सचिन तेंदुलकर से मुठभेड़! Sachin se muthbhet hindi kahani hindi shayari h सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सचिन तेंदुलकर से मुठभेड़! Sachin se muthbhet hindi kahani hindi shayari h


सचिन तेंदुलकर  देश के महान क्रिकेटर हैं सो एक दिन संपादक जी ने कहा- बैठे-बैठे तुम एक नंबर के आलसी पत्रकार हो गए हो, आज हमें किसी दिग्गज क्रिकेटर का इंटरव्यू चाहिए और वह भी सचिन तेंदुलकर का, मैंने सुना तो, खोखली हंसी हंसकर रह गया.संपादक जी ने कहा-जा रहे हो न! उनकी  धमक  भरी वाणी  ने असर किया,मै विवश हो, लडखड़ाता अपने घर की ओर चला. सो मैने  अपना धर्म निभाया. एक पत्रकार क्या कर सकता है ?  मैंने सचिन से मुठभेड़ करने की सोची और चद्दर ओढ़ कर सो गया.

सचिन तेंदुलकर से मुठभेड़! Sachin se muthbhet hindi kahani hindi shayari h







“महाशतक” की खुशी में उद्योगपति मुकेश अंबानी ने जश्न ( पार्टी )का आयोजन रखा था.जिसमें देश के नामचीन लोगों को बुलाया गया  था. आमिर खान, सलमान खान, अभिषेक बच्चन,दीपिका पादुकोण , प्रियंका चोपड़ा सहित बौलीवुड के नगीने भी इस मौके पर मौजूद थे. मैंने देश के एक मूर्धन्य जर्नलिस्ट का वेश बनाकर पार्टी में शिरकत की और मौका देखकर सचिन तेंदुलकर  के आसपास भटकने लगा और मौका मिलते ही बातचीत शुरू कर दी.
मै- सचिन जी, नमस्कार ! मैं जर्नलिस्ट आपका एक धांसू सा साक्षात्कार चाहता हूं.
सचिन- आप ? मैंने पहचाना नहीं, आप किस चैनल  से हैं.
 मै-( हड़बड़ा कर ) जी.. जी ..मै देश के नामचीन मीडिया  का स्पेशल करस्पान्डेट हूं.
सचिन – लेकिन, मैंने पहले तो कभी आपको देखा नहीं.
मै- ( पानी पानी होते हुए ) जी! मैं पहले आपसे मिल चुका हूं, शायद आप भूल रहे हैं, आखिर आपके पास समय ही कहां है. हम जैसे छोटे पत्रकारों को याद रखने का…
 सचिन- नहीं, नहीं, दरअसल, मैं स्मरण कर रहा हूं कि आप से मेरी मुलाकात हुई है या नहीं.
 मै- जी! मैं भी आपका एक छोटा सा फैन हूं आपके इर्द-गिर्द पहुंचने का मौका  कहां मिलता है .आज सौभाग्य से आप तक पहुंच गया हूं.
 सचिन-( हंसकर ) ऐसा नहीं है, मैं भी आपकी ही तरह साधारण हूं .
मै -यह तो आपका बड़प्पन है. मगर सच यह है कि आप  राज ठाकरे, लता मंगेशकर और राहुल गांधी जैसी हस्तियों तक आप कैद होकर रह गए हैं.आम भारतीय आप तक पहुंच ही नहीं सकता…!
ये भी पढ़ें- संबंध : भाग 4

सचिन-( मुस्कुराकर ) दरअसल, मसला सिक्योरिटी का है.

 मै- क्या आपको अपने ही देश के लोगों से खतरा है ?
 सचिन- भई खतरा तो खतरा है और यह अपने आसपास के लोगों से ज्यादा होता है.
मै- मगर यह अन्याय नहीं है क्या ? अपने ही देश के लोगों से खतरा ??
 सचिन- हम सेलिब्रिटी इस हकीकत से गुजरते हैं दोस्त…।
 मै- मुझे लगता है, आपको आम देशवासियों से खतरा नहीं बल्कि…
 सचिन- (आश्चर्यवत् ) बल्कि… क्या मतलब .
मै – आपको देश के विशिष्ट लोगों से ज्यादा खतरा है.
सचिन- (आवाक्) मैं समझा नहीं .
मै- सचिनजी!आपको, राज ठाकरे जैसे इस देश के दिग्गजों से ज्यादा खतरा है.
सचिन- (खोखली हंसी हंसते हुए ) अच्छा… मुझे नहीं पता मुझे नहीं लगता.
 मै-  कभी बालासाहेब ठाकरे  की एक हुंकार पर सचिन, आप की बोलती बंद हो जाती थी, भला क्यो?
सचिन- तुम पत्रकार हो या मिटर (आईना) मैं मौन रहूंगा.
 मै- सचिन, मौन बोलता है. आपका मौन, सर चढ़कर बोल रहा है. आप सच्चाई को स्वीकार करिए.
सचिन- मैं अगर यह कहूं कि मैं बालासाहेब का सम्मान करता था तो…।
मै- और राज ठाकरे का.
सचिन- वे मेरे भाऊ हैं… बड़े भाई साहब (हंसते हैं )
मै- सचिन, आप को भारत रत्न मिलना चाहिए क्या ?
सचिन-( चिरपरिचित मुस्कान बिखेरते हुए ) इस प्रश्न का जवाब मैं आपसे चाहूंगा । बताइए आपको क्या लगता है.
मै- जी… मुझे तो प्रतीत होता है आप भारत रत्न के कतई हकदार नहीं है .
सचिन- (असहज होकर ) भला क्यों ? और अभी तो कहां था आप मेरे फैन हैं…
 मै- मैं चाहता हूं आपको नहीं बल्कि मेजर ध्यानचंद हॉकी के जादूगर का, भारतरत्न पर पहला हक है. अब आप बताइए आप क्या सोचते हैं.
सचिन – मैं चाहता हूं भारत रत्न मुझे मिलना चाहिए.
मै- और मेजर ध्यानचंद…
 सचिन- उनके बारे में देश सोचे,  मैं तो देश के करोड़ों करोड़ों जनता की आवाज को स्वर दे रहा हूं .जनता यही चाहती है.



मै – मगर सचिन क्या आप चंद वर्ष इंतजार नहीं कर सकते.
 सचिन- मैं तो तैयार हूं, मगर देश तैयार नहीं है.
 मै- आप इंकार तो कर सकते हैं.
 सचिन- यह सभ्यता के खिलाफ होगा.
 मै- क्या सभ्यता का यही तकाजा है. पुरखों को छोड़कर बच्चों को…
 सचिन- यह समय देखे, मैं तो एक नाचीज सा छोटा आदमी हूं.
मै- सचिन! क्या आप भारतरत्न प्राप्त कर सचमुच खुश होंगे.
 सचिन- वाकई यह मेरे लिए प्रसन्नता का सबब होगा.
मै- लेकिन क्या आप वाकई भारतरत्न के काबिल है ? क्या आपने क्रिकेट के अलावा कोई उपलब्धि हासिल की है…
 सचिन तेंदुलकर हो हो कर हंसने लगे. मै पलंग से नीचे गिर पड़ा मेरी नींद टूट चुकी थी.

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे