नेहरू ने कहा अपने बच्चों को जाने दें पाकिस्तान और आप यहीं रहें, जोश नहीं माने फिर जो हुआ.. सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

नेहरू ने कहा अपने बच्चों को जाने दें पाकिस्तान और आप यहीं रहें, जोश नहीं माने फिर जो हुआ..



दिल की चोटों ने कभी चैन से रहने न दिया
जब चली सर्द हवा मैंने तुझे याद किया



इसका रोना नहीं क्यों तुमने किया दिल बरबाद
इसका ग़म है कि बहुत देर से बरबाद किया



एक ऐसा शायर जो ज़िंदगीभर वतन परस्त रहा, मानवता जिसका धर्म रहा, उसे अचानक हिंदुस्तान में अपना भविष्य धूमिल दिखाई देने लगा और अंतत: एक समय ऐसा भी आया कि उर्दू अदब का यह मक़बूल शायर पाकिस्तान चला गया लेकिन उसकी रूह हिंदुस्तान में ही रही और नतीजा यह निकला कि पाकिस्तान ने वादाख़िलाफी की और वहां उस शायर की दुर्गति हुई और हिंदुस्तान के वे रहे नहीं।


मैं बात बात कर रहा हूं उर्दू के मशहूर शायर जोश मलीहाबादी की। जोश उत्तर प्रदेश के लखनऊ के मलीहाबाद में 1896 में पैदा हुए। इनके पूर्वज मुहम्मद बुलंद खां नवाबी शासनकाल में काबुल से भारत आए। कुछ समय फर्रुखाबाद में गुजारने के बाद स्थाई रूप से मलीहाबाद में बस गए और अवध राज्य के उच्च पदों पर प्रतिष्ठित रहे।


जोश ने शायराना वातावरण में ही आंखें खोली, शायराना माहौल में ही ठुमक ठुमक कर चलना सीखा। विरासत में जागीर के बदले शायरी मिली। लेकिन जोश के पिता नहीं चाहते थे कि वे शायरी करें। जोश पर उनके वालिद ने पहरे बिठा रखे थे कि शेर न कहने पाएं लेकिन शायरी जिसकी रगों में हो उसे कौन रोक सकता है।


जोश मलीहाबादी जवाहरलाल नेहरू के नज़दीकी थे और नेहरू जोश के मुरीद। कई बार दोनों की शामें एक-दूसरे की सोहबत में गुज़रती थीं। नेहरू ने उनके कई मुशायरे सुने थे। कहा जाता है कि हिंदुस्तान-पाकिस्तान बंटवारे के बाद नेहरू ही वह असल वजह थे जिसके कारण 'जोश' हिन्दुस्तान का दामन थामे बैठे हुए थे।


जोश की शिक्षा-दीक्षा मुस्लिम संस्कृति में हुई लेकिन होश संभालते ही जोश मज़हबी बंधनों से मुक्त हो गए और मानव धर्म में दीक्षित हो गए। और उन्होंने लिखा-


जब कभी भूले से अपने होश में होता हूं मैं
देर तक भटके हुए इंसान पर रोता हूं मैं



फिर रहा है आदमी भूला हुआ भटका हुआ
इक न इक लेबिल हर इक माथे पै है लटका हुआ
सन 1955 की बात है एक मुशायरे के सिलसिले में जोश को पाकिस्तान जाना पड़ा और वहां उन्होंने 2-3 महीने बिताये। उसी दौरान जोश के सामने उनके पुराने पाकिस्तानी मित्र सैयद अबूतालिब नक़वी चीफ़ कमिश्नर,करांची ने ये प्रस्ताव रखा कि- 'यदि आप भारत को छोड़कर पाकिस्तान को अपना वतन मान लें तो 19000 रुपया मासिक की आय का स्थायी प्रबंध किया जा सकता है, जो आपके बाद आपके संतान को भी मिलती रहेगी। पाकिस्तान सरकार उर्दू के व्यापक प्रचार-प्रसार के लिए एक समिति बनाना चाहती है जिसकी अध्यक्षता आप स्वीकृत कर लें।'


भटक के जो बिछुड़ गए हैं रास्ते पर आएंगे
लपक के एक दूसरे को फिर गले लगाएंगे



15 अगस्त 1947 को अपने मनोभाव इस प्रकार व्यक्त करने वाले जोश मलीहाबादी को अब पाकिस्तान बसने का चीफ़ कमिश्नर का प्रस्ताव रास आने लगा।


प्रस्ताव सुनकर जोश साहब ने फ़र्माया अपने भारतीय मित्रों से राय-मशवरे के बाद ही तस्वीर क्लियर हो सकती है। भारत आने पर जोश साहब ने पं. नेहरू, मौलाना आज़ाद आदि अपने हितैषियों से राय-मशवरा किया तो सभी ने पाकिस्तान जाकर बसने के लिए असहमति प्रकट की।


अपनी आत्मकथा 'यादों की बारात' में जोश मलीहाबादी ने लिखा है- नेहरू जी ने पहले तो मना कर दिया लेकिन बाद में जब जोश के दबाव डालने के बाद उन्होंने कहा- अगर आप अपने बच्चों का आर्थिक और सांस्कृतिक भविष्य संवारने के लिए पाकिस्तान जाना चाहते हैं( जैसा कि आपने कहा) तो फिर आप ऐसा करें कि अपने बच्चों को पाकिस्तानी बन जाने दें और आप यहीं रहें और हर साल पूरे 4 महीने पाकिस्तान में रहकर आप उर्दू की ख़िदमत कर आया करें। भारत सरकार आपको हर साल पूरी तनख़्वाह 4 महीने की छुट्टी दे दिया करेगी। पाकिस्तान जाकर जोश मलीहाबादी ने जब यह बात चीफ़ कमिश्नर अबूतालिब नक़वी को बताई तो नक़वी साहब ने जोश की खुशियों पर पानी फेर दिया। उन्होंने कहा ऐसा क्यों होगा कि आप पाकिस्तानी बाशिंदे न बनें और यहां ज़मीन का अलाॅटमेंट आपके नाम हो जाए, हमारे वास्ते यह नामुमकिन हो जाएगा कि हम आपके वास्ते सिनेमा हाॅल बनवाएं, बाग़ लगवाएं। यहां के लोग आपको पाकिस्तानी समझेंगे। जोश साहब ! दो किश्तियों में पांव रखकर दरिया पार नहीं किया जा सकता। जोश चीफ़ कमिश्नर की बातों में फंस गये।


और बुढ़ापे में जोश पाकिस्तान चले गए लेकिन उनका यह निर्णय उन पर बहुत भारी पड़ा और पाकिस्तान में उनकी हालत और भी ख़राब हो गयी। वहां जो उन पर गुज़री वह किसी सदमे से कम नहीं।


सरकार ने वहां बसने के एवज में उनके लिए काफ़ी इंतज़ाम और वादे किये थे इससे पाकिस्तानी नाख़ुश थे। तमाम शायर फिर बीच-बीच में वे हिंदुस्तान भी आते थे और पाकिस्तानी उनके नेहरू प्रेम से नावाकिफ़ नहीं थे। लिहाज़ा, पाकिस्तान में उनके ख़िलाफ़ हो एक वातावरण बन गया था। लोगों ने कहा कि सरकार ने आधा पाकिस्तान जोश को घूस में दे दिया है। तमाम अदीब, शायर और कार्टूनसाज़ों ने अपनी-अपनी कलमों की तलवारें म्यान से निकालकर जोश के ख़िलाफ़ लेख, कविता और कार्टूनों की भरमार कर दी। उन्हें गद्दार और भारत का एजेंट तक बताया गया। नाकामियों का तांता लग गया।


- जहांगीर रोड का सिनेमा प्लाट और बाग लगाने की ज़मीन जोश ने ख़ुद वापस कर दी।

- एक सोसािटी का सिनेमा प्लाट जोश के नाम छूटा, क़ीमत अदा न कर सके,इसलिए हाथ से निकल गया।

- काश्तकारी के लिए डेप्युटी कमिश्नर करांची ने 50 एकड़ ज़मीन दी थी जिसे अल्ताफ़ गौहर साहब ने ज़ब्त कर ली।

- साइकिल- रिक्शा के परमिट मिले, भाव गिर गया, परमिट हवा में उड़ गये।

- किसी तरह कोल्डस्टोरेज की इज़ाजत मिली, रूपया लगाने वालों को बरगला दिया गया।

- टेक्सटाइल का इजाज़तनामा मिलने ही वाला था कि वज़ीर बदल गया।

हालात इस कदर बिगड़ गए कि जोश साहब का मुशायरों में जाना बंद हो गया और वे वहां स्वयं को तन्हा महसूस करने लगे। 1967 में वे एक दफ़ा चंद महीनों के लिए हिन्दुस्तान आये और इस दौरान उन्होंने मुंबई में एक अखबार में इंटरव्यू दिया।

उसका नतीजा यह हुआ कि पाकिस्तान सरकार ने उनकी सरकारी नौकरी छीन ली। जोश मलीहाबादी के जीवन आख़िर के कुछ साल गुमनामी में गुज़रे और इसी अफ़सोस में 22 फरवरी 1982 को वे इस दुनिया से रुख़सत हो गए।

जोश का इंतकाल तो पाकिस्तान में हुआ लेकिन उनकी आत्मा आज भी लखनऊ के मलीहाबाद के आम के बाग़ों में ही फिरती होगी।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे