सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

2.0 Read in Hindi


2.0 हॉरर सस्पेंस/ग्रिलर प्रेम

Robot 2.0 फुटपाथ पर बैठा एक बच्चा सड़क के लाइट के सहारे पढ़ने की कोशिश कर रहा था वह दिखने में बहुत कमजोर लग रहा था जैसे उसने बहुत दिनों से कुछ नहीं खाया हो लेकिन उसके चेहरे पर एक जूनून था जो कुछ कर गुजरने की तमन्ना रखता था तर


1,Robot 2.0
फुटपाथ पर बैठा एक बच्चा सड़क के लाइट के सहारे पढ़ने की कोशिश कर रहा था। वह दिखने में बहुत कमजोर लग रहा था जैसे उसने कई दिनों से कुछ नहीं खाया हो। लेकिन उसके चेहरे पर एक जुनून था जो कुछ कर गुजरने का था।



तभी एक बच्चा दौड़ते हुए उसके पास आया और हांफते हुए बोला- रॉकी जल्दी चल तेरी मां की तबीयत बहुत खराब हो रही है ठह तेरा ही नाम ले रही हैं।


रॉकी दौड़ते हुए अपने मां के पास पहुंचता है उसकी मां की आख़री सांसें चल रही थी उसने बड़ी मुश्किल से रॉकी को अपने पास बुलाया और बोली- बेटा रॉकी मुझसे एक दादा कर, तु कैसे जियेगा ये मुझे नहीं पता लेकिन तू मरेगा सबसे अमीर आदमी बन कर...


रॉकी- मैं दादा करता हूं मां चाहे मुझे कोई जिते जी याद ना करें लेकिन मेरे मौत पर सब मुझे याद करेंगे और मुझे हमेशा याद रखेंगे। 2, Robot 2.0
साइंटिस्ट का लैब..
राधिका देखना हमारे इस अठिष्कार से देश को कितना फायदा होगा हमारा देश कितना तरक्की करेगा।
राधिका- यस सर, यह तो बिल्कुल अजुबा है। यह साइंस को एक नया मुकाम देंगा।
साइंटिस्ट- अच्छा चलो, इसे एक बार चेक कर लेते हैं आज इसका परिक्षण किया जाएगा। मुझे पक्का यकीन है यह माडल उन्हें जरूर पसंद आएगा।
3, Robot 2.0
परिक्षण कक्ष
सर अगर हम इस माडल को पास कर देते हैं तो यह हमारे तथा हमारे देश के लिए खतरा बन सकता है । इतिहास में ऐसे कई उदाहरण हैं जो साबित करने के लिए काफी है कि ये हमारे लिए कितना हानिकारक हो सकता है। अगर इनमें थोडा सा भी गड़बड़ी हुई तो अंजान बहुत खतरनाक होगा। अतः मेरा मानना है कि इस माडल को रस्टिंगेट कर देना चाहिए।



साइंटिस्ट- नहीं सर, मैं इसकी गैरेन्टी लेता हंं इसे बहुत सोच समझकर बनाया गया है ये कोई गलत काम नहीं कर सकता। यह खुद अपने आप को कन्ट्रोल नहीं कर सकता इसे सिर्फ हम कन्ट्रोल कर सकते हैं। यह हमारे आदेशों पर ही कार्य करेगा।


निर्णय कर्ता - लेकिन हम रिस्क नहीं ले सकते यह पुरे देश कि सुरक्षा का सवाल है। इस लिए इस माडल को रस्टिगेट किया जाता है।

साइंटिस्ट- नहीं सर मैं बर्दाद हो जाऊंगा, पुरे 5 साल की मेहनत से मैंने इसे बनाया है अपनी सारी सम्पत्ति इसे बनाने में लगा दिया। आप ऐसा नहीं कर सकते।आप एक बार और परीक्षण करके देख लिजिए यह एकदम परफेक्ट है। निर्णय कर्ता - सारी, लेकिन इस माडल से देश को खतरा हो सकता है हम रिस्क नहीं लेना चाहते

साइंटिस्ट- आप ऐसा नहीं कर सकते। आप सभी को इसका नतीजा भुगतना पड़ेगा मैं आप लोगों को नहीं छोड़ंगा........... देख लेना

4. साइंटिस्ट का घर
मेरे प्यारे मैंने तुम्हें बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। लेकिन इस दुनिया ने तुम्हें ठुकरा दिया। मेरे इतने सालों के मेहनत और ज्ञान का अपमान किया है।

तुम मुझसे दादा करो कि जिस तरह मैं तड़प तड़प कर मर रहा हूं उसी तरह जिसने तुम्हें ठुकराया है वो भी तड़प तड़प कर मरे। क्या कह रहे थे अगर तुम्हें लांच किया तो दुनिया खतरे में पड़ जाएगा।

अब ऐसा ही होगा इस दुनिया में इतनी तबाही फैलाना कि ये दुनिया कांप उठे।
तभी मेरे आत्मा को शांति मिलेगा


मैं वादा करता हूं मेरे जन्मदाता, जिस तरह इन लोगों ने आपको दुख पहुंचाया है उसी तरह मैं इन लोगों को चुन चुन कर मारूंगा। आप जिस तरह मर रहे हैं उससे ज्यादा भयानक मौत उन्हें नसीब होगा।

एक साल बाद
रात के ग्यारह बज रहे थे दिल्‍ली के सड़क पर एक ट्रक तेजी से चल रहा था। अचानक ड़ाइवर की नजर सामने से आती एक यात्रियों से भरी एक बस पर पड़ी जो अपना नियंत्रण खो चुका था।

ड्राइवर के लाख कोशिशों के बावजूद वह बस ट्रक से आ टकराया पर समय रहते ड़ाइवर और उसका साथी ट्रक से कुद गए।

ड्राइवर कराहते हुए खड़ा हुआ और अपने साथी का तलाश करने लगा वह उसके पास में बेहोश पड़ा था।

फिर उसकी नजर बस पर पड़ी तो उसके शरीर कांप उठा, ऐसा भयानक एक्सीडेंट।कई लोगों के टूटे लाशें बस के बाहर लटक रहे थे। बस के पूरे परखच्चे उड़ गए थे बस के अंदर से कराहने और चिकने की आवाज धीरे-धीरे कम होते जा रहा



तभी उसके साथी को होश आया डाइदर ने उसे वहीं पत्थर के सहारे बैठा दिया और पुलिस को फोन करके बुलाने लगा।
तभी बस के अंदर से आदाजें आने लगी जैसे कोई बस के दरठाजे को पीट रहा हो।
ड्राइवर बह के तरफ बढ़ने लगा उसे लगा कि बस में कोई बचा हुआ है।तभी बस का दरवाजा टूटकर धड़ाम से सड़क पर गिरा ।

चांद की रोशनी कम था लेकिन ट्रक के एक लाइट अभी भी जल रहा था जिससे सब साफ साफ दिखाई दे रहा था।

बस से एक 25-26 साल का नौजवान बाहर निकाला उसके बाहर निकलते ही सियारों के रोने की आदाज साफ सुनाई देने लगी। उस नौजवान का सर उसके कंधों पर लटक रहा था उसका शरीर टूट फुट गया था उसके कपड़ों पर खून लगा हुआ था जो टप टप करके ज़मीन पर गिर रहा था।

दह किसी जानवर की तरह रेंगने लगा और फिर धीरे से खड़ा हुआ और अपने शरीर को ऐंठने लगा जैसे अंगड़ाई ले रहा हो।

जिससे चटर पटर के आदाज़ सुनाई देने लगी धीरे धीरे उसका टूटा शरीर पुनः जुड़ने लगा जो थोड़ी देर पहले लटक रहा था। फिर उसने अपने सर को पकड़ा और उसे घुमाकर कंधे के बीच पर बैठा दिया जिससे वह। वापस गर्दन में जुड़ गया।

यह देखकर ड्राइवर और उसका साथी पुरी तरह डर गए और वो डरते डरते हलुमान चालीसा पढ़ने लगे लेकिन डर के मारे मुंह से आवाज ही नहीं आ रहा था।

तभी उसे अहसास हुआ कि कोई उसे देख रहा है वो पिछे पलटा तो थोड़ी दूर पर ड़ाइवर खड़ा कांप रहा था उसका साथी पत्थर के पिछे छिपा था तो वह उसे देख नहीं पाया।


ड्राइवर अकेला खड़ा कांप रहा था। वह उसके सामने आया और उसे देखने लगा फिर उसके सर को सहलाने लगा और अचानक अपने दोनों हाथों से उसका सर कुचल दिया, ड्राइवर दही ढेर हो गया। उसे देख कर ड़ाइवर का साथी चिख पड़ा जिससे वह उसके तरह बढ़ने लगा।


तभी पुलिस की गाड़ी तेजी से उनके पास आ रही थी जिससे वह छलांग लगाता हुआ जंगल में गायब हो गया।
और जाते जाते एक सबुत छोड़ गया जिसमें लिखा था - 2.0
इस कहानी के सभी भाग 1

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे