उत्तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन में 31 जूनियर इंजीनियर ट्रेनी (सिविल) पदों के लिए ऑनलाइन आवेदन का अंतिम दिन आज सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

उत्तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन में 31 जूनियर इंजीनियर ट्रेनी (सिविल) पदों के लिए ऑनलाइन आवेदन का अंतिम दिन आज



UPPCL Recruitment 2019: उत्तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड (UPPCL) जूनियर इंजीनियर ट्रेनी (सिविल) के पद के लिए Candidates की भर्ती करने जा रहा है. इन पोस्टों के लिए Eligible सभी Candidates निर्धारित प्रारूप के अनुसार 26 दिसंबर 2019 तक या उससे पहले इन पदों के लिए Apply कर सकते हैं.


महत्वपूर्ण तिथियाँ:
Online Application जमा करने की प्रारम्भिक तिथि: 5 दिसंबर 2019
Online Application जमा करने की अंतिम तिथि: 26 दिसंबर 2019
चालान (ऑफलाइन) के माध्यम से आवेदन शुल्क एवं Processing Fees जमा करने की तिथि: 5 से 26 दिसंबर 2019
Computer based Test की संभावित तिथि: फरवरी 2020 का पहला सप्ताह



Job Summary

Notification UPPCL Recruitment 2019: Apply Online for 31 Junior Engineer Trainee (Civil) Posts

Notification Date Nov 25, 2019

Estimate Date 1

Last Date of Submission Dec 26, 2019

Official URL https://upenergy.in/uppcl/en

City lucknow

State Uttar Pradesh

Country India



रिक्ति विवरण:
जूनियर इंजीनियर ट्रेनी (सिविल) - 31 पद



पात्रता मानदंड:
शैक्षणिक योग्यता: Candidates के पास किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से Civil Engineering में diploma होना चाहिए.


आयु सीमा -
21 वर्ष की आयु से कम और 40 वर्ष से अधिक नहीं (सरकार के मानदंड के अनुसार आरक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों के लिए ऊपरी आयु सीमा में आयु में छूट)


वेतन - पे मैट्रिक्स लेवल - 7, 44900 / -रूपए.
चयन मानदंड:
Candidates का चयन Written Test के आधार पर किया जाएगा. Computer based Test वाराणसी, लखनऊ, आगरा और मेरठ शहरों में conduct किया जाएगा. सीबीटी कुल 200 अंकों के साथ 3 घंटे की अवधि का होगा और इसमें कुल 200 प्रश्न शामिल होंगे.


ऑफिशियल नोटिफिकेशन                             क्लिक करें
ऑनलाइन अप्लाई                                          क्लिक करें
ऑफिशियल वेबसाइट                                     क्लिक करें



आवेदन प्रक्रिया: Eligible Candidates 26 दिसंबर 2019 तक या उससे पहले Online Mode से पश्चिम बंगाल पुलिस भर्ती 2019 के लिए Apply कर सकते हैं. उम्मीदवार अधिक विवरण के लिए UPPCL भर्ती 2019 Official Notification PDF को देख सकते हैं.

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे