Happy Lohri Wishes in Hindi / Punjabi 2020: Wishes, Messages, Quotes, Images, Facebook & Whatsapp status in hindi सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Happy Lohri Wishes in Hindi / Punjabi 2020: Wishes, Messages, Quotes, Images, Facebook & Whatsapp status in hindi


Happy Lohri Wishes in Hindi / Punjabi 2020 अपने सभी प्रियजनों को व्हाट्सप्प पर लोहड़ी शायरी (50 Happy Lohri Wishes in Hindi/Punjabi) भेजने के लिए यहाँ से Images एवं SMS

 Happy Lohri Wishes in Hindi/Punjabi
 Happy Lohri Wishes in Hindi/Punjabi

लोहड़ी का त्योहार हर साल 13 जनवरी को मनाया जाता है। भारत के पंजाब और हरियाणा के आसपास और जम्मू कश्मीर के हिस्सों में भी लोहड़ी का त्योहार बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है।इस दिन लकड़ियों और उपलों से आग जलाकर उस आग के चारों तरफ चक्कर लगाते हैं। इसके साथ ही नई फसल को काटकर उसका भोग सबसे पहले आग में डालते हैं और ऐसा मानते हैं कि यह भगवान को भोग लग रहा है।लोहड़ी के खास अवसर पर लोग अपने प्रियजनों को शुभकामनाएं भी देते हैं। ऐसे में आप भी अपने दोस्तों, रिश्तेदारों, शुभचिंतकों को व्हाट्सएप, फेसबुक और सोशल मीडिया के माध्यम से इन खूबसूरत वॉलपेपर के जरिए शुभकामनाएं भेज सकते हैं।


जैसे जैसे लोहड़ी की आग तेज हो
वैसे वैसे हमारे दुखों का अंत हो
लोहड़ी का प्रकाश आपकी जिन्दगी को प्रकाशमय कर दे
हैप्पी लोहड़ी




सर्दी की थर्राहट में
मूंगफली, रेवड़ी और गुड़ की मिठास के साथ
लोहड़ी मुबारक हो आपको
दोस्ती और रिश्ते की गर्माहट के साथ
हैप्पी लोहड़ी



लोहड़ी की आग में दहन हो सारे गम
खुशियां आएं आप के जीवन में हरदम
हैप्पी लोहड़ी



पॉपकॉर्न की खुशबू, मूंगफली की बहार
लोहड़ी का त्योहार आने को तैयार
थोड़ी सी मस्ती, थोड़ा सा प्यार
मुबारक हो आपको लोहड़ी का त्योहार




सरसों दा साग, मक्के डी रोटी
मूंगफली ते गजक
हैप्पी लोहड़ी



LOHRI WISHES IN HINDI


हम आपके दिल में रहते हैं इसलिए हर गम सहते हैं,
कोई हम से पहले ना कह दे आपको,
इसलिए हम पहले ही आपको “हैप्पी लोहड़ी” कहते हैं..
फिर आ गई भंगड़े दी वारी,
लोहड़ी मनाओ दी करो तैयारी!
लोहड़ी की लख लख बधाइयां..
मक्की दी रोटी ते सरसों दा साग, सूरज दिया करण,
खुशियां दी बहार, ढोल दी आवाज ते नचदी मुटियार,
मुबारक होव सरकार लोहरी दा त्यौहार..
Happy Lohri




इससे पहले कि लोहरी की शाम हो जाए,
मेरा SMS औरों की तरह आम हो जाए,
और सारे मोबाइल नेटवर्क जाम हो जाए,
आपको लोहरी की शुभकामनाएं हैप्पी लोहरी..
लोहरी की आग में दहन हो सारे गम
खुशियां आए आप के जीवन में हरदम Happy Lohri लोहड़ी का प्रकार, जिंदगी का अंधकार मिटाए,
इसी कामना के साथ आओ मिलकर, लोहड़ी का त्यौहार मनाए,
हैप्पी लोहड़ी!!!
LOHRI WISHES IN PUNJABI


मूंगफली, तिल और गुड लाए आपके जीवन में खुशियाँ,
लोहड़ी का प्रकाश कर दे रोशन आप के आने वाले कल को.
पॉपकॉर्न की खुशबु, मूंगफली रेबड़ी की बहार,
लोहरी का त्यौहार और अपनों का प्यार…
थोड़ी सी मस्ती, थोडा प्यार,
कुछ दिन पहले से आपको मुबारक हो
लोहड़ी का त्यौहार, हैप्पी लोहरी



Happy Lohri Wishes in Hindi / Punjabi 2020

ट्विंकल ट्विंकल यारां दी कार,
खड़के ग्लासी in the bar
पंजाबी भंगड़ा ते मक्खन मलाई
तुहानू लोहरी दी लख लख वधाई
हैप्पी लोहरी



बल्ले बल्ले… ओ, लोहरी आ गई ओये,
आर्डर… आर्डर… आर्डर…
तमाम सबूतों और गवाहों को नज़र में रखते हुए,
मेसेज पढने वाले को हैप्पी लोहरी कहते हुए,
ज़िन्दगी भर खुश रहने का हुकुम सुनाया जाता है ||


लोहड़ी दी लाख-लाख वधियाँ ते चलो मिलकर
लोहड़ी दे गीत गिये ते नाचिये….
जैसे जैसे लोहड़ी की आग तेज हो
वैसे वैसे हमारे दुखों का अंत हो
लोहड़ी का प्रकाश आपकी जिन्दगी को प्रकाशमय कर दे
हैप्पी लोहड़ी


मूंगफली दी खुशबू ते गुर: दी मिठास,
मक्की दी रोटी ते सरसों दा साग,
दिल दी खुंशी ते आपनों दा प्यार,
मुबारक होवे तुहानूं लोहड़ी दा त्यौहार ||

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे