Love Aaj Kal Movie download 720 Review: लव आज कल को मिले इतने स्टार, प्रेम की नई परिभाषा गढ़ने में चूके इम्तियाज, सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Love Aaj Kal Movie download 720 Review: लव आज कल को मिले इतने स्टार, प्रेम की नई परिभाषा गढ़ने में चूके इम्तियाज,



Love Aaj Kal Movie download 720 Review:  लव आज कल को मिले इतने स्टार, प्रेम की नई परिभाषा गढ़ने में चूके इम्तियाज,
Love Aaj Ka Review

 Movie Review: लव आज कल
कलाकार: सारा अली खान, आरुषि शर्मा, कार्तिक आर्यन, रणदीप हुड्डा आदि।
निर्देशक: इम्तियाज अली
निर्माता: दिनेश विजन, इम्तियाज अली
रेटिंग: ***

यूट्यूब और ओटीटी पर मशहूर स्टैंड अप कॉमेडियन जाकिर खान का एक खूब देखा जाने वाला वीडियो है जिसमें वह अपने इंदौर से दिल्ली आने और उसके बाद किसी पार्टी में एक दिल्ली वाली लड़की के साथ चंद घंटे गुजारने का अनुभव साझा करते हैं। पूरी कहानी को जाकिर प्रेम, वासना और किशोरवय वाली उम्मीदों पर बांधते हैं और आखिर में आकर वहां अटक जाते हैं जहां कोई भी लड़का सिर्फ एक गलती करके छिछोरा साबित हो सकता है। इम्तियाज अली की फिल्म लव आजकल का वीर वही इंदौर वाला लड़का है। बस इम्तियाज ने उसका शहर बदलकर उदयपुर कर दिया है।




इम्तियाज अली हिंदी सिनेमा के उन निर्देशकों की जमात के प्रतिनिधि हैं जिनके लिए जिंदगी सिर्फ काली और सफेद नहीं है। वह प्रेम के मायने अपनी निजी जिंदगी के अनुभवों से सीखते हैं। ये अलग बात है कि मुंबई जैसे शहर में अगर प्रेम सिर्फ फायदे के लिए किया जाता हो तो अनुभव काफी दर्दनाक ही होते हैं। तो इम्तियाज अली की फिल्मों में प्रेम की अलग अलग परिभाषाएं देखने के बाद बाकी क्या बचा होगा? अदिति, गीत, मीरा, तारा से जोई तक आते आते इक्कीसवीं सदी में भी लोगों को अगर अरिजीत सिंह का गाना शायद अच्छा लगता है तो इसके मायने यही हैं कि प्रेम की परिभाषाएं कभी बदलती नहीं हैं। ये सिर्फ निर्देशकों के दिमाग का फितूर है।

a
Kartik Aryan and Sara Ali Khan hindi shayarih
Kartik Aryan and Sara Ali Khan hindi shayarih
Kartik Aryan and Sara Ali Khan
वैलेंटाइंस डे पर रिलीज हुई फिल्म लव आज कल को देखने वाले युवाओं और किशोरों को हालांकि सिनेमा के इतिहास और फिल्मों के रिव्यूज से ज्यादा कुछ खास लेना देना नहीं होता, वे तो बस सिनेमाघर के अंधेरे में अपने साथी के साथ कुछ लम्हे फुर्सत के गुजारने पहुंचते हैं। लेकिन, ढंग की कहानी और कायदे के अभिनय की तलाश उनको भी रहती है। 11 साल पहले रिलीज हुई सैफ अली खान, दीपिका पादुकोण और जिसेली की फिल्म से इस लव आज कल की तुलना होनी ही है। एक लाइन में कहें तो इम्तियाज अली बतौर निर्देशक 2009 वाली लव आज कल से 2020 वाली लव आज कल को इक्कीस करने से चूक गए हैं। और, इसमें सबसे ज्यादा दोष है उनके फिल्म के लीड कलाकारों कार्तिक आर्यन और सारा अली खान के रवैये का। दोनों सितारे कहीं से आम इंसानों जैसे नहीं दिखते, उनका हर हाव भाव परदे पर और बाहर भी नकली है।



Love Aaj Ka Review hindi

Love Aaj Ka Review hindi
अपनी फिल्म को हिट कराने के लिए कार्तिक और सारा ने जनता के सामने नकली प्रेम भी किया है। फिल्म लव आजकल में कार्तिक का अभिनय सोचा ना था के अभय देओल से लेकर रॉकस्टार के रणबीर कपूर की नकल करता दिखता है। सैफ अली खान ने पहले वाली लव आज कल में जो शानदार अभिनय किया था, कार्तिक उसके आधे तक नहीं पहुंचते। सैफ पूरी तरह से लय में और किरदार की आत्मा में रचे दिखे थे, कार्तिक न दिल्ली में बसे दिखते हैं और न उदयपुर में।




सारा अली खान का जितना ध्यान अपने बालों को रंगने और मेकअप को सजाने में रहा होगा, उतना ध्यान शायद उन्होंने अपने अभिनय पर दिया होता तो बात कुछ और ही होती। फिल्म के सरप्राइज हैं रणदीप हुड्डा और आरुषि शर्मा। हालांकि रणदीप का ये किरदार उनके हाईवे वाले महावीर भाटी के पसंघे जितना भी नहीं है पर जितनी देर वह परदे पर दिख सके, सुकून से दिखे। आरुषि शर्मा को लव आज कल का फायदा बहुत मिलने वाला है। हिमाचली शोखियां और ईमानदारी उनके अभिनय के पक्के रंग हैं।



Latest Movie Love Aaj Ka Review hindi
Latest Movie Love Aaj Ka Review hindi

Latest Movie Love Aaj Ka Review hindi
दोनों लव आज कल की कहानियां अलग अलग टाइम लाइन पर चलते दो अलग अलग किस्से हैं जिन्हें संपादन के हिसाब से दोनों बार आरती बजाज ने ही एक साथ पिरोया है। आरती अपने फन की उस्ताद हैं और इस बार भी उन्होंने इम्तियाज की फिल्म को काफी संवारा है। और, ऐसा ही कुछ प्रीतम और इरशाद कामिल ने फिल्म के संगीत और अमित रॉय ने कैमरे के जरिए किया है। फिल्म चूकती है तो बस लीड कलाकारों के अभिनय, कहानी के बेस्वाद होने और संवादों के अति नाटकीय होते जाने में। फिर भी अगर आप इम्तियाज अली के सिनेमा के प्रशंसक रहे हैं तो एक बार इसे देख ही सकते हैं। अमर उजाला मूवी रिव्यू में फिल्म लव आज कल को मिलते हैं तीन स्टार।







Love aaj kal, love aaj kal review, imtiaz ali kartik aaryan sara ali khan arushi sharma randeep huda

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे