सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Prem Ka New Version प्रेम का नया वर्जन


अतुल चतुर्वेदी
ब प्रेम पगे दिन नहीं , ब्रेकअप भरे दिन हैं । अ जिधर देखो , दिल टूटने के समाचार हैं । उम्मीदों को पलीता लगने की खबरें हैं । कोई नहर में छलांग लगा रहा है , तो कोई टॉवर पर चढ़ धमका रहा है । प्रेम न हो गया , ब्लैक मेलिंग का धंधा हो गया । या तो ' आजा मेरी गाड़ी में बैठ जा ' , वरना चल अपना रास्ता नाप । पुराने दिनों में प्रेम करना ज्यादा कठिन था ।


लड़की के बाप से लेकर भाईयों तक से बचाव के तरीके खोजने पड़ते थे । कॉपी और किताबों के आदान - प्रदान के सात्विक माध्यम से ही बात आगे बढ़ पाती थी । आज प्रेम का मार्ग सुगम और जनसुलभ हो गया है । सर्वत्र प्रेम उपलब्ध है । मेट्रो से लेकर कैफे और परंपरागत पार्कों में प्रेम के परनाले बह रहे हैं ।


 चाहें तो उसमें डुबकी लगाइए या आचमन करके देखिए । देखने में क्या बुराई है ? क्या पता , आपके अंदर बरसों से जमी घृणा और वैमनस्यता की काई हट जाए । आजकल का प्रेम यथार्थवादी है । पैकेज , पद और लुक देखकर ही मृगनैनियां जान छिड़कती हैं । कॅरियर की राह में अब प्रेम बाधक नहीं , साधक है ।


 एक - दो ब्वॉयफ्रेंड या गर्लफ्रेंड नई हो , तो जीवन में गजब की एकाग्रता उत्पन्न आमद होती है । प्रेम अब तलवार की धार पर नहीं चलता , वह स्वार्थों के राजपथ पर सरपट भागता है और अहम की दीवारों से टकराकर बहुधा चकनाचूर हो जाता है । यह जितनी सुगमता से होता है , उतनी ही सरलता से टूट भी जाता है । ब्रेकअप को अब स्टेट्स सिंबल की तरह लिया जाता है । प्रेमी समाज में जिसके जितने अधिक ब्रेकअप , वह उतना ही सफल खिलाड़ी माना जाता है । इस क्षेत्र में आज रोजगार की भी कमी नहीं है ।


 आप लवगुरु के रूप में मार्गदर्शन दे सकते हैं । क्या हुआ जो आपके जीवन में प्रेम का गुलाब नहीं खिला , आप दूसरों के बगीचे में ही पानी दीजिए । आखिर प्रेम का पर्यावरण हरा - भरा रहेगा , तो नफरत की फूंक मारने की जरूरत नहीं पड़ेगी ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे