Amitabh Bachchan, Claims Of Being In Self-Isolation Is False - hindi shayari h सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Amitabh Bachchan, Claims Of Being In Self-Isolation Is False - hindi shayari h


झूठा निकला अमिताभ के सेल्फ-आइसोलेशन, में रहने का दावा, जानिए पूरा सच

Amitabh Bachchan, Claims Of Being In Self-Isolation Is False

अमिताभ के सेल्फ-आइसोलेशन, 




अमिताभ के सेल्फ-आइसोलेशन, कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को रोकने के लिए दुनियाभर में कोशिशों का दौर चल रहा है। भारत में सरकार ने अपनी तरफ एडवाजरी जारी की है। बॉलीवुड सितारे भी लोगों को खूब जागरुक कर रहे हैं। बुधवार को ऐसी ही एक खबर आई जिसमें बताया गया कि बॉलीवुड के सुपरस्टार अमिताभ बच्चन ने खुद को सेल्फ आइसोलेशन में लेने का फैसला किया है। 




कई मीडिया रिपोर्ट्स में ये दावा किया गया कि अमिताभ बच्चन सेल्फ आइसोलेशन में रहेंगे। इसका हवाला अमिताभ के ट्वीट से दिया गया जिसमें उन्होंने लिखा, 'मुंबई में वोटर इंक से स्टैंपिंग शुरू... सुरक्षित रहिए... सतर्क रहें, अगर पता चला तो अलग रहें।' 




इस ट्वीट के साथ ही उन्होंने एक हाथ की तस्वीर साझा की, जिसमें एक स्टैंप लगी है। इस स्टैंप में सेल्फ आइसोलेशन यानी कोरंटाइन होने के बारे में लिखा गया है। यह स्टाम्प बीएमसी की ओर से उन लोगों पर लगाई जा रही है, जो कोरंटाइन में हैं। इस तस्वीर में जो हाथ दिख रहा है उसे अमिताभ का हाथ बताया जाने लगा। लेकिन इस हाथ की सच्चाई बीएमसी के ट्वीट के बाद साफ हो गई। 





इसी फोटो को बीएमसी के ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट से 16 मार्च को भी शेयर किया गया था। वहीं सोशल मीडिया पर भी ये तस्वीर वायरल हो रही है। एक और उदाहरण के जरिए इस बात को समझा जा सकता है कि अमिताभ ने अपने ट्वीट में कहीं ये नहीं लिखा कि उन्होंने खुद आइसोलेशन में लेने का फैसला किया है। 




अमिताभ बच्चन की उम्र 77 साल है। इतनी उम्र में इंसान के शरीर पर झुर्रियां आ जाती हैं। ये हाथ किसी जवान शख्स का लग रहा है। तस्वीर के जरिए आप अमिताभ का हाथ देखकर अंदाजा लगा सकते हैं। तो अमिताभ का ये ट्वीट सिर्फ जागरूकता फैलाने के लिया था।



Coronavirus, coronavirus amitabh bachchan,अमिताभ के सेल्फ-आइसोलेशन,  Amitabh bachchan, Amitabh bachchan tweet, amitabh bachchan viral video, Home quarantined stamp, amitabh bachchan isolation, amitabh bachchan home quarantined stamp, Bollywood Photos, Latest Bollywood Photographs, Bollywood Images, Latest Bollywood photos

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे