Nai Manjil hindi kahani नई मंज़िल सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Nai Manjil hindi kahani नई मंज़िल


लेखक: संजय जैन 

Nai Manjil hindi kahani  नई मंज़िल
Nai Manjil hindi kahani  नई मंज़िल


 अब श्यामली भी एक प्रशासनिक अधिकारी होगी. आख़िर श्यामली ने जो कहा था वह कर दिखाया. रंजीत और नेहा दोनों बहुत ख़ुश हैं. यूं तो समाचार पत्र में यह ख़बर देखने से पहले ही श्यामली ने इस बारे में बता दिया था, पर जब से यह ख़बर देखी है, दोनों के दिल से एक बड़ा बोझ उतर गया है. अब वह नेहा के तैयार होने का इंतज़ार कर रहा है, ताकि दोनों श्यामली से मिल आएं. फ़ोन पर श्यामली की आवाज़ में कितने अर्से बाद बेतहाशा ख़ुशी सुनाई दे रही थी. ‘‘देखो भैया, मैंने कहा जो था वो कर दिखाया. अब मैं भी क़ामयाब हूं,’’ चहकते हुए फ़ोन पर कहा श्यामली ने. ‘‘हां, श्यामली तुमने साबित कर दिया और यह तुम्हारा आत्मविश्वास ही है, जो तुम्हें इस मंज़िल तक लेकर आया है,’’ रंजीत ने उसका हौसला बढ़ाया. ‘‘बस, यह कह देने से ही नहीं चलनेवाला भैया. आपको और भाभी को घर आना है, मेरी इस ख़ुशी में शामिल होने के लिए,’’ श्यामली के आग्रह में थोड़ा लाड़ भी था. ‘‘आ रहे हैं श्यामली. अगले घंटेभर में तुम्हारे पास ही होंगे.’’ इस संक्षिप्त-सी बात के बाद फ़ोन कट गया था.


वह तो कब से तैयार हो गया है, पर नेहा अब तक तैयार नहीं हुई है. नेहा का इंतज़ार करते हुए रंजीत सोफ़े पर बैठे-बैठे अतीत में पहुंच गया. उसे वह दिन याद आ गया, जब वह ऑफ़िस में था और उसे श्यामली के बारे में जो ख़बर मिली थी, उससे वह बेचैन हो गया था. फिर किसी काम में मन नहीं लगा तो उसने बॉस से जल्दी घर जाने की अनुमति ली. असित श्यामली के साथ ऐसा करेगा वह सपने में भी नहीं सोच सकता था. श्यामली उसके बचपन के दोस्त विकास की छोटी बहन है. वर्षों पहले एक एक्सीडेंट में विकास नहीं रहा था, तब से रंजीत ने श्यामली की देखभाल बिल्कुल एक भाई की तरह ही की है. उसने इस बात को ध्येय बना लिया कि श्यामली और उसकी मां को विकास की कमी महसूस न होने पाए. नेहा ने भी तो हमेशा इस रिश्ते को निभाने में अपने हिस्से का पूरा योगदान दिया है. जब घर पहुंचकर उसने नेहा को इस ख़बर के बारे में बताया था तो नेहा भी भौचक्की रह गई थी. असित ऐसा करेगा, ये तो कोई भी नहीं सोच सकता था.


‘क्या कह रहे हो तुम, असित ऐसा कैसे कर सकता है? क्या कुछ नहीं किया श्यामली ने उसके लिए,’ नेहा तो जैसे इस बात पर विश्वास ही नहीं कर सकी थी. ‘हां, पर यही हुआ है. क्या कर सकते हैं? आजकल किसी का भरोसा ही नहीं रहा. चलो तैयार हो जाओ श्यामली के पास चलते हैं, उसे हमारी ज़रूरत महसूस हो रही होगी.’ ‘हां चलो,’ कहकर नेहा उसके साथ चल पड़ी थी तुरंत.


श्यामली के पिता की मौत बहुत पहले ही हो चुकी थी. जब विकास भी ऐक्सिडेंट के दौरान नहीं रहा तो उसके परिवार के सामने मुसीबतों का पहाड़ सा टूट पड़ा. अब श्यामली को अपनी मां के साथ-साथ ख़ुद को भी संभालना था. उन दिनों वह कॉलेज में पढ़ रही थी. शुरू-शुरू में तो उसने पढ़ाई छोड़ दी और छोटी-मोटी नौकरियां करने लगी. कुछ दिन बाद उसे एक डॉक्टर के क्लीनिक में रिसेप्शनिस्ट का जॉब मिल गया. उसने इस काम के साथ अपनी पढ़ाई प्राइवेट स्टूडेंट के रूप में जारी रखी. रंजीत से जितनी मदद हो सकी उसने की. कॉलेज की पढ़ाई पूरी होने के बाद जब श्यामली को एक निजी स्कूल में शिक्षक की नौकरी मिल गई तो नेहा और रंजीत दोनों बहुत ख़ुश थे. उन्हें लगा था कि अब यह परिवार संभल जाएगा. नौकरी लगने के बाद भी श्यामली रुकी नहीं उसने आगे बढ़ने की अपनी कोशिशें जारी रखी. उसने कम्प्यूटर का प्रशिक्षण ले लिया. इसके बाद कम्प्यूटर ऑपरेटर के रूप में अतिरिक्त काम करने लगी, जिससे कुछ आय और होने लगी. नेहा और रंजीत ने इस बीच एक–दो बार उसके विवाह के संबंध में बात चलाई, पर उसने मना कर दिया था. उसका कहना था,‘अभी उसे कुछ बनना है. फिर मां की ज़िम्मेदारी भी तो है और वह किसी ऐसे लड़के से ही शादी करेगी, जो मां को उनके साथ ही रखने तैयार हो.’ उसके मन की बात जानकर रंजीत और नेहा ने इस बात को दोबारा नहीं उठाया. श्यामली और उसकी मां से बीच-बीच में मुलाक़ातें होती रहीं और समय गुज़रता रहा... ‘‘चलिए. कहां खो गए आप?’’ नेहा की आवाज़ ने रंजीत को अतीत से बाहर खींचा और कुछ ही देर बाद रंजीत और नेहा स्कूटर से श्यामली के घर की ओर जा रहे थे. श्यामली का घर शहर के दूसरे छोर पर है. लंबा रास्ता और ट्रैफ़िक... इसे पार करके वहां तक पहुंचने में क़रीब आधा घंटा तो लग ही जाता है. स्कूटर की गति के साथ रंजीत के विचारों का सिलसिला फिर शुरू हो गया था...












फिर एक दिन श्यामली ने ही उन्हें असित के बारे में बताया. असित से उसकी मुलाक़ात काम के सिलसिले में कम्प्यूटर सेंटर पर हुई थी. असित भी उसी की तरह जीवन में संघर्ष कर रहा है. काम भी कर रहा है और प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी भी कर रहा था. ‘वह बहुत मेहनती है,’ यह बताते हुए जिस तरह से वह असित की तारीफ़ों के पुल बांध रही थी, उससे उन दोनों को लगा कि श्यामली उसे पसंद करती है. उस बात के कुछ महीनों बाद श्यामली ने उन्हें अपना फ़ैसला बताया कि वह असित से शादी करना चाहती है और मां उन्हीं के साथ रहेंगी. उसके इस निर्णय से वो दोनों बहुत ख़ुश थे कि चलो अब श्यामली का घर बस जाएगा. कुछ दिन बाद श्यामली और असित वैवाहिक बंधन में बंध गए. कितनी ख़ुश थी उस दिन श्यामली! वह और नेहा इस बात से बहुत संतुष्ट थे कि अब श्यामली के संघर्ष का दौर समाप्त हो जाएगा. असित और वह दोनों मिलकर सब मुश्क़िलों से पार पा लेंगे. पर कुछ दिनों बाद जब श्यामली उनसे मिली तो पता चला श्यामली का संघर्ष तो और भी बढ़ गया है. उसने बताना शुरू किया,‘‘भैया, असित का शुरू से ही सपना है कि वह एक बड़ा अधिकारी बने. उसने मुझे अपना सपना बताया और अब मैंने भी उसके सपने को अपना सपना बना लिया है. अब इस सपने को पूरा करने के लिए जो कुछ भी ज़रूरी होगा हम करेंगे.’ ‘पर श्यामली ये सब इतना आसान नहीं है, बहुत मेहनत लगती है, बहुत समय लगता है और पैसा भी,’ रंजीत ने समझाया था. ‘हां भैया, हम जानते हैं, पर हम दोनों मिलकर कर लेंगे.’








श्यामली के इस जवाब ने आश्वस्त कर दिया था उसे तो उसने अपनी ओर से शुभकामनाएं दी और प्रार्थना भी की कि ईश्वर श्यामली का सपना पूरा कर दे. श्यामली अब फिर से एक बार ज़ोर-शोर से काम में जुट गई. सुबह से बच्चों को ट्यूशन पढ़ाना, दिन में स्कूल जाना, रात को कम्प्यूटर सेंटर का जॉब लगातार...वह इन सबके बीच चकरघिन्नी-सी घूमने लगी. दिन हो या रात उसकी आंखों में बस एक वही सपना बसा रहता. और फिर ख़र्चा भी तो काफ़ी था. प्रतियोगी-परीक्षाओं की किताबें खरीदना, कोचिंग की फ़ीस देना. इन सबको जुटाने में श्यामली ने अपने को झोंक-सा दिया. उसे न अपना ध्यान रहता और न अपने स्वास्थ्य का. जब भी मिलती तो वह बेहद अस्त-व्यस्त रहती. जल्दी-जल्दी बात करती. असित तो लगातार प्रतियोगी परीक्षा की तैयारियों में जुटा रहता, बहुत कम ही दिखाई देता. नेहा जब भी श्यामली के घर जाती उनकी मां से ही बात कर पाती.



फिर वह दिन भी आ गया जब श्यामली और असित की मेहनत सफल हो गई. असित चुन लिया गया. अब वह राज्य सरकार का एक अधिकारी बन जाएगा-यह ख़बर फ़ोन पर सुनाते समय श्यामली की आवाज़ ख़ुशी में समुद्र के ज्वार-भाटे जैसी महसूस हो रही थी, जैसे वह ख़ुशी के मारे सातवें आसमान पर हो.




फिर श्यामली और असित ने इस सफलता की ख़ुशी में अपने घर एक छोटी-सी पार्टी रखी. पार्टी में उन लोगों ने कुछ ख़ास लोगों को ही बुलाया था और रंजीत और नेहा भी उन्हीं में से थे. पार्टी में सबसे ज़्यादा श्यामली ही चमक-दमक रही थी. ऐसा लग रहा था मानो असित नहीं, बल्कि वह इस पद के लिए चयनित हुई है. और यही होना भी चाहिए था, क्योंकि असित ने भले ही पढ़ाई की हो पर श्यामली ने इस सब के लिए जी-जान से मेहनत की थी. असित भी पूरी विनम्रता से अपनी इस उपलब्धि का श्रेय श्यामली को ही दे रहा था. उस पूरी शाम प्रसन्नचित्त श्यामली मेहमानों को मनुहार कर के अच्छी तरह भोजन करा रही थी. मेहमानों के जाने के बाद उसने बताया अब असित को छह माह के प्रशिक्षण के लिए बाहर जाना होगा.




और असित के प्रशिक्षण पूरा करने के बाद मिली थी वह मनहूस ख़बर. ख़बर क्या थी वज्रपात-सा था. असित श्यामली से संबंध-विच्छेद चाहता था. श्यामली इस धक्के को कैसे सहन कर पाई होगी यह ख़्याल दोनों पति-पत्नी को बार-बार कचोट रहा था. जब वे श्यामली से मिलने पहुंचे तो श्यामली के मां ने बताया-ट्रेनिंग के दौरान असित को लगने लगा कि अब वह एक बड़ा अधिकारी बन गया है. उसका सामाजिक स्तर बढ़ गया है. इस स्तर पर अब उसका और श्यामली का मेल नहीं है. प्रशिक्षण के दौरान उसकी अपनी एक महिला साथी अधिकारी से नज़दीकियां बढ़ गईं तो स्तरों में अंतर का यह अहसास और तीव्रता से बढ़ गया. जब ट्रेनिंग के बीच से वह पिछली बार दो दिन के लिए घर आया तो उसने श्यामली से साफ़-साफ़ कह दिया कि वह अब अलगाव चाहता है. उसकी आगे की चमकदार ज़िंदगी में एक मामूली स्कूल टीचर के लिए कोई स्थान नहीं है. श्यामली तो सदमे के कारण कोई प्रतिक्रिया ही नहीं दे सकी.




यह सुनकर नेहा तो ग़ुस्से से लाल-पीली हो गई थी,‘असित ऐसा कैसे कर सकता है? भूल गया क्या श्यामली की वजह से ही आज वह कुछ बन पाया है.’ थोड़ी देर बाद जब श्यामली बाहर आई तो दु:खी लग रही थी, पर गंभीर भी थी. नेहा ने उसका हाथ अपने हाथों में लेकर बात शुरू की,‘श्यामली अब, छोड़ना नहीं है उस कृतघ्न इंसान को. और घबराना भी नहीं. तेरे भैया और मैं किसी अच्छे वक़ील से बात करेंगे.’ और भी बहुत कुछ कहा था नेहा ने. श्यामली जानती थी कि हम उसके हितैषी हैं. वो चेहरे पर फीकी मुस्कान लिए हमारी बात सुनती रही. मैंने भी कहा,‘श्यामली तुम बिल्कुल मत घबराना. हम दोनों तुम्हारे साथ हैं.’


मेरी बात सुनकर पहले तो श्यामली के चेहरे पर आश्वस्ति के भाव आए. वो धीमे और दृढ़ स्वर में बोली,‘भैया और भाभी, मैं दुखी तो हूं, पर असित के इस तरह के व्यवहार से टूटी नहीं हूं. अब भी मज़बूती से ज़मीन पर खड़ी हूं. हमको जीवन बहुत से सबक सिखाता है. यह भी एक सबक है मेरे लिए. उसे तलाक़ चाहिए तो उसे तलाक़ मिलेगा, क्यों उसे मजबूर किया जाए मेरे साथ रहने? और भैया, क्या आप सोचते हैं कि आपकी श्यामली इतनी कमज़ोर है? जब वो किसी को कुछ बनाने का दमख़म रखती है तो ख़ुद भी कुछ बन सकती है. असित को उसकी मंज़िल तक पहुंचा सकती है तो ख़ुद अपने बलबूते उस मंज़िल पर पहुंचने का साहस भी रखती है. और अब असित ही नहीं, पूरी दुनिया देखेगी कि यह श्यामली क्या कर सकती है.’ श्यामली के शब्दों की मजबूती और उनमें पगे विश्वास ने उसकी और नेहा के चिंता के बादलों को उड़ा दिया था.


श्यामली एक बार फिर जी-जान से जुट गई. पहली बार अपने ख़ुद के लिए. पिछले सालभर में उसने दिन रात एक कर उसी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी की. और आज नतीजा सामने था. उसका चयन हो गया था. पिछली बातों को याद करते-करते नेहा और वह कब श्यामली के घर के सामने पहुंच गए उसे पता ही नहीं चला. मुझे और नेहा को अपनी इस बहन पर हमेशा से नाज़ था और आज की तो बात ही और थी! मेरे स्कूटर रोकते ही नेहा ने जल्दी से श्यामली के घर की बेल बजा दी.

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे