Pita ki Pagdi Hindi Story पिता की पगड़ी सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Pita ki Pagdi Hindi Story पिता की पगड़ी

Pita ki Pagdi Hindi Story पिता की पगड़ी
Pita ki Pagdi 


पिता की पगड़ी
अनुज के पिता बाहर रहते थे और छुट्टियों में 2-4 दिन के लिए ही घर आते थे. बाजार में दादाजी की दुकान थी जिस वजह से सारा बाजार अपना ही लगता था.


‘‘मेरी ही कमाई है यह, जो तुम सब खा रहे हो…’’ बडे़ चाचा ने हाथ नचा कर कहा तो सहसा अनुज के दिमाग में दादाजी का चेहरा कौंध गया. शक्लसूरत बड़े चाचा की दादाजी से बहुत मेल खाती है और हावभाव भी. दादाजी अकसर इसी तरह हाथ नचा कर कहा करते थे, ‘मेरी ही कमाई हुई इज्जत है, जो तुम से लोग ढंग से बात करते हैं वरना कौन जानता है तुम्हें यहां.’

Best Story in Hindi
अनुज के पिता बाहर रहते थे और छुट्टियों में 2-4 दिन के लिए ही घर आते थे. बाजार में दादाजी की दुकान थी जिस वजह से सारा बाजार अपना ही लगता था. जिस दुकान पर खड़े हो जाते, दुकानदार हाथ जोड़ कर पूछता, ‘कहिए भैया, कब आए, क्या सेवा करें?’

मुंबई जैसे महानगर से आने वाला अनुज का परिवार कसबे में आ कर पगला सा जाता था. एक ही बाजार में सोने से ले कर लोहे तक और कपड़े से ले कर बरतन तक हर चीज झट से मिल जाती. इस वजह से पापा ज्यादा खरीदारी यहीं से करना पसंद करते. मां सूची तैयार करतीं और सामान खरीद लेतीं. 2 अटैची ले कर आने वाले 4 अटैची का सामान ले कर लौटते. कोई ज्यादा कीमत भी नहीं लेता था जिस वजह से लूटे जाने का डर भी नहीं रहता था. दादाजी का काफी दबदबा था.

अनुज के चेहरे का रंग बदलने लगा सहसा. पापा के समय भी वह यही शब्द सुनता था और आज 20-25 साल बाद भी यही शब्द. दादाजी का दबदबा था, वह मानता है मगर कटोरा ले कर भीख तो उस ने तब भी किसी से नहीं मांगी थी और आज भी वह न किसी से उधार लेता है न किसी से कीमत कम करने को कहता है. अपना समझ कर हर दुकान पर उस का स्वागत होता है और जायज भाव पर उसे चीज मिल जाती है. उस का भी कोई तो मानसम्मान होगा ही वरना दुकानदार तो दुकानदार है, अपनी जेब से तो कोई उसे कुछ देगा नहीं और वह लेगा भी क्यों. जानपहचान वाले से उसे आंख मूंद कर खरीदारी करने में सुविधा होती है. बस, इतनी सी बात. इस पर दादाजी के शब्द उसे चुभ जाया करते थे और आज बड़े चाचा के शब्द भी तीर जैसे लगे.

ये भी पढ़ें- दिशाविहीन रिश्ते

वह अकसर पापा से कहता भी था कि दादाजी का इस तरह कहना उसे चुभ जाता है. दादाजी की इज्जत है, वह समझता है लेकिन उस की भी इज्जत कहीं तो है, यह वे क्यों नहीं समझते. वह पैसे दे कर चीज खरीदता है, इस पर इस तरह के शब्द हम से ढंग से बात इसलिए की जाती है क्योंकि दादाजी का बड़ा मानसम्मान है बाजार में.

‘वे बड़े हैं, कुछ कह दिया तो क्या हुआ. सच भी तो यही है कि इस परिवार से हैं हम, इसीलिए हर कोई हाथ जोड़ कर स्वागत करता है.’

‘दुकानदार के लिए तो हर ग्राहक सम्मानजनक है. उस की तो दुकानदारी है. मीठा बन कर ही किसी की जेब से पैसा निकाला जा सकता है. इस में हम पर उन का एहसान क्यों, मुझे दादाजी का इस तरह कहना अच्छा नहीं लगता.’

अकसर वह अपने पिता से उलझ जाया करता था और वह हंस कर टाल देते थे.

‘हर बुजुर्ग को यह सोच कर संतोष होता है कि उस ने अपने बच्चों के लिए कुछ किया है जैसे मैं भी तो कहता हूं न, मैं ने तुम्हारे लिए छोटा ही सही, एक प्यारा सा घर बना दिया है.’

‘मगर आप यह तो नहीं कहते हो, मुझ में कभी अपना घर बना पाने की हिम्मत ही नहीं होगी. मैं नकारा हूं, इसलिए आप ने मेरे लिए घर बना दिया. अपनी यथाशक्ति से जो हुआ, आप ने किया, मुझ से मेरी सामर्थ्य अनुसार जो होगा, मैं भी कर लूंगा. इस में मुझ पर आप की धौंस भी क्यों?’

यह सत्य है पिता की विरासत पुत्र को मिलती है, अच्छी या बुरी. पिता चरित्रवान है तो भूल से ही सही, उस के पुत्र पर समाज विश्वास करेगा ही. यह अलग बात है, काठ की हांडी एक बार ही चढ़ती है. बारबार पिता का दबदबा नहीं चलता और न ही चल सकता है. पुत्र को पिता का सम्मान संभालना पड़ता है और उस की रक्षा करनी पड़ती है तभी पुत्र को भी उन की बोई खेती का अनाज खाने को मिल सकता है.

पापा का सम्मान सब ने किया क्योंकि दादाजी की पगड़ी का मान पापा ने भी सदा रखा. पापा ने कभी किसी से बेईमानी नहीं की तभी तो सारा बाजार हाथ जोड़ कर सम्मान करता है वरना दादाजी का लिहाज क्या कोई सालोंसाल करता?

आज वही सब चाचा के भी मुंह से सुन अनुज की सारी की सारी शांति क्षणभर में कहीं शून्य में विलीन सी हो गई. चाचा का रूप बिलकुल वही, जैसा कभी दादाजी का हुआ करता था. पापा अब रहे नहीं और करीब 4-5 साल के बाद वह दादा के घर आया है.

सदियां सी लग रही हैं, मानो सदियों के बाद वह मुंबई से इस कसबे में आया है. पत्नी और मां साथ थीं, बाजार से गुजरे तो मां ने शौल और पत्नी ने एक सूट खरीद लिया. रात यही सब चाची को दिखा रहे थे तब सहसा मां के मुंह से निकल गया, ‘‘मौल से यही सब खरीदते तो 3-4 हजार रुपए लग जाते. यहां 2 हजार रुपए में ही काम हो गया.’’ जिस पर चाचा ने हाथ नचा कर कह दिया, ‘‘मेरी ही कमाई है जो तुम सब खा रहे हो वरना तुम्हें जानता कौन है यहां?’’

Hindi Thriller Story
‘‘क्या मतलब, चाचा? मैं कुछ समझा नहीं, आप की ही कमाई, हम खा रहे हैं, क्या मतलब? दुकानदारों को तो पता ही नहीं था हम कौन हैं. हम ने सामान खरीदा और पैसे दे दिए. इस में आप की कमाई कहां से आ गई?’’

बरसों पुरानी दबी एक चिंगारी फिर सिर उठा कर धधक उठी थी. दादाजी का लिहाज पापा करते रहे. बिना वजह चाचा का लिहाज उस से हो ही नहीं पाया था. अपने पिता का अनुसरण करते हुए चाचा ने भी शायद नहीं सोचा होगा कि प्रत्यक्ष में भी कभी कोई प्रश्न सिर उठा देगा. शायद उन्हें भी यही विश्वास हो चला था कि संसार उन्हीं के चलाने से चलता है. वे न होते तो आसमान जमीन पर आ गिरा होता, वही तो थामे खड़े हैं.

‘‘हर इंसान अपनी ही कमाई खाता है, चाचा. माना दादाजी की बड़ी इज्जत थी बाजार में, जिसे हम आज भी याद करते हैं मगर वह कब तक टिकती अगर हम ही नालायक निकलते. मुझे तो किसी ने पहचाना भी नहीं आज बाजार में.

‘‘क्या आप ने बताया था बाजार में हम आ गए हैं और वे हमें जो भी दान देना चाहें दे सकते हैं. हम बेचारे जो हैं जिन पर आप की कृपादृष्टि न होती तो शायद कब के भूखों मर गए होते.’’

‘‘क्या बक रहा है, अनुज,’’ मां का स्वर उठा चुप कराने को मगर कब तक रोकती अनुज को, ‘‘बचपन से सुनता आया हूं कि हमारी कोई औकात नहीं है. जो है सब आप की वजह से है. ऐसा क्यों है, चाचा? दादाजी यही भाषा बोलते थे और अब आप भी. यह एक शौल और सूट न खरीदा होता हम ने तो क्या हम बिना कपड़ों के ही रह जाते? 35 साल क्या हम आप की दया पर जीते रहे? पापा की बीमारी पर क्या आप हमारे साथ थे? मां का औपरेशन हुआ, तब क्या आप ने इंतजाम किया था? क्या हम ने पूरा जीवन कुछ नहीं कमाया, जो आप के इस छोटे से शहर आते ही दीनहीन बन जाते हैं? हम से कोई बात भी न करता अगर आप का दबदबा न होता. ऐसा कौन सा तीर आप ने मार लिया है जो मुंबई में रह कर पापा नहीं मार पाए?’’



पिता की चुप्पी याद आई तो मन भर आया अनुज का, ‘‘मैं मानता हूं, दादाजी की इज्जत का फल हमें कभी मिला होगा पर क्या मेरे पापा का मानसम्मान कहीं नहीं है?’’

अवाक् खड़े रह गए बड़े चाचा. अनुज के सवालों का भला क्या उत्तर दे पाते.

Hindi Crime Story 
‘‘इस शहर से कुछ खरीद लेते हैं तो आप को ऐसा क्यों लगने लगता है कि अगर न खरीदते तो शायद कभी खरीद ही न पाते?’’

‘‘ऐसा क्या हो गया, अनुज? इतनी नाराजगी?’’ चाची ने पास आ कर कंधा थपथपा दिया.

सब एकदूसरे का मुंह देख रहे थे. चाचा ने शायद इस तरह बोलना दादाजी से सीखा होगा. छोटे शहर के वासी शायद इसी खुशफहमी में रह कर खुशी पा जाते होंगे कि महानगर से आने वाले पर उस ने भी कुछ उपकार तो किया ही है न.

‘‘बड़ों की बातों का बुरा नहीं मानते.’’

‘‘छोटेबड़ों के बीच एक लक्ष्मणरेखा भी होती है, चाची. यहां से कुछ खरीद कर ले जाते हैं तो हम छोटे नहीं हो जाते. थोड़ा लिहाज होता होगा, उस की मैं इज्जत करता हूं लेकिन चाचा का ऐसा कहना कि…

‘‘चलो ठीक है दादाजी की विरासत ही है जिसे हम आज तक खापी रहे हैं. क्या आप ने अपने बच्चों के लिए कोई विरासत छोड़ी है? क्या उतनी ही इज्जत आप की भी है बाजार में, जिसे आप का पोता भी भुना सके? मुझे तो ऐसा नहीं लगा. कल 2-3 दुकानों पर मैं भी गया था. पापा के बारे में सब ने पूछा लेकिन आप की ईमानदारी की चर्चा भी मुझ से छिपी नहीं रही. आप की गिरती साख और…’’ काटो तो खून नहीं रहा बड़े चाचा में.

‘‘हम घर आते हैं इसलिए कि हमें आप लोगों से प्यार है, इसलिए नहीं आते कि आप हमारा अपमान करें. हर इंसान अपना ही बोया काटता है, चाचा. दादा की बोई फसल पोता नहीं काट सकता. हम में भी कोई तो गुण होगा तभी मानसम्मान मिलता है वरना आप की साख की जो कहानी मुझे कल पता चली है उस के चलते तो शायद कोई अपनी दुकान पर पैर भी न रखने देता.’’


Hindi Story Online
चुप रह गए बड़े चाचा. शायद नाराज होंगे. चाची ने किसी तरह अनुज को चुप कराया. छोटी जगह है न उन का कसबा. बाजार का एक चक्कर लगाओ, सब की कहानी पता चल जाती है. चाचा का चरित्र और व्यवहार इतना ऊंचा नहीं है जिस पर आने वाली पीढ़ी नाज कर सके. तो फिर किस बूते पर हाथ नचा कर बात कर रहे थे? कुछ छिपाना चाहते थे क्या? कभीकभी मनुष्य कुछ ढकना चाहता है, इसलिए भी कुछ ऐसा कर बैठता है कि अनायास ही उजागर हो जाता है.

चाचा ने अपना खाना अंदर कमरे में ही मंगा लिया और बाकी सब भी ज्यादा खापी नहीं पाए. आहत स्वाभिमान आखिर कब तक सिर न उठाता. चाचा के बच्चे भी दादाजी की पगड़ी का सम्मान संभाल नहीं पा रहे थे, यह सब भी उसे कल बाजार से बड़ी आसानी से पता चल गया था. पापा के एक मित्र थे जिन से मिलने वह चला गया था. रिटायरमैंट के बाद वे यहीं आ कर बस गए थे और अनुज अपनी नौकरी की वजह से अब मुंबई में रह रहा है.

चाचा का चरित्र और व्यवहार अपने बच्चों जैसा है या कह सकते हैं बच्चों ने जो सीखा, वह चाचा से सीखा है. दादाजी की वजह से हो सकता है समाज ने चाचा का लिहाज किया हो, जिसे वे पापा पर भी चस्पां करते रहे मगर आज की तारीख में दादाजी का नाम कहीं नहीं है. यह सब अनुज को पापा के मित्र से पता चला. एकांत मिलते ही मां को बताया उस ने सारा सत्य. बच्चों की चालढाल पर मां पहले ही संदेह कर रही थीं. चाची लाख परदे डाल रही थीं मगर परिवार का चारित्रिक पतन हो चुका था जिस पर कभी पापा और दादाजी को बड़ा अभिमान था.

सुबह उन्हें वापस जाना था, इसलिए सब सामान सहेज वे देर रात सोए. नींद नहीं थी मां की आंखों में.


Pita ki Pagdi Hindi Kahani
सुबह विदा के समय तक भी चाचा के लड़कों का पता नहीं था कि वे कहां हैं. बरसों बाद घर आने वाले ताऊजी के परिवार का बस इतना सा ही मान किया था उन्होंने. हाथ नचा कर बात करने वाले चाचा उस से आंखें चुरा रहे थे. अफसोस हो रहा था अनुज को.



बरसों बाद वह पैतृक घर की दीवारों में जरा सा प्यार, जरा सी ममता ढूंढ़ने आया था, इतना सब सुनाने या सुनने नहीं. छोटा मुंह और बड़ी बात उसे नहीं करनी चाहिए थी लेकिन सवाल पिता के नाम का था. चाचा अपने पिता की पगड़ी उछाल उस के पिता पर धूल कैसे उड़ा सकते थे. ऐसा कौन सा काम कर लिया था चाचा ने जो उस के चरित्रवान पिता के परिवार पर खोखली शेखी बघारते. ऐसा कौन सा बीज बोया है चाचा ने जिस का फल उन की आने वाली पीढ़ी खा सके.

Grandfather Hindi Kahani
चाचाचाची के पैर छुए अनुज ने. आंखें भर आईं, अब कब आना होगा, कौन जाने. चाची की आंखें बहुत कुछ कह रही थीं, जैसे कह रही हों, ‘कहासुना माफ कर देना, बेटा.’ फीकी सी मुसकान थी होंठों पर जैसे कहना चाह रही हों, ‘आते रहना बेटा, अब तुम से ही आस है चाची को, भूल मत जाना.’

चाची ने उसे गले लगाया तो उन के स्पर्श में मजबूरी, बेबसी सब पढ़ ली अनुज ने, तब ऐसा लगा सिर पर किसी ने कुछ रख दिया जिस की उसे रक्षा करनी है. शायद, दादाजी के मानसम्मान की पगड़ी, वह चाहे जहां भी रहे, इस पगड़ी की लाज उसे सदा निभानी है.

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे