Good Newwz Review: Starring Akshay Kumar Kareena Kapoor Khan Diljit Dosanjh Kiara Advani सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Good Newwz Review: Starring Akshay Kumar Kareena Kapoor Khan Diljit Dosanjh Kiara Advani


Good Newwz Review: अक्षय ने साल की आखिरी गेंद पर जड़ा सिक्सर, करीना, दिलजीत और कियारा संग जमाई पारी



Movie Review: गुड न्यूज
कलाकार: अक्षय कुमार, करीना कपूर खान, दिलजीत दोसांझ, कियारा आडवाणी, आदिल हुसैन, टिस्का चोपड़ा, गुलशन ग्रोवर आदि।
निर्देशक: राज मेहता
निर्माता: हीरू यश जौहर, अरुणा भाटिया, करण जौहर, अपूर्व मेहता व शशांक खेतान




हिंदी फिल्म जगत के तीनों खान के आसपास ही बड़े परदे पर दर्शकों का मनोरंजन करने की सौगंध खाई राजीव हरिओम भाटिया उर्फ अक्षय कुमार ने। खान सितारों का जिक्र यहां इसलिए क्योंकि अक्षय कुमार ने इन तीनों सितारों से बेहतर करियर प्लानिंग की और एक तरफ जहां तीनों खान सितारे अपने करियर को लेकर पिछले कुछ साल से लगातार जूझ रहे हैं, अक्षय कुमार अपनी उम्र के हिसाब से किरदार चुनते हुए लगातार अपनी स्थिति मजबूत करते जा रहे हैं। केसरी, मिशन मंगल और हाउसफुल 4 के बाद गुड न्यूज उनकी इस साल की चौथी फिल्म है और गुड न्यूज ये है कि उरी द सर्जिकल स्ट्राइक के धमाके से शुरू हुआ हिंदी सिनेमा का ये साल एक कामयाब फिल्म के साथ समापन की ओर बढ़ चला है।




गुड न्यूज हिंदी सिनेमा में कथानक आधारित फिल्मों के दम लगाके हईशा और विकी डोनर से शुरू हुए चलन का सुपर वर्जन है। इसमें कहीं छोटे शहर या औसत परिवारों वाला रोना धोना नहीं है। कहानी जरूर उसी श्रेणी की है लेकिन सुपर सितारों की फिल्म में मौजूदगी ने फिल्म को आयुष्मान और राजकुमार राव वाली श्रेणी से निकालकर सीधे ठेठ मुंबईया फिल्म बना देती है। मालदार परिवार के दिखते दीप्ति और वरुण अपनी जिंदगी में मस्त हैं। बस कमी है एक बच्चे की। कई साल से जारी कोशिश जब गुड न्यूज नहीं ला पाती है तो दोनों फैसला करते हैं विज्ञान का सहारा लेने का। दोनों टेस्ट ट्यूब बेबी के लिए अस्पताल जाते हैं। दीप्ति गर्भवती होती है और तभी पता चलता है कि दीप्ति के गर्भ में जो बच्चा पल रहा है उसका पिता वरुण नहीं कोई और है। कोई और वाला ये बंदा हनी है और मोनिका का पति है। ये दोनों भी उसी अस्पताल में टेस्ट ट्यूब बेबी पाने आते हैं जहां वरुण और हनी के वीर्य आपस में बदल जाते हैं। कारण बताया जाता है दोनों का उपनाम बत्रा एक जैसा होना।



अब शुरू होती है फिल्म की असली कहानी जिसमें अक्षय कुमार और करीना कपूर के साथ ही दिलजीत दोसांझ और कियारा आडवाणी ने अपनी अदाकारी के अच्छे रंग भरे हैं। हाउसफुल 4 में अतिरंजना के शिकार हुए अक्षय कुमार ने इस बार अपनी चिर परिचित कॉमेडी का करिश्मा फिर से पा लिया है। ये वो करिश्मा है जिसने उनकी हेराफेरी सीरीज की फिल्मों से बड़ा दर्शक बाजार बनाया है। अक्षय कुमार ने यहां न अपनी उम्र छुपाने की कोशिश की और न ही किसी दूसरे कलाकार के किरदार पर कैंची चलाने की। निर्माता करण जौहर की फिल्मों में ऐसा करने की आजादी किसी कलाकार को वैसे भी नहीं होती है।




52 साल के अक्षय कुमार का फिल्म में बखूबी साथ दिया है 39 साल की करीना कपूर ने। दोनों ने अपनी उम्र के हिसाब से ये किरदार चुने हैं। दीप्ति के किरदार में करीना कपूर एक संपन्न परिवार की सदस्य दिखने के साथ साथ मां बनने की लालसा में परेशान महिला के किरदार के साथ पूरा न्याय करती हैं। आगे चलकर उनकी दिलजीत दोसांझ और कियारा आडवाणी के साथ केमिस्ट्री भी खूब जमती है। फिल्म में सबसे मजेदार लम्हे तब आते हैं जब चारों एक साथ परदे पर होते हैं। अर्जुन पटियाला में रंग जमाने से चूके दिलजीत ने इस बार दर्शकों का दिल जीता और कलंक व कबीर सिंह में लाइमलाइट से चूंकी कियारा का जादू भी यहां खूब जमा है।



करण जौहर ने अपनी इस फिल्म के लिए इस बार फिर नया निर्देशक लिया और राज मेहता ने फिल्म को इसकी पटकथा के काफी करीब रखने की कोशिश भी की। ज्योति कपूर और ऋषभ शर्मा ने एक चुस्त पटकथा लिखकर ये साबित भी किया कि कॉमेडी फिल्मों में सिर्फ कहानी का दायरा तय करना ही काफी नहीं होता, दायरे के भीतर रहकर किरदारों को जीवंत बनाए रखने की चुनौती पर भी आखिर सीन तक खरा उतरना होता है। ज्योति और ऋषभ दोनों ही इस फिल्म के असली हीरो हैं। राज मेहता का निर्देशन औसत है, उन्हें कहानी की परतों को बेहतर तरीके से निखारने की मेहनत आगे की फिल्मों में करनी होगी।



फिल्म चूंकि बत्राओं की कहानी है तो जाहिर है इसमें पंजाबी संगीत ठूंस ठूंसकर भरा गया है। यह सही है कि हिंदी सिनेमा का कारोबार पंजाब और पंजाब से निकलकर दुनिया भर में फैल चुके पंजाबी दर्शकों पर काफी कुछ निर्भर करता है लेकिन गाने थोड़े और देसी हो सकते थे। विष्णु राव की सिनेमैटोग्राफी फिल्म को इसकी पटकथा के हिसाब से रंगीन रखती है, हां मनीष मोरे का संपादन कही कहीं फिल्म को ढील दे देता है। कुल मिलाकर फिल्म इस वीकएंड का अच्छा टाइप पास है। अमर उजाला के मूवी रिव्यू में फिल्म गुड न्यूज को मिलते हैं तीन स्टार।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे