Bhootiya Bus Hindi Kahani पढ़िए हिंदी कहानी भूतिया बस ( भाग 1 ) सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Bhootiya Bus Hindi Kahani पढ़िए हिंदी कहानी भूतिया बस ( भाग 1 )



















Bhootiya Bus Hindi Kahani पढ़िए हिंदी कहानी  भूतिया बस ( भाग 1 )

अमीत ओर नेहा रात के वक्‍त दूसरे शहर की ओर जा रहे थे। कई साल के प्रेम संबंध के बाद उन्होंने कुछ महीनों पहले ही शादी कर ली थी। दोनो एक ही ऑफिस में साथ काम करते थे....वहीं से उनका प्रेम संबंध शुरू हुआ था।


ओ अमीत तुम कितने पागल हो (तुम्हे पता था हमे जरूरी प्रोजेक्ट के बारे में क्लाइंट के ऑफिस जाना था। अगली सुबह ठीक 10 बजे हमे वहा जाना है ओर तुम्हारी वजह से हमारी ट्रेन छूट गई अब कार से जाना पढ़ रहा है।

डार्लिंग फिक्र मत करो हम वक़्त पे वहा पहोंच जायेगे(छ) |

दोस्त की पार्टी में पीने को क्या मिल गई...वक़्त पे आना ही भूल गए जनाब

अरे थोड़ीसी ही तो पी थी....अब जा रहे है ना शांत रहो (छ)

तुम्हारे पार्टी के चक्कर में ट्रेन छूट गई ना वरना जल्द पहोँंच जाते(छे अब कार से ज्यादा वक़्त लगेगा... डार्लिंग में हूं ना टाइम पे हम पहोंच जाएंगे &छे

अमीत गाना गुनगुनाने लगा सुहाना सफर ओर ये मौसम हसी हमे डर है हम खो ना जाए कहीं & 8 ..अमीत प्लीज गाना बंद करो..मेरा मूड खराब है...

अब मान भी जाओ ना माफ़ करदो...नेहा मुंह घुमाके बहार देखने लगी....तभी अमीत ने गाड़ी रुका दि...नेहा बोली अब क्या हुआ महाराज आपको [( ...जी बड़ा महत्वपूर्ण कार्य करने जाना है आपकी इजाजत हो तो जरा हल्का हो आऊ....नेहा बोली हा जनाब जाइए...

अमीत ने सामने देखा उसको एक ओर रास्ता वहा दिखाई दिया...जो जंगल की तरफ से जाता था। दहा एक बोर्ड भी था...वो उसके पास गया बोर्ड पे काफी धूल थी। उसने धूल हटाई ओर देखा फिर वो जल्द गाड़ी के पास आया और नेहा को बोला मेडम जी जल्द पहोचने का रास्ता मिल गया। नेहा बोली कोनसा रास्ता? अरे वो सामने देखो रास्ता हे..


दैसे मुझे जरा बताओ नेहा अभी शहर कितने किलोमीटर दूर है? नेहा बोली अभी हाईवे के बोर्ड पे देखा था करीब 200 किलोमीटर.... ओर मेने जो रास्ता अब देखा है उसपे सिर्फ 40 किलोमीटर लिखा है...मतलब उस रास्ते से जल्द पहोंच जायेगे ओर थोड़ा आराम कर के निकल सकेंगे...हा पर हाईवे से ही चलते है ना अमीत...वो रास्ता घने जंगल से जाता है...अरे तो क्या हुआ तुम्हे डर लगता हे क्या&) &छ)

डर की बात नहीं है अमीत पर अगर कुछ हुआ या कार खराब हुई तो क्या करेंगे। ओ नेहा तुम भी ना बचकानी बाते करती हो अब चलो चलते हे वहा से...नेहा बोली ठीक है चलो ओर दोनों उस घने जंगल के रास्ते मूड गए। अमीत कब से कार चला रहा था...नेहा ने उसे कहा देखो ना कहीं कोई घर या लाइट लगी हुई नहीं दिख रही...अरे डार्लिंग घना जंगल हे शायद कोई गांव आगे होगा ओर तुम क्यू इतनी फिक्र कर रही हो।

पता नहीं पर कुछ अजीब लग रहा है इस रास्ते पे... अमीत हस कर बोला हा हमे आगे अब भूत ओर चुडैल मिलेंगे..नेहा गुस्सा हुई...तुम ना दो प्रतिलिपि पर भूषण पाटील की हॉरर कहानियां पढ़ पढ़ के एसे भूतिया हो गए हो...मुझसे ना शादी कर के किसी चुडैल से ही कर लेते...हा खोजा तो था..पर तुमसे बड़ी वाली कोई नहीं मिली (छ (छ&। अमीत तुमको ना गाड़ी से फेंक टूंगी&।

तभी अचानक गाड़ी से जोर की आठाज अ>ई ओर गाड़ी रुक गईं...क्या हुआ अमीत? पता नहीं शायद कार में कुछ गडबड है..रुको में देखता हूं। अमीत कार के बहार निकलकर देखने लगा...अरे शीट कार के दो टायर फट चुके है। नेहा बोली तो स्टेपनी होंगी ना। अमीत ने मुंह टेढ़ा कर बोला नहीं है और होती भी तो एक ही काम आती दूसरी कहा से लाते। अमीत तुम ना गड़बड़ की दुकान हो...क्यू अ>ई में तुम्हारे साथ...अब क्या करेंगे इस घने जंगल में।

'
गुस्सा मत हो तुम कुछ करते है...नेहा भी कार से बहार आ गई...अमीत बोला यार इस रास्ते पे तो कोई और गाड़ी भी दिखाई नहीं दे रही... नाही कोई इंसान...हा ओर आओ जिद की थी ना इस रास्ते से आने की अब भुगतो नेहा गुस्से में बोली...अब केसे शहर पहोचेंगे..तभी सामने से अ.ई हुई तेज रोशनी ने उनका ध्यान अपनी तरफ खींचा...वो एक बस थी। अमीत बोला अरे वाह निकल पड़ी...वो बस धीरे धीरे उनके पास अ०ई..बस में ज्यादा रोशनी नहीं थी और ड़ाइवर भी हल्की रोशनी में बैठा था। उसका चेहरा अंधेरे में था पर बाकी शरीर दिखाई दे रहा था।

अमीत ने उसे पूछा ये बस कहा जा रही है? उसने कहा पास के बस स्टैंड जा रही है। अमीत ने नेहा की ओर देखा और बोला देखो अब हम इसमें चलते है वहा कोई मेकेनिक को ढूंढ़ उसको कार के बारे में बता के थोड़े ज्यादा पैसा दे के वहीं से दूसरी बस पकड़ के शहर चले जायेगे और दापस आते वक़्त कार ले जाएंगे। नेहा ने बस देखी दो बोली कितनी अजीब बस हे पुरानी सी...अमीत बोला क्या तुम भी.... मदद तो मिली ना अब चलो बैठ जाओ...हमे जल्द पहोचना है अगर प्रोजेक्ट मिल गया तो दोनों का भविष्य और अच्छा होगा कुछ मत सोचो चलो अब...

नेहा बोली ठीक है चलो...दोनो बस में बैठ गए पिछली सीट पर ओर बस चलने लगी...नेहा ने बस में नजर घुमाई देखो ना कितनी अजीब ढात है बस में सारी महिलाए है ओर सारी घुंगट डाले कैसे सो रही है। अमीत बोला हमे क्या इससे चुपचाप बैठी रहो। बस में सिर्फ हल्की रोशनी थी कि अचानक सारी लाइट जलने बुजने लगी और सारी महिलाए जोर से चिलाती हुई रोने लगी। अमीत और नेहा ये नज़ारा देख डर गए। अमीत ये क्या हो रहा है! पता नहीं नेहा कुछ समझ नहीं आ रहा...


तभी सारी महिलाए उठ खड़ी हुई और पीछे नेहा ओर अमीत की ओर घूमी...दोनो काफी डर गए...फिर धीरे धीरे सबका घुंगट उप्पर उठने लगा...सामने का भयानक नज़ारा देख दोनो ओर ज्यादा डर गए। उन्होंने देखा सारी महिलाओ का चेहरा बुरी तरह जला हुआ था और उनकी आंखो से रक्‍त बह रहा था...दो जोर जोर से रोती हुई उनके पास आ रही थी। अमीत बोला ड़ाइदर जल्द गाड़ी रोको...तभी ड़ाइवर की भयानक आवाज अ०ई...अब ये बस नहीं रुकेगी।

जेसे ही दो महिलाए पास अ&ई अमीत ने उठ के उनको रोकना चाहा पर एक महिला ने उसको पक्‍कड़ के बस के बाहर फैंक दिया और अमीत जोर से एक पेड़ से जाके टकराया...और फिर बेहोश हो गया। वो भूतिया बस नेहा को अपने साथ ले गई थी। अगली सुबह एक राहगीर ने अमीत को देखा और तुरंत अस्पताल ले गया। कुछ घंटो के बाद अमीत को होश आया।

दो चिल्लाने लगा नेहा...नेहा.कहा हो सामने उसने देखा एक आदमी और कुछ पुलिसवाले वहा खड़े थे। एक पुलिसदाले ने उससे पूछा आपको चोट केसे लगी और आप बेहोश क्यू हुए थे। अमीत ने सारी ढात उन्हें बताई पर पुलिसदालों को उसपे शक हुआ कि ये जूठ बोल रहा है ओर बकवास बाते कर रहा के....कुछ घंटो बाद रिपोर्ट अठई की अमीत ने थोड़ी शराब भी पी रखी थी (जो उसने दोस्त की पार्टी में पी थी)... पुलिसवालों को लगा शायद इसने ही उसकी पत्नी को कुछ किया होगा और यहां जूठ बोल रहा है।

क्या अमीत जेल से निकल पाएगा? नेहा को दो बस कहा ले गई होगी? उस भूतिया बस का राज क्या था? अमीत नेहा को बचा पाएगा? इसका अगला भाग जल्द प्रकाशित किया जाएगा। आपकी सुंदर प्रतिक्रिया जरूर इस कहानी पे दे। इसका अगला भाग आए ये आपको पता चले इसीलिए मुझे जरूर फोलो कर दे धन्यवाद।।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे