fashion beauty how to choose saree according your body read in hindi सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

fashion beauty how to choose saree according your body read in hindi

                                                                     fashion beauty
    बॉडी टाइप के हिसाब से चुनें साड़ियां, परफेक्ट लुक के साथ ही मिलेगी हर किसी की अटेंशन

                                                            fashion beauty

साड़ी एक ऐसा ट्रेडिशनल वेयर है जो लगभग हर एक लड़की के वॉडरोब में नजर आ ही जाती है। लेकिन अक्सर हम इसका चुनाव सिर्फ डिज़ाइन और कलर के आधार पर करते हैं जिसकी वजह से हर किसी का कॉम्प्लीमेंट नहीं मिल पाता। तो हर किसी की अटेंशन के साथ ओवरऑल लुक को ग्लैमरस बनाने के लिए अपने फीगर के हिसाब से चुनें साड़ी।


स्लिम फीगर
अगर आप स्लिम हैं तो कॉटन, सिल्क और ऑर्गेंजा फैब्रिक वाली साड़ियां चुनें जिससे आपका शरीर भरा हुआ लगेगा। हैवी एंब्रॉयडरी वाली लाइट कलर की साड़ियां चुनें। ब्रोकेड और बीडेड वर्क जरूर ट्राय करें। स्लिम बॉडी पर बड़े और बोल्ड प्रिंट्स बहुत जंचते हैं। ब्लाउज़ में बैकलेस, स्लीवलेस, हॉल्टर नेक और ट्यूब इनके साथ बिंदास होकर एक्सपेरिमेंट करें।


कर्वी फीगर
जॉर्जेट, शिफॉन और नेट फैब्रिक ऐसी बॉडी पर बहुत फबते हैं। ये आपकी बॉडी पर आसानी से रैप हो जाते हैं और कर्व्स को हाइलाइट करते हैं। डार्क कलर की लाइट वेट साड़ियां खरीदें। हल्के-फुल्के वर्क भी चल जाएंगे। थोड़ा और ग्लैमरस लुक चाहती हैं तो क्रिस-क्रॉस ब्लाउज़ के साथ एक्सपेरिमेंट करें।



पीयर शेप बॉडी
पीयर शेप में बॉडी का निचला हिस्सा ऊपरी हिस्से की अपेक्षा थोड़ा हैवी होता है जो ऐसी बॉडी पर शिफॉन और जॉर्जेट फैब्रिक बहुत अच्छे लगेंगे। मरमेड कट्स वाली साड़ियां न चुनें क्योंकि इससे आपकी लोअर बॉडी और ज्यादा हाइलाइट होगी। सीधा पल्लू स्टाइल लें जो साड़ी में आपके लुक को और निखारेगा। खूबसूरत बॉर्डर, छोटे प्रिंट्स और एंब्रॉयडरी वर्क वाली साड़ियां ऐसे फीगर पर बहुत जंचती हैं।


एप्पल शेप बॉडी
अगर आपकी अपर बॉडी हैवी है तो इसका मतलब आपका फीगर एप्पल शेप है। इस पर खूबसूरत एंब्रॉयडरी वाली साड़ियां अच्छी लगेंगी। कमर को कवर करने के लिए लॉन्ग ब्लाउज़ पहनें। इसके अलावा आप चाहें तो साड़ी को थोड़ा ऊपर बांधें। नेट की साड़ियां अवॉयड करें इनकी जगह सिल्क को शामिल करें।


ओवरवेट
ओवरवेट हैं तो कॉटन या ऐसे मोटे फैब्रिक को बिल्कुल भी न चुनें क्योंकि इससे आपका वजन और ज्यादा नजर आएगा। शिफॉन और सिल्क की साड़ियों में शेप बैलेंस नजर आएगा। डार्क कलर चुनें। इन साड़ियों पर फुल स्लीव और लॉन्ग ब्लाउज कैरी करें। ओवर ऑल लुक अच्छा लगेगा।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे