Sunny Singh Sonali Seygall Film Jai Mummy Di Movie Review: इन पांच वजहों से नहीं चढ़ सकी लव रंजन की कॉमेडी की हांडी, फिल्म सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Sunny Singh Sonali Seygall Film Jai Mummy Di Movie Review: इन पांच वजहों से नहीं चढ़ सकी लव रंजन की कॉमेडी की हांडी, फिल्म


Jai Mummy Di Movie Review: इन पांच वजहों से नहीं चढ़ सकी लव रंजन की कॉमेडी की हांडी, फिल्म जय मम्मी दी को मिले इतने स्टार


Sunny Singh Sonali Seygall Film Jai Mummy Di Movie Review: इन पांच वजहों से नहीं चढ़ सकी लव रंजन की कॉमेडी की हांडी, फिल्म




Movie Review: जय मम्मी दी
कलाकार: पूनम ढिल्लों, सुप्रिया पाठक, सोनाली सहगल, सनी सिंह, दानिश हुसैन, आलोक नाथ आदि।
निर्देशक: नवजोत गुलाटी
निर्माता: भूषण कुमार, लव रंजन, अंकुर गर्ग आदि।




Jai Mummy Di Movie Review:निर्माता निर्देशक लव रंजन का सिनेमा मुंबइया फिल्मों की एक ही अलग लीक बनाता रहा है। प्यार का पंचनामा एक और दो के अलावा सोनू के टीटू की स्वीटी जैसी फिल्मों की कामयाबी से उन्होंने तमाम फिल्म पंडितों को चौंकाया भी। लव रंजन ने इस बार थोड़ा और लीक से छिटकने की कोशिश की है फिल्म जय मम्मी दी में। लेकिन, फिल्म के नाम से लेकर फिल्म की कहानी और किरदारों को गढ़ने तक में वह इस बार चूके हैं। रंजन की पिछली फिल्म दे दे प्यार दे जैसी हिट फिल्म की कामयाबी दोहराना इस फिल्म के बूते की बात नहीं दिखती। हां, ये फिल्म इसके युवा कलाकारों के लिए कुछ तालियां जरूर बटोर लाती है।


दिल्ली की एक कॉलोनी में रहने वाली पिंकी भल्ला और लाली खन्ना की दुश्मनी भारत पाकिस्तान जैसी है। साथ रहा भी न जाए और दूर जाया भी न जाए। कहानी का दूसरा सिरा दोनों के बच्चे हैं, सांझ भल्ला और पुनीत खन्ना। साथ पढ़ते-पढ़ते दोनों प्यार में पड़ जाते हैं और दिक्कत अब ये है कि घर में बता भी नहीं कर सकते। दोनों अपनी अपनी मम्मियों का अतीत खोजने की कोशिश करते हैं, इसमें तमाम हिचकोले हैं और कुछ जबर्दस्ती की कॉमेडी के टांय टांय फिस होते गोले हैं। कहानी के पहले सिरे से निकलती समलैंगिक रिश्तों की सी कहानी असरदार हो सकती थी, अगर फिल्म की पटकथा चुस्त होती और किस्सा थोड़ा पहले से और कायदे से गढ़ा जाता।



जय मम्मी दी में मसाले सारे हैं। बस रेसिपी गड़बड़ है। ये ऐसी डिश है जिसके एक घंटा 43 मिनट तक कुकर में चढ़े रहने के बाद भी सीटी नहीं बजती। इसकी वजह है इसका प्रेशर ठीक से न बनना। दो सहेलियों की दुश्मनी पर गढ़ी गई कहानी के दोनों सिरे इतने ढीले हैं कि कहीं बीच में आकर फंदा ही नहीं बना पाते। और दोनों की दुश्मनी की जो वजह आखिर में आकर खुलती है, वह न तो दर्शकों को चौंका पाती है और न ही फिल्म में अब तक बेकार हो चुके समय की भरपाई ही करती है। निर्देशक नवजोत गुलाटी इसके पहले तापसी पन्नू की फिल्म रनिंग शादी लिख चुके हैं। लव रंजन ने उन्हें निर्देशन का मौका भी दे दिया, लेकिन वह पहली ही गेंद पर लड़खड़ाते नजर आ रहे हैं।


पूनम ढिल्लों और सुप्रिया पाठक दोनों अपने अपने किरदारों में फिट नहीं होतीं। दोनों का दर्शक वर्ग नमक में मिले आयोडीन जितना बचा है। फिल्म बधाई हो में बनी गजराव राव और नीना गुप्ता की जोड़ी जैसी कुछ स्टीरियोटाइप से अलग करने की कोशिश यहां होती तो शायद बात बन जाती। फिल्म ने सनी सिंह और सोनाली सहगल को अच्छा मौका दिया है फिल्म इंडस्ट्री के सामने अपनी काबिलियत दिखाने का।



सनी सिंह के लिए ये फिल्म साल की दूसरी ऐसी फिल्म है जिसके चयन में उनसे गलती हुई है। सोलो हीरो बनने के लिए जिस धैर्य की जरूरत है वह सनी सिंह दिखा नहीं पा रहे हैं। पहले उजड़ा चमन और अब जय मम्मी दी। अपनी सोलो हीरो वाली पारी के दो ओवर वह मेडेन निकाल चुके हैं। एवरेज सुधारने के लिए अगली फिल्म उन्हें ध्यान से खेलनी होगी। इसके लिए उन्हें अपने उच्चारण पर भी काफी काम करने की जरूरत है।


सोनाली सहगल हिंदी सिनेमा में लगातार कोशिश कर रही हैं कि किसी तरह वह पहली कतार की हीरोइनों में शुमार हो जाएं। काम भी वह पिछले साल सेटर्स और इस साल जय मम्मी दी में अच्छा ही करती दिख रही हैं। बस उनके साथ लोचा यही है कि वह सिचुएशन के हिसाब से चेहरे पर भाव ढंग से लाने में चूक जाती हैं। उनकी मौजूदगी ताजगी तो लाती है, पर कहीं न कहीं रवानी लाने में वह चूक जाती हैं।



सुप्रिया पाठक और पूनम ढिल्लों को इस तरह के किरदारों में देखकर कोफ्त होती है। दोनों बेहतरीन अदाकाराएं रही हैं और जय मम्मी जैसी फिल्में सिवाय पैसे के और कुछ उनके खाते में जोड़ती नहीं दिखती। आलोक नाथ फिल्म में क्यों है, निर्माता लव रंजन ही बता सकते हैं, दर्शकों को तो कुछ खास उनके होने न होने का फर्क समझ नहीं आता। अमर उजाला मूवी रिव्यू में फिल्म जय मम्मी दी को मिलते हैं दो स्टार।


Copy this |  rebrand.ly/v43xzfi

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Famous Love Shayari Of These Five Noted Urdu Poet होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते

  Bashir badr shayari  बशीर बद्र की नज़्मों में मोहब्बत का दर्द समाया हुआ है। उनकी शायरी का एक-एक लफ़्ज़ इसका गवाह है। Bashir badr shayari     होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते साहिल पे समुंदर के ख़ज़ाने नहीं आते पलकें भी चमक उठती हैं सोते में हमारी आंखों को अभी ख़्वाब छुपाने नहीं आते दिल उजड़ी हुई इक सराये की तरह है अब लोग यहाँ रात जगाने नहीं आते उड़ने दो परिंदों को अभी शोख़ हवा में फिर लौट के बचपन के ज़माने नहीं आते इस शहर के बादल तेरी ज़ुल्फ़ों की तरह हैं ये आग लगाते हैं बुझाने नहीं आते अहबाब भी ग़ैरों की अदा सीख गये हैं आते हैं मगर दिल को दुखाने नहीं आते मोहब्बत के शायर हैं जिगर मुरादाबादी इक लफ़्ज़-ए-मुहब्बत का अदना सा फ़साना है सिमटे तो दिल-ए-आशिक़, फ़ैले तो ज़माना है हम इश्क़ के मारों का इतना ही फ़साना है रोने को नहीं कोई हंसने को ज़माना है ये इश्क़ नहीं आसां, बस इतना समझ लीजे एक आग का दरिया है और डूब के जाना है     जिगर मुरादाबादी शायरी     वो हुस्न-ओ-जमाल उन का, ये इश्क़-ओ-शबाब अपना जीने की तमन्ना है, मरने का ज़माना है अश्क़ों के तबस्सुम में, आहों के तरन्नुम में मासूम मुहब्ब