Hindi Shayari Collection Of Markaz Shayari | Ghalti Sher ‘ग़लती’ पर शायरों के अल्फ़ाज़ सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Hindi Shayari Collection Of Markaz Shayari | Ghalti Sher ‘ग़लती’ पर शायरों के अल्फ़ाज़


 Hindi Shayari Collection Of Markaz Shayari  | Ghalti Sher ‘ग़लती’ पर शायरों के अल्फ़ाज़
 Hindi Shayari Collection Of Markaz Shayari  | Ghalti Sher ‘ग़लती’ पर शायरों के अल्फ़ाज़




 शायरों के अल्फ़ाज़ ‘ग़लती’ पर

कभी ये ग़लत कभी वो ग़लत कभी सब ग़लत
ये ख़याल-ए-पुख़्ता जो ख़ाम थे मुझे खा गए
- लियाक़त अली आसिम


क्यूं सबा की न हो रफ़्तार ग़लत
गुल ग़लत ग़ुंचे ग़लत ख़ार ग़लत
- बाक़ी सिद्दीक़ी





हम डूब जाएं अपने ही ग़म के बहाव में
हां हां ग़लत ग़लत मिरे यारा बहुत ग़लत
- नबील अहमद नबील


मैं एक बात बताता मगर बुज़ुर्गों ने
हर एक बात बताना ग़लत बताया है
- अक़ील शाह

अव्वल वो ग़लत बनाने वाला
आख़िर को ग़लत मिटा रहा है
- शाहीन अब्बास


ये ग़लत क्या है तजरबे को अगर
हासिल-ए-हादसात कहते हैं
- द्वारका दास शोला

बहस ग़लत होने पर 'शाहीं'
आप ही पीछे हट जाता हूँ
- जावेद शाहीन





रास्ता भी ग़लत हो सकता है मंज़िल भी ग़लत
हर सितारा तो सितारा भी नहीं हो सकता
- सलीम कौसर

वादा ग़लत पते भी बताए हुए ग़लत
तुम अपने घर मिले न रक़ीबों के घर मिले
- क़मर जलालवी


हम ग़लत एहतिमाल रखते थे
तुझ से क्या क्या ख़याल रखते थे
- मीर असर




'मरकज़' पर कहे गए शेर...



यही चक्कर मुझे मरकज़ से अलग रखता है
ख़ुश-नसीबी है कि गर्दिश में है तारा मेरा
- सुहैल अख़्तर

ठहर गया है सर-ए-मरकज़-ए-फ़लक सूरज
ये वक़्त वो है कि दीवार में भी साया नहीं
- फ़रासत रिज़वी

दिल को तजल्लियात का मरकज़ बना लिया
अब उन का नाम लेने के क़ाबिल हुआ हूँ मैं
- अब्दुल रहमान ख़ान वस्फ़ी बहराईची

ख़ामोश सही मरकज़ी किरदार तो हम थे
फिर कैसे भला तेरी कहानी से निकलते
- सलीम कौसर

अब मरकज़ी किरदार तुम्हारा है मिरे दोस्त
तुम मेरी कहानी को ज़रा ध्यान में रखना
- इसहाक़ विरदग






तुम जिसे मरकज़ी किरदार समझ बैठे हो
वो फ़साने में अगर था तो कहाँ था क्या था
- वसी शाह

यही जो शहर का है आज मरकज़
यहाँ सन्नाटे पैहम बोलते थे
- भारत भूषण पन्त

हर एक मेहवर हर एक मरकज़
अभी तक उस कज-कुलाह पर है
- मुमताज़ मालिक

मरने वाला है मरकज़ी किरदार
आख़िरी मोड़ पर कहानी है
- आलोक मिश्रा

सुब्ह मरकज़ बनी उमीदों का
शाम मायूसियों के काम आई
- शुजा ख़ावर

मिरा था मरकज़ी किरदार इस कहानी में
बड़े सलीक़े से बे-माजरा किया गया हूँ
- इरफ़ान सत्तार




मैं चल पड़ूँगा सितारों की रौशनी ले कर
किसी वजूद के मरकज़ को दरमियान लिए
- रफ़ीक़ संदेलवी

एक मरकज़ पर ठहरता ही नहीं है
ज़ेहन की आवारगी चारों तरफ़ है
- मासूम अंसारी

ज़ाहिर है हक़ का जल्वा गर आँख हो तो देखे
'मरकज़' ख़ुदा को आलम भूले पुकारते हैं
- यासीन अली ख़ाँ मरकज़

अपने मरकज़ पे रक़्स करती हुई
इक मुसलसल सफ़र है ये दुनिया
- नाज़िम नक़वी

पहले भी तिरी बात ही मरकज़ थी सुख़न का
अब याद तिरी सर्फ़-ए-सुख़न होने लगी है
- हुसैन ताज रिज़वी

अपने मरकज़ की महक चारों तरफ़ बिखराई है
फड़फड़ा कर भी तिरे संदल से मैं निकला नहीं
- अफ़ज़ाल नवेद




मैं जैसे मरकज़ी किरदार हूँ कहानी का
कोई फ़साना हो वो मेरी दास्ताँ ही लगे
- जे. पी. सईद



आया न एक बार अयादत को तू मसीह
सौ बार मैं फ़रेब से बीमार हो चुका
- अमीर मीनाई

तुम्हारे हिज्र में आंखें हमारी मुद्दत से
नहीं ये जानतीं दुनिया में ख़्वाब है क्या चीज़
- नज़ीर अकबराबादी

अदब लाख था फिर भी उन की तरफ़
नज़र मेरी अक्सर रही देखती
- अज्ञात

हम भटकते रहे अंधेरे में
रौशनी कब हुई नहीं मालूम
- बेकल उत्साही

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे