सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

दांतों तले उंगली दबाकर Hindi Kahani Danto Tale Ungali Dabakar


प्रतापनारायण मिश्र ने हिंदी की अनेक विधाओं में लिखा । वे कवि होने के अतिरिक्त निबंध लेखक , नाटककार और व्यंग्यकार भी थे । उन्होंने बेहद सामान्य विषयों पर अद्भुत व्यंग्य लिखे । उनका एक व्यंग्य लेख :




दो अक्षर के इस शब्द में दुनिया भर की माया छिपी हुई है । थोड़ी - सी और छोटी - छोटी हडिडयों के जरिए उस चतुर कारीगर ने कौशल दिखलाया है । उसकी महिमा कितमी अपार है । जिसके मुंह में दांत है , वही तो दांतों का महिमागान कर सकेगा । मख की सारी शोभा और मिलने वाले भोज्य पदार्थों का स्वाद इन्हीं पर निर्भर है । कवियों ने जुल्फ , आंख तथा बरौनी आदि की छवि लिखने में बहत - बहुत रीतियों से बाल की खाल निकाली है , पर सच पूछिए तो दांतों से ही इनकी शोभा है । जब दांतों के बिना पोपला - सा मुंह निकल आता है , और ठोड़ी एवं नाक एक हो जाती है , तो उस समय सारी सुघराई मिट्टी में मिल जाती है ।



कवियों ने इसकी उपमा हीरा , मोती और माणिक से दी है । यह बहुत अच्छा है , लेकिन दांतों की कीमत इनसे कहीं अधिक है । यह वह अंग है , जिसमें पाकशास्त्र के छहों रस शामिल हैं । यह काव्यशास्त्र के नवों रसों का आधार है । खाने का मजा इन्हीं से है । इस बात का अनुभव यदि आपको न हो , तो किसी बुजुर्ग आदमी से पूछकर देखिए । सिवाय सतुआ चाटने और रोटी को दूध तथा दाल में । भिगोकर गले के नीचे उतार देने के अलावा वह दुनिया भर की चीजों के लिए तरस कर रह जाता होगा ।



रहे कविता के नौ रस । उनका दिग्दर्शन मुझसे सुन लीजिए । शृंगार का तो कहना ही क्या ! | अहा , ' पान के रंग में रंगे अथवा चमकदार चटकीले दांत जब बातें करने तथा हंसने में दिखाई देते हैं , उस समय नयन और मन इतने प्रमुदित हो जाते हैं कि इनका वर्णन मिठाई खाकर भी नहीं किया जा सकता । हास्य रस का तो पूर्ण रूप ही सामने नहीं आता . जब तक हंसते हुए दांत बाहर न निकल पड़े । करुण और रौद्र में दुख और क्रोध के मारे दांत अपने होंठ चबाने के काम आते हैं । ये अपनी दोनता दिखाकर दूसरे के अंदर करुणा उपजाने में भी काम आते हैं । गुस्से में तो दांत पीसे ही जाते हैं । सभी प्रकार के वीर रमों में भी दांत का बड़ा महत्व है । शत्रु की मैन्य ताकत देखकर मुंह ही नहीं , दति भी खुले रह जाते हैं । भयानक रस के लिए सिंह - व्याघ्रादि के दांतों का ध्यान कर लीजिए , पर रात को नहीं । आप सोए - सोए चौंकते हुए भागेंगे ।





वीभत्स रस का प्रत्यक्ष दर्शन करना हो , तो किसी के मैले और चीकट दांत देख लीजिए । अदभुत रस में तो सभी आश्चर्य की बात देख - सुनकर दांत खोलकर मुंह फैलाए हुए हक्के - बक्के रह जाते हैं । जिस समय किसी व्यक्ति की मृत्यु निकट जानकर जल के कछुए , मछली और कौए , कुत्ते आदि दांत पैने कर रहे होते हैं , उस समय भी यदि भगवान का भजन न किया तो क्या किया ? हमारी हड्डियां कोई हाथीदांत तो हैं नहीं कि मरने पर भी किसी के काम आएंगी । जीते - जी संसार में कुछ परमार्थ बना लीजिए । यही बुद्धिमानी है । दांत यही शिक्षा देते हैं कि जब तक हम अपने स्थान और अपने काम में दृढ़ है , तभी तक हमारी प्रतिष्ठा है ।




बड़े - बड़े कवि हमारी प्रशंसा करते हैं । बड़े - बड़े सुंदर मुखारविंदों पर हमारी मुहर छपी रहती है । लेकिन मुख से बाहर होते ही हम अपावन , घृणित और फेंकने योग्य हो जाते हैं । यानी महत्व स्थान का होता है , चाहे दांत हो या केश । यदि आप इसका यह अर्थ मानते हैं कि किसी भी दशा में हिंदुस्तान छोड़कर विलायत जाना स्थान भ्रष्टता है , तो यह आपकी भूल है । हंसने के समय दांतों का निकल पड़ना कोई बुरी बात नहीं , वरन एक प्रकार की शोभा होती है । ऐसे ही आप स्वदेश - चिन्ता के लिए कुछ समय कहीं और रह आएं , तो यह आपकी बड़ाई है । पर हां , यदि वहां जाकर यहां की ममता छोड़ दी , तो आपका जीवन उन दांतों के समान है , जो किसी कारण से मुंह के बाहर रह जाते है और सारी शोभा खोकर भेडिए जैसे दिखाई देते हैं ।




 आखिर यह क्यों न हो , दातों को होंठ , गाल और मुंह का परदा जो नसीब है । जिसके पास परदा न रहा , अपनी इज्जत की परवाह न रही , उसकी जिंदगी व्यर्थ है । कभी दांतों में पीड़ा हुई हो , तो उन्हें उखड़वा देना ही बेहतर है । इनकी स्थिति देश के अंदर व्यापत उन लोगों  की तरह है , जो रहते तो हमारे साथ हैं , लेकिन सदा देश और समाज के अहित में तत्पर रहते हैं । परमेश्वर उन्हें या तो सुमति दे या उनका सत्यानाश करे । उनके होने का हमें कौन सा सुख ? हम तो उनकी जय - जयकार मनाएंगे , जो अपने देशवासियों से दांत - काट रोटी का बरताव रखते हैं । परमात्मा करे कि हर धर्म के लोगों को देशहित के लिए चाव के साथ दातों तले पसीना | आता रहे । हमसे बहुत कुछ नहीं हो सकता तो यही सिद्धांत कायम कर

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे