सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हिंदी कहानी महंगाई रानी को नमन है ! Mahngai Rani Ko Naman Hain Hindi Story

महंगाई रानी को नमन है ! Mahngai Rani Ko Naman Hain Hindi Story
महंगाई रानी मंद-मंद मुस्कुरा रही है. सत्ता सिहासन पर आसीन  उनका सुकोमल चेहरा, देदीव्यमान आभा से आभासित है.महंगाई रानी कहती है- "बोलो ! अब बोलो !! बताओ, मेरी महिमा का गान करोगे की नहीं ?"

हिंदी कहानी महंगाई रानी को नमन है ! Mahngai Rani Ko Naman Hain Hindi Story


एक इंडियन- “आज गैस सिलेंडर  के दाम तुम्हारे प्रकोप से सीधे एक सौ पचास रूपये  बढ़ गए.”
दूसरा इंडियन- देखते ही देखते टमाटर 5 रूपये से 30 रूपये केजी हो गए .”
तीसरा इंडियन- “आलू 10 से 20 रूपये  किलो हो गए .”
चौथा इंडियन-” खाने का तेल भी महंगा हो गया.”
पांचवा इंडियन- ” बीच बीच में रेल यात्रा भी महंगी हो रही है .”
सैकड़ों इंडियन महंगाई रानी के समक्ष, उनके सिहांसन के  सामने हाथ जोड़ कर खड़े हैं । किसी के चेहरे पर बारह बज रहे हैं, तो किसी के एक और किसी के चेहरे पर दो बजे हैं.
महंगाई रानी की मुस्कुराहट और मादक हो गई है. वह मधुर स्वर में बोली,- “तुम इंडियन, मेरी पूजा अर्चना नहीं करते, मुझसे घृणा करते हो. मेरी और देखना भी पसंद नहीं करते.यह अब और बर्दाश्त नहीं करूंगी. देखो, मेरी अक्षुण्ण  शक्ति को पहचानो, और मेरी देवी! की भांति, पूजा करना प्रारंभ करो.

ये भी पढ़ें- मचलते अरमान

एक इंडियन-” हमने तो सदैव देवी- देवताओं की पूजा की है.”
दूसरा इंडियन- “हमारे किसी धार्मिक ग्रंथ में तुम्हारी पूजा के संदर्भ में कोई संकेत नहीं मिलता”
तीसरा इंडियन- “हमारे किसी ऋषि महर्षि ने कभी कोई स्तुति तुम्हारी नहीं गायी है”
चौथा इंडियन- “हे देवी ! हम विवश ह. हम लकीर के फकीर हैं…”
 महंगाई रानी हंसती है.उसकी कल- कलकाती हंसी सभी के कानों में  गूंज रही है . महंगाई रानी कह रही है-” देखो ! तुम सभी की पूजा करते हो, सांप हो या उल्लू, कुत्ता हो या हाथी, बकरी हो या गाय, आकाश हो या धरती… फिर मेरा अपमान क्यों करते रहते हो!”
 सभी इंडियन के चेहरे पर अनेक भाव आ जा रहे हैं.
एक इंडियन- “मगर हम भी क्या करें, हमारे पूर्वजों ने कभी तुम्हारा महत्व हमें बताया ही नहीं… हम क्या करें.”
महंगाई रानी-” तुम बहुत भोले हो, मेरी शक्ति और महाशक्ति का आभास तुम्हें निरंतर हो रहा है, की नहीं.
सभी इंडियंस हाथ जोड़ कर समवेत – “हम तो आपकी महाशक्ति के  मर्मांतक  पीड़ा से आहत हैं त्राहि  त्राहि कर रहे हैं.”

महंगाई रानी-( जोर से हंस कर ) -“मेरी चमत्कारी  ताकत से, देश की सरकार, सत्ता, जन-जन कांपते हैं.”
इंडियंस हाथ जोड़कर- “सचमुच ! हम यह अपनी आंखों से देख रहे हैं.”
 महंगाई रानी- “तो मूर्खों की तरह गुटूर- गुटूर क्या देख  रहे हो,क्यों नहीं, श्रद्धा और भक्ति का चोला ओढ़कर मेरे समक्ष पंक्तिबद्ध खड़े हो जाते. क्यों नहीं घंट बजाते, मेरी स्तुतिका गान करते.”
ये भी पढ़ें- लालबत्ती वाली गाड़ी
इंडियन एक-“हमें सोचने का वक्त दो… हम निरीह गरीब इंडियन पर रहम करो.”
महंगाई रानी- “मैं लगातार, अपनी शक्ति का प्रकोप दिखा रही हूं.”
इंडियंस दो-“हम देख रहे हैं.”

महंगाई रानी-” मैं अपनी ताकत से, तुम्हारा कचूमर निकाल रहीं हूं.”
 इंडियन तीन-” हम लोग खून के आंसू रो रहे हैं.”
महंगाई रानी- “देखो ! जब तक तुम श्रद्धा भक्ति के आवेग का प्रदर्शन करते हुए, मेरी अर्चना नहीं करोगे, मैं तुम्हें इसी तरह प्रताड़ित करती रहूंगी. देखो… तुम भ्रम में मत रहना,तुम्हें मुझसे कोई नहीं बचा सकता. मुझे तुम्हारी एक-एक हरकत की, आहट का पता चल जाता है.”
इंडियन चौथा- “वह कैसे महंगाई रानी !”

 महंगाई हंसकर- “मुझे पता है,मुझसे बचने तुम सरकार के पास जाकर रोते गिड़गिड़ाते हो… हा… हा… हा .”
इंडियन पांचवा- “सरकार हमारी माई बाप है, महंगाई रानी .”
महंगाई रानी-( हंसकर ) “सरकार, जब तुम्हारी और ध्यान नहीं देती तब तुम विपक्ष के पास जाते हो… हा हा हा मगर विपक्ष मेरी राई रत्ती नहीं बिगाड़ सकता, तुम्हारी रक्षा वह नहीं कर सकता । वह ढोंग करता है देश  बंद कराने का ढोंग, मगर क्या उससे मुझसे मुक्ति मिलती है.”

सभी इंडियन समवेत स्वर में- “त्राहिमाम… त्राहिमाम । हमारी रक्षा अब तुम ही करो । हमें रास्ता बताओ । ऐसा रास्ता जिससे हमारा धर्म भी बच जाए और जान भी.”
महंगाई रानी”-एक ही रास्ता है, जो मैं बता चुकी हूं । तुम श्रद्धा भक्ति के साथ जैसे अन्य देवी-देवताओं की पूजा अर्चना करते हो मेरी भी करो.”

सभी इंडियन आंखें फाड़ महंगाई रानी की ओर देख रहे हैं । आंखों में विराट शून्य है ।
महंगाई रानी- “तुम इंडियंस बेहद समझदार हो. खुश हो जाओ. देखो, मेरा प्रकोप त्रेता मे भी था, सतयुग में, भी द्वापर में भी.मगर आज कलयुग में मैं अपने उध्दाम स्वरूप में हूं हा हा हा…”
 सभी इंडियन- “हमें सोचने का वक्त दो, किसी सहृदय  से मशविरा कर ले.”
 महंगाई रानी-” ठीक है,मैं फिर आऊंगी । हा हा हा…”

ये भी पढ़ें- …मशीनें न बन जाएं हम





best story best story in hindi crime story crime story online hindi kahani hindi kahani online hindi story hindi story online khane ki dawat khane ki dawat best story khane ki dawat hindi kahani khane ki dawat hindi story khane ki dawat story in hindi story in hindi thriller story thriller story online कहानी खाने की दावत खाने की दावत कहानी खाने की दावत बेस्ट स्टोरी खाने की दावत हिंदी कहानी खाने की दावत हिंदी कहानी औनलाइन बेस्ट स्टोरी बेस्ट स्टोरी इन हिन्दी हिंदी कहानी हिंदी कहानी औनलाइन हिंदी स्टोरी हिन्दी कहानी

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे