'Makarand Deshpand-Birthday Special 10 Powerful Characters Of Shahrukh Khan Swades Costar सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

'Makarand Deshpand-Birthday Special 10 Powerful Characters Of Shahrukh Khan Swades Costar


10 दमदार किरदार रंगमंच से रहा गहरा नाता, शाहरुख को रास्ता दिखाने वाले फकीर के ये हैं



10 Powerful Characters





भारतीय सिनेमा में मकरंद देशपांडे एक हुनर का नाम है। कोई भी भाषा हो या कोई भी शैली हो, मकरंद को सब कुछ भाता है। स्वदेस, मकड़ी, जंगल, डरना मना है जैसी कुछ फिल्मों में उन्होंने थोड़े बड़े किरदार किए हैं। नहीं तो मकरंद हमेशा कोई राहगीर, शराबी या कोई कॉमेडी किरदार ही किया करते हैं। मकरंद का जितना बड़ा नाम भारतीय सिनेमा में है, उतना ही बड़ा उनका नाम रंगमंच में भी है। वे अब तक थिएटर को 40 से ज्यादा पूरी लंबाई के नाटक और 50 से ज्यादा छोटे नाटक की भेंट दे चुके हैं। आज भी उनका 'अंश' नामक थिएटर ग्रुप है, जिसे वे के के मेनन के साथ मिलकर चलाते हैं। आज मकरंद के जन्मदिन पर हम आपको हिंदी फिल्मों में उनके कुछ रुचिकर किरदारों के बारे में बताते हैं।


फिल्म : घातक (1996)
फिल्म : घातक (1996)




किरदार : किराए का गुंडा
फिल्म : घातक (1996)
किराए के गुंडे किसी-किसी फिल्म में अपनी पहचान बना पाते हैं। इस फिल्म में मकरंद का सीन मुश्किल से एक मिनट का होगा। लेकिन फिल्म के जिस माहौल में उनका एक मिनट शुरू होता है, वह बहुत गंभीर होता है। और उस गंभीर माहौल में मकरंद का पर्दे पर दिखाई देना दर्शकों के लिए मूड हल्का करने वाली बात होती है। उस समय मकरंद की धमकियां दर्शकों के चेहरों पर खुशी, और यादगार लम्हा देती हैं।


फिल्म : सत्या (1998)
फिल्म : सत्या (1998)



किरदार : चंद्रकांत मुले
फिल्म : सत्या (1998)
मकरंद की कॉमेडी के बाद इस फिल्म में दर्शकों को उनका एक नया रूप देखने को मिला। वकील चंद्रकांत मुले बनकर इस फिल्म में मकरंद लोगों के बीच समझौते कराते हुए नजर आए। गुंडों और बिल्डरों की समस्याओं का बातचीत से हल निकालने के लिए चंद्रकांत एक माध्यम के जैसे थे। यहां पर भी उनके अभिनय का तरीका एकदम अनोखा है।


फिल्म : सरफरोश (1999)
फिल्म : सरफरोश (1999)







किरदार : शिवा
फिल्म : सरफरोश (1999)
जैसा कि हम जानते हैं कि मकरंद ने फिल्मों में बहुत छोटे-छोटे किरदार किए हैं। एक इंटरव्यू में मकरंद ने कहा था कि फिल्म सरफरोश में उन्होंने अपने करियर का सबसे अच्छा काम किया है। इस फिल्म में उन्होंने गैरकानूनी माल को इधर से उधर पहुंचाने का काम किया है। अपने मालिक के प्रति वफादारी और खुले ख्यालों में जीना इस किरदार की खासियत है।




फिल्म : जंगल (2000)
फिल्म : जंगल (2000)


किरदार : दोराई स्वामी
फिल्म : जंगल (2000)
नक्सलियों की तरह जंगल में रहने वाला दोराई स्वामी एक गैरकानूनी हथियारों का सौदागर है। यह फिल्म मकरंद की उन फिल्मों में से एक है, जिनमें उन्होंने अपने बेहतरीन किरदारों को अंजाम दिया। फिल्म में हथियारों का सौदागर होने के अलावा वह सिद्धार्थ मिश्रा (फरदीन खान) की उसकी प्रेमिका अनु (उर्मिला मातोंडकर) को खोजने में भी मदद करता है।



फिल्म : मकड़ी (2002)
फिल्म : मकड़ी (2002)


किरदार : कल्लू
फिल्म : मकड़ी (2002)
धोखेबाज लोग तो हर जगह पर होते हैं। लेकिन कल्लू जैसा धोखेबाज तो शायद ही कोई होगा। गांव में रहकर एक पुरानी हवेली के बारे में कल्लू ऐसी अफवाह फैला देता है जिसमें वह कहता है कि ये हवेली भूतिया है। इसमें जो भी अब तक गया है वह जानवर बनकर लौटा है। हकीकत में लोगों को डराने के लिए ये पूरी करामात कल्लू की ही होती है।


फिल्म : हनन (2004)
फिल्म : हनन (2004)




किरदार : सूर्या
फिल्म : हनन (2004)
एक छोटे से गैंग को अपने कंधे पर ढोने वाले सूर्या भाई (मकरंद देशपांडे) कभी किसी का कुछ बिगाड़ ही नहीं पाते। गुंडा बनकर अपने गुर्गों के साथ वह लोगों पर धौंस जमाने की कोशिश तो बहुत करते हैं, लेकिन सफल नहीं होते। फिल्म के एक दृश्य में पगले (मनोज बाजपेई) के साथ हुई उनकी लड़ाई को देखकर लोगों को बुरा कम लगता है, और हंसी ज्यादा आती है। यही तो मकरंद की खूबी है।






फिल्म : स्वदेस (2004)
फिल्म : स्वदेस (2004)


किरदार : फकीर
फिल्म : स्वदेस (2004)
फिल्म में जब मोहन भार्गव के रूप में शाहरुख स्वदेस लौटते हैं, तब उनकी मुलाकात एक फकीर से होती है। ये फकीर उन्हें सच्चाई और अच्छाई का रास्ता दिखाता है। फकीर के रूप में मकरंद के किरदार में एक शालीनता थी। वह दुनिया की मोह माया से दूर था और दूसरों को भी ऐसा ही करने की सलाह देता था। इस फिल्म में भी मकरंद ने अपनी उपस्थिति बखूबी दर्ज कराई।





फिल्म : डरना जरूरी है (2006)
फिल्म : डरना जरूरी है (2006)


किरदार : राहुल
फिल्म : डरना जरूरी है (2006)
इस फिल्म में छः कहानियों का संकलन है, जिसमें से एक कहानी का हिस्सा मकरंद देशपांडे हैं। राहुल का किरदार बहुत ही दिमाग से समझने वाला है। वो मरा हुआ है या जिंदा है? ये आपको थोड़ा भ्रमित कर सकता है। राहुल कहने को एक साधारण आदमी है लेकिन आत्माओं से बात कर सकता है। कुल मिलाकर कह सकते हैं कि मकरंद अपने अभिनय से यहां डराते हुए नजर आते हैं।





फिल्म : खट्टा मीठा (2010)
फिल्म : खट्टा मीठा (2010)

किरदार : आजाद भगत
फिल्म : खट्टा मीठा (2010)
यहां उनके अंदर का एक बेहतरीन अभिनेता जागा, और पूरी भड़ास सिस्टम की कार्यप्रणाली पर निकाल दी। मकरंद को इस फिल्म में एक पत्रकार के रूप में देखा गया। सड़क पर बना पुल ढहने की एक भयानक दुर्घटना में आजाद के बीवी और बच्चे मर जाते हैं। उनको न्याय दिलाने के लिए आजाद सबको एक डंडे से हांकना शुरू कर देता है। मकरंद इस फिल्म में कमाल के लगे।


फिल्म : बुड्ढा होगा तेरा बाप (2011)
फिल्म : बुड्ढा होगा तेरा बाप (2011)




किरदार : मैक
फिल्म : बुड्ढा होगा तेरा बाप (2011)
एक्शन थ्रिलर और कुछ मोड़ों से रुचिकर बनी इस फिल्म में मकरंद एक दोस्त के रूप में नजर आए। पिछली सदी के महानायक अभिताभ बच्चन के दोस्त के रूप में मैक विज्जू के बहुत काम आता है। वह एक भरोसेमंद और साहसी दोस्त है। वह जिज्ञासु बहुत है। हर बात पर उसे कुछ न कुछ चाहिए होता है। इस फिल्म में भी मकरंद काफी रुचिकर लगे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे