही पैगाम हमारा
यही पैगाम हमारा


1959 में बनी फिल्म 'पैगाम' के गीत को कवि प्रदीप ने ही लिखा था और सी रामचंद्र ने संगीत से सजाया, मन्ना डे ने आवाज दी थी। गाने की पंक्तियां सही मायनों में गंगा-जमुनी तहजीब से लोगों का परिचय करवाती हैं। उनके गीतों में सामाजिक न्याय की आवाज मुखर होती है। पुरानी, रूढ़ हो चुकी मान्यताओं के प्रति नकार है, प्रेम, सद्भाव और एकजुटता का संदेश है। आपसी सहयोग और भईचारे का आह्वान है, गीत की अगली पंक्तियां हैं-


हरेक महल से कहो कि झोपड़ियों में दिये जलायें
छोटों और बड़ों में अब कोई फ़र्क नहीं रह जायें
इस धरती पर हो प्यार का घर-घर उजियारा
यही पैगाम हमारा
यही पैगाम हमारा


1943 की सुपर-डुपर हिट फिल्म किस्मत के गीत "दूर हटो ऐ दुनिया वालों हिंदुस्तान हमारा है" ने उन्हें देशभक्ति गीत के रचनाकारों में अमर कर दिया। गीत के अर्थ से क्रोधित तत्कालीन ब्रिटिश सरकार ने उनकी गिरफ्तारी के आदेश भी दिए।


इससे बचने के लिए कवि प्रदीप को भूमिगत होना पड़ा था। प्रदीप जी अपने गीतों के जरिए सच के पक्ष में तन के खड़े होते हैं, उन्होंने 71 फिल्मों के लिए 1700 गीत लिखे। वतन पर मर मिटने का जज़्बा पैदा करने वाले इस गीतकार को भारत सरकार ने सन् 1997-98 में 'दादा साहब फाल्के पुरस्कार' से सम्मानित किया।


आज हिमालय की चोटी से फिर हम ने ललकरा है
दूर हटो ऐ दुनिया वालों हिन्दुस्तान हमारा है



जहाँ हमारा ताज-महल है और क़ुतब-मीनारा है
जहाँ हमारे मन्दिर-मस्जिद-सिखों का गुरुद्वारा है
इस धरती पर क़दम बढ़ाना अत्याचार तुम्हारा है
दूर हटो ऐ दुनिया वालों हिन्दुस्तान हमारा है



ये जज़्बा था उनके गीतों का। य़ानि जब हम गंगा-जमुनी तहजीब पर, भारत की सांस्कृतिक विविधता पर बात करेंगे तब-तब हमें कवि प्रदीप की रचनाओं से प्रेरणा लेनी होगी। 11 दिसम्बर 1998 को 83 वर्ष के उम्र में इस महान कवि का मुम्बई में देहांत हो गया। उनके लिखे कालजयी गीतों और कविताओं का आकर्षण उस जमाने में भी था और आज भी है, और हमेशा बरकरार रहेगा।
6 फरवरी 1915 में मध्य प्रदेश के उज्जैन के बड़नगर में जन्म लेने वाले कवि प्रदीप का असली नाम 'रामचंद्र नारायणजी द्विवेदी' था। लिखने-पढ़ने का संस्कार उन्हें उनके घर में मिले। उस समय जब देश में स्वतंत्रता आंदोलन की लपटें तेज हो रही थीं, रामचंद्र के भीतर भी उमड़-घुमड़ के एक प्रदीप आकार ले रहा था।


चूंकि उस दौर को, अंग्रेजी हुकूमत के अत्याचारों को उन्होंने देखा था, इसलिए वो सारी चीजें उनकी रचनाओं में बहुत मजबूती से शामिल हैं। अपनी रचनाओं का जब वो पाठ किया करते थे, लोग उन्हें बड़ी तन्मयता से सुनते थे, क्योंकि उनका कंठ बहुत सुरीला था। उनकी पहचान 1940 में रिलीज हुई फिल्म 'बंधन' से हुई। इनके गीत भाईचारा-देश प्रेम की सही समझ पैदा करते हैं दुर्योग है कि आज जब देशभक्ति को लेकर तमाम तरह के भ्रम और अटकलबाजियों का दौर चल रहा है तब कवि प्रदीप के लिखे गीत- 'ऐ मेरे वतन के लोगों', 'साबरमती के संत', 'हम लाए हैं तूफान से किश्ती निकाल के', 'आओ बच्चों तुम्हें दिखाएं', 'इंसान का इंसान से हो भाईचारा' देश प्रेम की सही समझ पैदा करते हैं। इनके गीतों का सार देश और उसकी भक्ति है। उन्होंने समाज में एकता पर सबसे अधिक जोर दिया। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी के प्रयास से कवि प्रदीप को दादा साहब फाल्के अवार्ड हासिल हुआ।


'आज के इस इंसान को ये क्या हो गया' गीत आदमी को सोचने को विवश करता है। सन 1963 में फिल्म 'अमर रहे प्यार' रिलीज हुई थी, इस फिल्म के लिए प्रदीप जी ने 'आज के इस इंसान को ये क्या हो गया' गीत लिखा, जो कमोबेश आज की स्थितियों सही आंकलन है-


आज के इस इंसान को ये क्या हो गया
इसका पुराना प्यार कहाँ पर खो गया
कैसी ये मनहूस घड़ी है
भाईयों में जंग छिड़ी है
कहीं पर खून कहीं पर ज्वाला
जाने क्या है होने वाला
सबका माथा आज झुका है
आजादी का जुलूस रूका है
चारों ओर दगा ही दगा है
हर छूरे पर खून लगा है
आज दुखी है जनता सारी
रोते हैं लाखों नर नारी
रोते हैं आंगन गलियारे
रोते आज मोहल्ले सारे

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे