9xMovies 2020 - 9xMovies | Shubh Mangal Zyada Saavdhan Starring Ayushmann Khurrana Gajraj Rao Neena Trailer Review सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

9xMovies 2020 - 9xMovies | Shubh Mangal Zyada Saavdhan Starring Ayushmann Khurrana Gajraj Rao Neena Trailer Review

9x Movies Downlaod | Shubh Mangal Zyada Saavdhan Starring Ayushmann Khurrana Gajraj Rao Neena  Trailer Review

9x Movies Downlaod | आयुष्मान खुराना लौट आए हैं। उनका परदे पर लौटना ही अब खबर बनने लगा है क्योंकि ये सबको पता है कि ये अभिनेता आएगा तो कुछ अलग अतरंगी सी कहानी लेकर ही। ड्रीम गर्ल के बाद शुभ मंगल ज्यादा सावधान। हिंदी सिनेमा में समानातंर सिनेमा और कमर्शियल सिनेमा का फर्क मिट चुका है औऱ इसके लिए आयुष्मान खुराना ने पिछली सात फिल्मों में काफी मेहनत भी की है। शुभ मंगल ज्यादा सावधान उनकी आठवीं हिट फिल्म होती दिख रही है।



डिजिटल रिव्यू: शुभ मंगल ज्यादा सावधान (ट्रेलर)
कलाकार: आयुष्मान खुराना, गजराज राव, नीना गुप्ता, जीतू के, मनु ऋषि चड्ढा, मानवी गगरू, पंखुड़ी अवस्थी और नीरज सिंह आदि। लेखक- निर्देशक: हितेश कैवल्य
निर्माता: भूषण कुमार, आनंद एल राय और हिमांशु शर्मा
रेटिंग: ***



शुभ मंगल ज्यादा सावधान के लिए हिंदी सिनेमा के दर्शकों में कौतुहूल ज्यादा है। उन्हें फर्क नहीं पड़ने वाला कि फिल्म समलैगिंक रिश्तों पर बनी है। ट्रेलर फिल्म की पूरी विचारधारा दमदार तरीके से बयां भी कर देता है। पहला सीन ही बता देता है कि आयुष्मान खुराना अपने इस समलैंगिक प्रेमी वाले किरदार को लेकर करने क्या वाले हैं। यह समलैंगिक किरदार किसी से शरमाता नहीं है। आंखों में आंखे डालकर अपने समलैंगिक होने की बात कहता है और घर वाले नहीं मानते तो घर की छत पर भोंपू लेकर भी चढ़ जाता है।



आयुष्मान के बाद फिल्म ट्रेलर में रंग जमा है गजराज राव और नीना गुप्ता की जोड़ी से। दोनों ने बधाई हो में कमाल काम किया था, अब फिर से वह वैसा ही कुछ करते दिख रहे हैं। मां बोलती है, 'बनूंगी मैं मदर इंडिया। मां हूं मैं। मां के पास दिल होता है।' और जवाब मिलता है, 'हां, बाप तो बैटरी से चलते हैं।' ये एक पंक्तीय संवाद (वन लाइनर) ही हैं जिनके सहारे दो मिनट 41 सेकंड का ट्रेलर पहले फ्रेम से आखिरी फ्रेम तक अपनी पकड़ बनाए रखता है।


आयुष्मान के किरदार के प्रेमी के तौर पर जीतू के ने भी रंग जमाया है। हां, आयुष्मान के चेहरे पर इस बार ताजगी कम दिखती है। हो सकता हो कि ये किरदार का तनाव दिखाने की कोशिश है, हो ये भी सकता है कि वह लगातार काम करने से थक भी रहे हों। राजेश खन्ना के 15 लगातार हिट फिल्मों के रिकॉर्ड के आधे तक आय़ुष्मान आ पहुंचे हैं, आगे बढ़ते रहने के लिए उन्हें ऊर्जा की जरूरत दिखने लगी है। बाकी ट्रेलर मस्त है और पिक्चर अभी बाकी है।



'


9x Movies Downlaod | Shubh Mangal Zyada Saavdhan Starring Ayushmann Khurrana Gajraj Rao Neena, Trailer Review

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे