Hair Cutting at Home during Lockdown | easy trick to learning इस तरह से सीखें बालों की कटिंग, लॉकडाउन में सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Hair Cutting at Home during Lockdown | easy trick to learning इस तरह से सीखें बालों की कटिंग, लॉकडाउन में

Hair Cutting at Home during Lockdown
Hair Cutting at Home during Lockdown


इस तरह से सीखें बालों की कटिंग, लॉकडाउन में पार्लर बंद तो भी स्टाइल में नहीं आएगी कमी,





पिछले 21 दिनों से देश को कोरोना जैसी महामारी से बचाने के लिए लॉकडाउन लगा हुआ था। जिसे बढ़ाकर एक बार फिर 3 मई तक कर दिया गया है। ऐसे में सबसे ज्यादा दिक्कत उन लड़कियों और लड़कों को हो रही है जो हमेशा स्टाइल में रहना पसंद करते हैं। बाल से लेकर थ्रेडिंग तक सब बढ़ गई है। जिसे पार्लर बंद होने की वजह से सेट नहीं करवा पा रहे हैं। लेकिन अब परेशान होने की जरूरत नहीं है। हम लेकर आएं हैं कुछ ऐसी ट्रिक जिसकी मदद से आप खुद के बाल काटना सीख सकती हैं। तो इस लॉकडाउन घर पर आसानी से बालों की कटिंग करना सीखिए और अपने हुनर को निखार लीजिए।




बालों की कटिंग के लिए सामान
बालों की कटिंग सीखने से पहले जरूरी है कि सारे तरह के सामान को एक साथ इकट्ठा कर लिया जाए। जिससे कि काम शुरू करने के बाद किसी तरह की परेशानी न हो। बाल काटने से पहले एक तौलिया, कंघी, एक धारदार कैंची, एक scrunchie (बालों को बांधने के लिए एक तरह का बैंड) और हेयर स्प्रे की जरूरत होती है।






ऐसे करें शुरूआत
बालों को काटने की शुरूआत करने के लिए सबसे पहले कंधे के हिस्से को कवर कर लें ताकि बालों की कटिंग हो जाने के बाद गिरे हुए बालों को आसानी से साफ किया जा सके। इसके बाद कंघी से बालों को सुलझा लें। बालों पर निशान लगाएं ताकि काटने में आसानी हो। बाल काटना अभी आप सीखना शुरू कर रहे हैं इसलिए बालों को गीला करने की कोशिश न करें। सूखे बालों पर ही कटिंग करें। इससे आपको बालों की शेप समझ में आएगी। इसके लिए कान के पीछे के हिस्से की तरफ से बालों पर मार्क लगाएं, उसके बाद कट करना शुरू करें।

guide to cutting my own hair




छोटे सेक्शन में बांटे
बालों को काटना शुरू करने से पहले इन्हें छोटे-छोटे हिस्से में बांट लें। ताकि कैंची चलाने और हाथ से पकड़ने में आसानी हो। इसके बाद इन सेक्शन्स में एक तरफ से बालों को कट करना शुरू करें। scrunchie से आधे बालों को बांध लें और आगे के हिस्से के बालों की पहले कटिंग कर लें। इसके बाद पीछे के हिस्से में यही क्रम दोहराएं।







हेयर स्प्रे लगाएं
कटिंग करने के बाद बालों को दो हिस्सों में बांट कर अच्छी तरह से देख लें कि दोनों तरफ के बाल ठीक तरीके से कटे हैं कि नहीं। इसके बाद एक इंच और इन्हें ट्रिम कर दे। इसके बाद बालों में हेयर स्प्रे लगा दें। ऐसा करने से बालों की कटिंग और शेप साफ दिखने लगेगा और जहां कहीं कटिंग नहीं होगी वहां इसे ठीक किया जा सकेगा।
how to cut hair at home men

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे