Aatmgalani best hindi story निर्मला सुरेंद्रन आत्मग्लानि क्या था - Hindishayarih Kahani सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Aatmgalani best hindi story निर्मला सुरेंद्रन आत्मग्लानि क्या था - Hindishayarih Kahani


निर्मला सुरेंद्रन आत्मग्लानि  क्या था पितापुत्री के रिश्ते का दूसरा पहलू?



‘‘ऋचा…’’ लगभग चीखते हुए मैं कमरे से निकली, ‘‘अब बस भी करो… कितनी बार समझाया है कि लड़कियों को ऐसे चिल्लाचिल्ला कर बात नहीं करनी चाहिए पर तुम्हारी खोपड़ी में तो मेरी कोई बात घुसती ही नहीं. कालेज नहीं जाना है क्या? और उत्तम, आप भी, बस हद करते हैं…जवान बेटी के साथ क्या कोई इस तरह…’’ मैं चाह कर भी अपनेआप को काबू में नहीं रख पाई और भर्राई आवाज में आधीअधूरी ही सही, मन की भड़ास निकाल ही दी.

शांत प्रकृति की होने के कारण क्रोधित होते ही मुझे घबराहट सी होने लगती है, इसलिए पलभर में ही लगने लगा कि अंदर कुछ टूटनेफूटने लगा है, ऐसा महसूस हो रहा था, मानो मैं अचानक ही असहाय सी हो गई हूं. ऋचा और उत्तम की धमाचौकड़ी और घर के कोने में दुबक कर एकदूसरे के कानों में गुपचुप बतियाने की प्रक्रिया ने मुझे निढाल करना शुरू कर दिया था. अपनी संवेदनशीलता से मैं स्वयं धराशायी हो गई. मेरी आंखें अनायास छलक उठीं.

‘‘मृदुला, क्या हो गया है तुम्हें?’’ उत्तम ने मेरे दोनों कंधों को थामते हुए पूछा, ‘‘मैं और ऋचा तो हमेशा से ऐसे ही थे. ऋचा कितनी भी बड़ी हो जाए पर मेरे लिए वह हमेशा वही रहेगी, नन्हीमुन्नी गुडि़या.’’

ये भी पढ़ें-#coronavirus: लॉकडाउन में पत्नी वियोग

‘‘हां, यह तो ठीक है, पर…’’ मेरे होंठों पर अचानक जैसे किसी ने ताला लगा दिया. अंदर की बात अंदर ही अटकी रह गई. मैं सचाई नहीं बोल पाई. जिस सच के कड़वेपन को महसूस कर मैं अंदर ही अंदर तड़प रही थी उस बात को उजागर करने के खयाल मात्र से भी दिल सहम सा जाता था.

‘‘तुम बहुत चिड़चिड़ी होती जा रही हो. क्या बात है? लगता है, अंदर ही अंदर कोई सोच खाए जा रही है,’’ मेरे हाथों को अपने हाथ में लेते हुए उत्तम ने मुझे अपने साथ सोफे पर बिठा लिया, ‘‘हम दोनों एकदूसरे के सुखदुख के सहभागी हैं. मुझे बताओ, आखिर बात क्या है?’’


‘‘कुछ नहीं,’’ एक झटके में उत्तम के हाथों को मुक्त करते हुए मैं उठ खड़ी हुई. उत्तम की ऐसी चिकनीचुपड़ी बातों से अब मुझे नफरत सी होने लगी थी. सोचने लगी, ‘कितना झूठ बोलता है उत्तम. क्या जरूरत है उसे यह कहने की कि मैं उस के सुखदुख की साथी हूं. यदि ऐसा होता तो वह मेरे साथ बिताए जाने वाले लमहों को ऋचा के साथ न बांटता.’ मैं विकल हो उठी तो प्रयास किया कि सोफे पर पड़े बैग को कंधे पर लटकाते हुए तत्काल घर से बाहर निकल जाऊं पर ऋचा दरवाजे पर दोनों हाथ फैलाए खड़ी हो गई, ‘‘मां, पहले नाश्ता…’’

‘‘नहीं, मुझे भूख नहीं है.’’

‘‘ऐसे कैसे भूख नहीं है,’’ ऋचा ने मुझे धकेलते हुए खाने की मेज पर बिठा दिया, ‘‘मां, मुझे तो लगता है, आप रातदिन मेरी शादी को ले कर परेशान रहती हैं. पर अभी मेरी उम्र ही क्या है और फिर मैं कोई कालीकलूटी तो हूं नहीं जो लड़का मिलना मुश्किल हो जाएगा. क्यों पिताजी?’’ ठुनकती हुई ऋचा ने मुझे खुश करने का प्रयास करते हुए उत्तम से पूछा.

ये भी पढ़ें-दायरे में सिमटी सोच

‘‘बिलकुल सही,’’ पलभर पहले मेरे चिंताग्रस्त चेहरे को ले कर बेहद गंभीर हो उठे उत्तम, ऋचा की बात सुन कर फिर से चुलबुले बन बैठे, ‘‘पर ऋचा, तुम्हारा शरीर जिस तरह से मोटा होता जा रहा है, उस से तो लगता है कि तुम्हें कोई अच्छा लड़का मिलने से रहा.’’

‘‘मां, देखो न. पिताजी हमेशा मुझे मोटी कह कर चिढ़ाते रहते हैं,’’ मेरी प्लेट में गाजर का हलवा परोसती हुई ऋचा बोली, ‘‘जानती हो मां, पिताजी ने मुझे एक भी चम्मच गाजर का हलवा खाने को नहीं दिया. इसीलिए तो मैं इन से लड़ रही थी. अब तुम्हीं बताओ, क्या मैं सचमुच इतनी मोटी हूं?’’ मैं ऋचा के सवाल का कोई जवाब न दे पाई. बस, आंखें तरेर कर उस की ओर देखते हुए जतला दिया कि मुझे उस का बातचीत करने का यह ढंग बिलकुल पसंद नहीं आया. नाश्ता गले के नीचे नहीं उतर रहा था. मैं उठ खड़ी हुई.

‘‘यह क्या मां, पूरा तो खा लो.’’

‘‘नहीं, बस…’’

‘‘रहने दे ऋचा, लगता है, तेरी मां डाइटिंग कर रही हैं. इन्हें शायद इस बात का डर है कि कहीं तुम खूबसूरती में इन से बाजी न मार लो,’’ और दोनों की खनकती हंसी अंगारों की तरह मेरे कानों से टकराई. मैं रोंआसी हो उठी. सोचा, दौड़ कर दमघोंटू माहौल से बाहर निकल जाऊं, पर अचानक बढ़ते कदम रुक गए, ‘‘ऋचा, तुम भी चलो न, तुम्हारे कालेज का तो समय हो गया है.’’

‘‘ऋचा को मैं छोड़ दूंगा, तुम जाओ,’’ ऋचा को अपने अंक में समेटते हुए उत्तम ने कहा तो उस का साहस और ऋचा की उन्मुक्तता ने मेरे तनबदन में आग लगा दी. लाचार सी अपनी ही पीड़ा से झुलसती मैं तेजी से घर से बाहर निकल गई. उस रोज दफ्तर में किसी काम में मन नहीं लगा. थोड़ाबहुत काम जैसेतैसे निबटा कर मैं निढाल सी कुरसी पर बैठी रही. चिंता में डूबे मेरे दिल और दिमाग में बारबार वही दृश्य आताजाता रहा, जब उत्तम ने ऋचा को अपने पास खींच लिया था. मन में कुलबुलाहट होने लगी कि पितापुत्री में ऐसे प्रेम प्रदर्शन का बुरा लगना अस्वाभाविक है. पर उत्तम तो ऋचा के सौतेले पिता हैं, यानी मेरे दूसरे पति. इस बात को मैं कभी भूल ही नहीं पाती थी. सालों पहले का दृश्य आंखों के आगे साकार हो उठा, जब उत्तम सागर की मौत की सूचना देने मेरे घर आया था. विधवा होने की सूचना मिलते ही मैं ने दीवारों से बांहें टकराते हुए चूडि़यां तोड़ डाली थीं. मुझे लगा था, मेरे साथ मेरी तरह चीत्कार कर रोने वाला उत्तम मेरी पीड़ा का सच्चा सहभागी है.

वह बोला, ‘भाभी, अब हम कैसे जीएंगे, सागर के बगैर तो मैं दो कदम भी नहीं चल सकता.’ उत्तम के असहनीय वार्त्तालाप ने मुझे मजबूर कर दिया था कि मैं तत्काल आंसू पोंछ डालूं और उस को संभालने का प्रयास करूं. बिना कुछ सोचेसमझे मेरे सीने से लग कर उस रोज वह इतना मासूम लगा था कि मैं देर तक उसे अपनी बांहों में समेटे रही. उस के आंसुओं ने मेरे आंचल से चुपके से दोस्ती कर ली थी.

उस के बाद उत्तम जब भी आता, कभी मेरे सिर पर हाथ फेर कर संरक्षक बन जाता तो कभी मेरे आगोश में छिप कर एक नन्हा बालक. तब ऋचा 2 साल की थी. ऋचा के पिता, यानी सागर ने मुझे कभी अकेले चलना नहीं सिखाया था. हर वक्त मेरे हाथों को अपने हाथों में लिए चलता था. मैं कभी अगलबगल देख कर यह जानने का प्रयास न करती कि जिस राह पर वह मुझे लिए जा रहा है, वह कहां जा कर खत्म होती है. मेरी आंखें तो सागर के तेजस्वी चेहरे पर टिकी रहती थीं. पर वह अचानक मुझे नन्ही ऋचा के सहारे ऐसी जगह छोड़ कर चला गया, जहां से न तो मुझे आगे का मार्ग पता था, न पीछे का. अचकचाई सी जब भी मैं इस अनजान शहर में इधरउधर नजर दौड़ाती तो सिवा उत्तम के कोई और मुझे नजर न आता जिसे मेरी आंखें पहचानती हों. मैं उत्तम के सहारे की मुहताज थी और वह मेरे सामीप्य का. इसीलिए तो एक दिन उस ने ‘भाभी’ और ‘आप’ की सारी सीमाओं को लांघ कर मेरे हाथों को थाम लिया और पूछा, ‘मुझ से शादी करोगी?’

मैं अचंभित, अवाक् सी उसे ताकती रह गई. मासूमियत से मेरे सीने से लग जाने वाला उत्तम कभी मेरे सामने यह प्रस्ताव रखेगा, इस की तो मैं ने कल्पना ही नहीं की थी. यदि कभी ऐसी कल्पना की होती तो उस के द्वारा पूछे जाने वाले इस संभावित प्रश्न का एक उचित उत्तर भी तैयार रखती. पर मैं ने तो इस बारे में कभी सोचा ही नहीं था. समझ में नहीं आ रहा था कि क्या जवाब दूं. मेरे जीवन से सागर की कमी की परिपूर्ति करने की इच्छा रखने वाला उत्तम उस समय मेरे लिए पूजनीय था या एक ओछी प्रवृत्ति वाला स्वार्थी इंसान, मैं समझ नहीं पा रही थी. मुझे सशंकित देख कर उस ने कहा था, ‘मृदुला, तुम्हारे साथ मेरा नाम जुड़ गया है. लोग तरहतरह की बातें बनाने लगे हैं. मेरी मां ने मेरा रिश्ता कहीं और करना चाहा था पर मैं उस के लिए तैयार नहीं था. तुम कभी यह न समझना कि मेरे मन में तुम्हारे प्रति जो स्नेह है उस में वासना छिपी है. पर किसी और से शादी कर के मैं तुम्हारी और ऋचा की देखभाल में असमर्थ हो जाऊंगा. मैं तुम दोनों को असहाय नहीं छोड़ सकता, इसीलिए यह प्रस्ताव रख रहा हूं.’’

मैं विस्मित सी उसे देखती रह गई. कितना अनोखा और निराला सा था, उस का प्रस्ताव. मेरी भावनाओं में, मेरे हृदय में और मेरी आंखों की गहराइयों में उस ने कब और कैसे कब्जा कर लिया, मैं जान ही न पाई. जब उस ने मेरे रोमरोम को जीत लिया था तो इनकार भला मैं किस मुंह से करती. उत्तम के सामने मेरा झुका हुआ सिर मेरी मौन स्वीकृति का सूचक बन गया था और समाज के रीतिरिवाजों और दकियानूसी परंपराओं से लड़ते हुए उत्तम ने मेरी मांग में तारे सजा दिए. उत्तम ने मेरी और ऋचा की जिंदगी में बहार ला दी थी. ऋचा के साथ कभी अनजाने कोई अन्याय न हो जाए, इस विश्वास को अंजाम देने के लिए उस ने कभी एक और बच्चे की इच्छा नहीं की. लेकिन मेरी खुशियों को रोशन रखने के लिए अपनी आकांक्षाओं से दीप जलाने वाला उत्तम अचानक बदलने लगा था. उस के जीवन से मेरा अस्तित्व धीरेधीरे खत्म होता जा रहा था. अब ऋचा ही उस की सबकुछ थी. यौवन की दहलीज पर खड़ी ऋचा को अच्छेबुरे की शिक्षा देतेदेते मैं हार गई थी. पर वह पिता के साथ करने वाली अपनी शरारतों में जरा सी भी कमी नहीं करती थी.

एक पुरुष और एक स्त्री के रिश्ते में थोड़ी सी दूरी कितनी जरूरी है, इस बात को ऋचा और उत्तम ने नजरअंदाज कर दिया था. उन दोनों के बीच का यह गहन रिश्ता मेरी नजरों में तब संदेहास्पद हो उठा था जब उत्तम ने पुरानी फैक्टरी का काम छोड़ कर एक नई फैक्टरी में नौकरी कर ली. इस नई फैक्टरी में हमेशा उस की शिफ्ट ड्यूटी रहती थी और जब रात की ड्यूटी रहती, तब ऋचा और उत्तम दोपहर को घर पर अकेले ही रहते थे क्योंकि ऋचा के कालेज का समय दोपहर के 1 बजे तक का ही था. इस एकांत ने उन के स्नेह में जरा सा परिवर्तन कर दिया था. अब वे एकदूसरे के परममित्र बन बैठे थे. सुबहशाम उत्तम ऋचा के आगेपीछे लगा रहता था. कभी उस के गोरे गालों पर चिकोटी काट लेता तो कभी उस की कमर में हाथ डाल कर उसे अपने अंक में भर लेता. जब भी उत्तम ऐसा करता, मेरे दिल पर जोर की चोट लगती. पहली बार मेरा माथा तब ठनका जब एक दोपहर सिरदर्द के कारण मैं जल्दी घर लौट आई थी और ऋचा को उस रोज अपने शयनकक्ष में सोया पाया. उस के बाद मेरे सिर में दर्द हुआ या नहीं, मुझे याद ही नहीं, क्योंकि जब कहीं गहरी चोट लगती है तब पहले वाली चोट की पीड़ा अपेक्षाकृत कम हो जाती है और यही मेरे साथ भी हुआ.

तब से मन में यही संशय भरा हुआ था कि कहीं सौतेले पिता और पुत्री के बीच कुछ अनैतिक तो नहीं? तब से मैं ने उन दोनों के व्यवहार पर अपनी तेजतर्रार नजरों से जासूसी शुरू कर दी और यही पाया कि वे एकांतप्रिय हो चले हैं. कुल 3 सदस्यों वाले छोटे से परिवार में भी उन्हें दखलंदाजी की बू आती थी. इसीलिए वे कभी छत पर तो कभी बगीचे के किसी कोने में दुबक जाते थे. कभी उन के बीच एक रहस्यमयी खामोशी तो कभी लोकलाज के सारे बंधनों को भूल कर वे एकदूसरे से आलिंगनबद्ध हो प्रेमालाप करते. उन के बीच मैं उपेक्षित थी, यह विचार मेरी आंखों को गीला किए जा रहा था. जी तो यही चाह रहा था कि खूब रोऊं, पर कार्यालय में मेरा रोना अशोभनीय कहलाता, इसीलिए अपनी भावनाओं को संयत करने का प्रयास किया. जब से मेरे मन में उत्तम और ऋचा को ले कर संशय जागा तब से मैं लगातार यह प्रयास कर रही थी कि ऋचा के लिए जल्दी ही योग्य लड़का तलाश लूं. सभी दोस्तों और रिश्तेदारों से मैं ने इस संबंध में बात की थी और सभी से यह आग्रह भी किया था कि ऋचा के लिए लड़का तलाशने में वे मेरी सहायता करें.

घड़ी पर ध्यान गया तो शाम के 5 बज गए थे. घर जाने का समय हो गया था. पर ‘घर’ शब्द से मुझे चिढ़ सी होने लगी थी. घर तो वह जगह होती है जहां हर कोने में स्नेह, विश्वास और त्याग की भावना भरी हुई हो. वह घर, जहां पलपल एक गोपनीयता का एहसास भरा हो, वहां जाने की इच्छा भला किसे होगी? पर जाना तो होगा ही, सोचते हुए मैं उठ खड़ी हुई. घर पहुंचने से पहले मैं ने निर्णय लिया कि ऋचा को अब घर पर नहीं रहने दूंगी और जब तक उस के लिए योग्य लड़का नहीं मिल जाता तब तक के लिए उस का दाखिला किसी लड़कियों के छात्रावास में करा दूंगी. इस के अलावा मेरे पास कोई और रास्ता नहीं था. लेकिन मैं इस बात को ले कर भी चिंतित थी कि उत्तम को वजह क्या बताऊंगी. ऋचा को घर से दूर करने की बात पर वह जरूर नाराज हो जाएगा. हो सकता है, मुझ से लड़ भी पड़े.

घर पहुंची तो बरामदे में ही कुरतापाजामा पहने और शाल लपेटे बड़ी बेसब्री से चहलकदमी करता उत्तम नजर आया. उस को देखते ही मन में कड़वाहट सी भर गई. किस का इंतजार कर रहा है? यह जानने की उत्सुकता थोड़ीबहुत तो थी, पर पूछने की इच्छा ही नहीं हुई. मैं तेजी से शयनकक्ष में पहुंच कर निढाल सी बिस्तर पर गिर पड़ी और पता ही नहीं चला, कब आंख लग गई.

‘‘मृदुला, उठो न, सो क्यों रही हो?’’ मुझे झकझोरते हुए उत्तम ने उठा दिया.

‘‘थोड़ी देर सोना चाहती हूं, बड़ी थकान हो रही है,’’ मैं ने बेरुखी से अपनी बात कह दी और यह जतला दिया कि उस की बात मैं मानना नहीं चाहती.

‘‘मृदुला,’’ इस बार जरा सख्ती से उस ने मुझे खींच कर उठा दिया.

मैं अचकचाई सी उठ बैठी और उत्तम के इस अजीबोगरीब व्यवहार के कारण विस्मित सी उसे ताकती रह गई.

‘‘अभी तुम सो नहीं सकतीं. जल्दी से मुंहहाथ धो कर तैयार हो जाओ. नीचे मेहमान तुम्हारा इंतजार कर रहे हैं.’’

‘‘कौन मेहमान?’’

‘‘हमारी ऋचा का भावी पति अपने मातापिता के साथ आया हुआ है.’’

‘‘क्या?’’ मैं आंखें फाड़े उत्तम को देखती रह गई, ‘‘तुम ने पहले क्यों नहीं बताया?’’

‘‘मैं तुम्हारा ही तो इंतजार कर रहा था. मैं और ऋचा मिल कर तुम्हें सरप्राइज देना चाहते थे, इसलिए तुम्हें पहले से नहीं बताया. इस लड़के को ऋचा ने स्वयं पसंद किया है. पिछले महीने जब उस ने मुझे यह बात बताई तब मैं ने निर्णय लिया कि अकेले ही पहले उस लड़के को परखूंगा और यदि वह हमारी बेटी के योग्य सिद्ध हुआ तो फिर तुम्हें बताऊंगा. ‘‘मैं पिछले 15 दिनों से इसी काम में लगा हुआ था. लड़का डाक्टर है. कई लोगों से मिल कर मैं ने पता लगाया और जब आश्वस्त हो गया तो आज उसे घर पर बुला लिया ताकि तुम उस से मिल कर बाकी की कार्यवाही करो.’’ मैं हैरानगी से उत्तम को देखती रह गई.

‘‘आज हम दोनों का इरादा तुम को सरप्राइज देने का था पर तुम इतनी थकीथकी सी लगीं कि पलभर के लिए तो हम भी परेशान हो गए. लड़के वाले शादी के लिए जल्दी कर रहे हैं. एक बार बेटी का बोझ सिर से उतर जाए, फिर मेरी जिंदगी में सिर्फ तुम ही तो रह जाओगी. ‘‘अभी शायद मेरा प्यार बंट गया है, इसलिए तुम्हारी तकलीफ को देख कर भी कुछ कर नहीं पा रहा था. पर कुछ दिनों बाद मेरी जिंदगी में तुम अकेली रह जाओगी, तब मैं तुम्हें कभी परेशान नहीं होने दूंगा. अच्छा, अब जल्दी से तैयार हो कर आ जाओ,’’ मेरे गालों को थपथपाता हुआ उत्तम बोला और बाहर निकल गया. ऋचा के प्रति उत्तम के निश्छल स्नेह को देख कर मेरा सिर शर्म से झुक गया. मैं सोचने लगी कि कितने गंदे हो गए थे मेरे विचार कि मुझे ‘सरप्राइज’ देने की उन की गुपचुप तैयारी में मुझे उन का आपत्तिजनक प्रेमालाप नजर आया. बहुत प्रयास किया कि अपनेआप को संभाल लूं पर रो ही पड़ी. जल्दी ही आंसुओं ने मन का सारा मैल धो डाला था.

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे