Hindi kahaniya moku monkey story hindi kids story shorty story सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Hindi kahaniya moku monkey story hindi kids story shorty story




Hindi kahaniya moku monkey story hindi kids story

आनंद वन में मोकू नामक एक शैतान बंदर रहता था। वह इतना झगड़ालू था कि सभी उससे उलझने से बचते थे। वह इस कारण अपने आप पर और इतराने लगा। एक दिन मोकू जंगल में खाने की खोज में इधर-उधर भटक रहा था, तभी उसकी नजर एक विशाल आम के पेड़ पर पड़ी। उस पर पीले रंग के छोटे-छोटे फूल खिले थे, हरे-हरे आम के केरी के गुच्छे भी लटक रहे थे। स्वीटी कोयल उसकी एक डाल पर बैठकर मधुर आवाज में गाना गा रही थी।



मोकू ने मन ही मन सोचा, ‘अरे वाह, यह आम का पेड़ तो कुछ दिनों में फलों से भर जाएगा, तो क्यों न यहीं अपना बसेरा बनाया जाए। वह फौरन उछलकर पेड़ पर चढ़ गया और स्वीटी पर लगभग चिल्लाता हुआ बोला, “बंद करो गाना-बजाना। आज से यह पेड़ मेरा घर है। भागो यहां से।” स्वीटी हकलाते हुए बोली, “लेकिन मोकू भैया, पहले तो मैं यहां आई थी।” स्वीटी के ऐसा बोलते ही मोकू ने उसे गुस्से से घूरा और कहा, “दिखाओ जरा अपना घोंसला। मैं तो जानता हूं तुम खुद अपने अंडे कौए के घोंसले में देती हो। बड़ी आई, मुझसे बहस करने वाली।”


मोकू के मुंह से ऐसी बातें सुनकर स्वीटी बहुत दुखी हुई और वह रोते हुए दूसरे पेड़ पर चली गई। तभी पास के अमरूद के पेड़ पर रहने वाली चिंटू गिलहरी बोली, “मोकू, तुम्हें स्वीटी से ऐसे नहीं कहना चाहिए था। हम सभी में कोई न कोई कमी तो होती ही है, साथ ही कुछ अच्छे गुण भी तो होते हैं। हम में से कोई स्वीटी जैसा गा सकता है भला?”


लेकिन मोकू के कान में जूं तक न रेंगी। वह उलटा चिंटू पर बरस पड़ा, “तुम मुझे मत समझाओ। यह पेड़ अब से मेरा है और इसके फल भी।” चिंटू मुसकुराकर बोला, “विनाश काले विपरीत बुद्धि।” मोकू उसे अनदेखा कर पेड़ पर सुस्ताने लगा। शोर सुनकर आसपास रहने वाले पिंकू खरगोश, दीना कौआ और रॉकी चूहा भी अपने घरों से बाहर निकल आए। “छोड़ो चिंटू, कीचड़ में पत्थर फेंकने पर छींटे हमारे ऊपर ही पड़ते हैं।” रॉकी ने कहा।


“सो तो है। चलो, अपना-अपना काम करें।” चिंटू भी बोला, तो सभी अपने-अपने घर चले गए। वे सब मिल-जुलकर रहते, पर मोकू हमेशा अलग-थलग ही रहता। मोकू के भी मजे ही मजे थे। कुछ ही दिनों में पेड़ आम से लद गए थे। वह रोज मीठे रसीले आम बड़े चाव से खाने लगा, साथ ही किसी को भी पेड़ के आसपास फटकने नहीं देता था।


कुछ महीनों बाद आम का मौसम खत्म होने लगा। पेड़ पर और फल आने रुक गए थे। मोकू परेशान होकर पेड़ से बोला, “मुझे भूख लगी है और आम दो।” पेड़ झुंझलाकर बोला, “अब बस भी करो। मैं थक गया हूं और सोना चाहता हूं। मैं फल अब अगले साल ही दूंगा।” पेड़ फिर सुस्ताने लगा। मोकू के कुछ दिन तो किसी तरह निकल गए, पर अब पेड़ पर एक फल भी न था और उसके पेट में चूहे दौड़ने लगे। उसने देखा पास के सेब, संतरे और नाशपाती के पेड़ फलों से लदे थे। दूर बेलों पर हरे और काले अंगूर भी दिख रहे थे। मोकू के मुंह में पानी भर आया । रॉकी, चिंटू और स्वीटी मजे से एक पेड़ से, दूसरे पेड़ पर आ-जा रहे थे और उनके फल कुतर-कुतर के खा रहे थे। मोकू को पहली बार अपने कहे पर पछतावा हो रहा था।


‘हाय, मैंने एक पेड़ पर हक जमाकर बहुत बड़ी गलती कर दी।’ लेकिन अभी भी उसका घमंड आगे आ रहा था। वह किसी भी हालत में झुकने को तैयार नहीं था। मोकू एक दिन हिम्मत करके संतरे के पेड़ के नीचे पहुंचा। उसमें रहने वाले सभी पक्षी और पिंकू खरगोश तन के खड़े हो गए। सबको एक साथ देखकर मोकू थोड़ा घबराया, पर आदत के अनुसार रोब से बोला, “मुझे भूख लगी है, इसलिए संतरे खाने हैं।”


झट से पिंकू बोला, “भूल गए तुम्हारी बातें, इस पेड़ में तो हम रहते हैं, तो यह पेड़ और फल भी हमारे हुए। हम तुम्हें भला क्यों दें?” संतरे और सेब के पेड़ों ने भी हामी भरी, तो मोकू इतना सा मुंह लेकर वापस अपने पेड़ के नीचे आ गया। ‘कल मैं दूसरे वन जाऊंगा।’ मोकू सोचने लगा। तभी किसी ने उसे बुलाया। वह चौंककर इधर-उधर देखने लगा। अचानक उसकी नजर चिंटू पर पड़ी। उसके हाथों में ढेर सारे फल थे। चिंटू बोला, “लो खाओ मोकू, ये मैंने तुम्हारे लिए ही लिए हैं। तुम बड़े कमजोर लग रहे हो।”


मोकू ने गौर से देखा, चिंटू के चेहरे पर किसी प्रकार का व्यंग्य न था। वह सहज तरीके से मुसकरा रहा था। मोकू ने चिंटू को गले लगाया और अपने किए की माफी मांगी। देखते ही देखते रॉकी, पिंकू, स्वीटी सभी उसे घेरकर खड़े हो गए। सभी उसे मित्र बनाने के लिए आतुर थे। मोकू भी जान गया कि मिल-जुलकर रहने में ही भलाई है। ’

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे