Hindi Story Maan Ki Khushee | Hindi Kahani Part 1 Read Now राकेश भ्रमर मन की खुशी सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Hindi Story Maan Ki Khushee | Hindi Kahani Part 1 Read Now राकेश भ्रमर मन की खुशी

 Hindi Story Maan Ki Khushee | Hindi Kahani Read Now राकेश भ्रमर मन की खुशी
 Hindi Story Maan Ki Khushee | Hindi Kahani Read Now राकेश भ्रमर मन की खुशी 


राकेश भ्रमर मन की खुशी 
दूसरी तरफ बेटे उन की नाक में दम किए रहते हैं. जब भी घर पहुंचो, या तो वे टीवी देखते रहते हैं या फिर मोबाइल में किसी से बात कर रहे होते हैं या फिर होमथिएटर में आंखें और कान फोड़ते रहते हैं. इस से छुटकारा मिला तो इंटरनैट में अनजान लड़केलड़कियों से दोस्ती काय | Maan Ki Khushee




Hindi Story Maan Ki Khushee
उस दिन मणिकांत का मन अशांत था. आजकल अकसर रहने लगा है, इसीलिए दफ्तर में देर तक बैठते हैं. हालांकि बहुत ज्यादा काम नहीं होता है, परंतु काम के बहाने ही सही, वे कुछ अधिक देर तक औफिस में बैठ कर अपने मन को सुकून देने का प्रयास करते रहते हैं. दफ्तर के शांत वातावरण में उन्हें अत्यधिक मानसिक शांति का अनुभव होता है. घर उन्हें काटने को दौड़ता है, जबकि घर में सुंदर पत्नी है, जवान हो रहे 2 बेटे हैं. वे स्वयं उच्च पद पर कार्यरत हैं. दुखी और अशांत होने का कोई कारण उन के पास नहीं है, परंतु घर वालों के आचरण और व्यवहार से वे बहुत दुखी रहते हैं.

जिस प्रकार का घरपरिवार वे चाहते थे वैसा उन्हें नहीं मिला. पत्नी उन की सलाह पर काम नहीं करती, बल्कि मनमानी करती रहती है और कई बार तो वे उस की नाजायज फरमाइशों पर बस सिर धुन कर रह जाते हैं, परंतु अंत में जीत पत्नी की ही होती है और वह अपनी सहीगलत मांगें मनवा कर रहती है. उस के अत्यधिक लाड़प्यार और बच्चों को अतिरिक्त सुविधाएं मुहैया कराने से बच्चे भी बिगड़ते जा रहे थे. उन का ध्यान पढ़ाई में कम, तफरीह में ज्यादा रहता था. देर रात जब वे घर पहुंचे तो स्वाति उन का इंतजार कर रही थी. नाराज सी लग रही थी. यह कोई नई बात नहीं. किसी न किसी बात को ले कर वह अकसर उन से नाराज ही रहती थी. वे चुपचाप अपने कमरे में कपड़े बदलने लगे, फिर बाथरूम में जा कर इत्मीनान से फ्रैश हो कर बाहर निकले. पत्नी, बेटों के साथ बैठी टीवी देख रही थी.

वे कुछ नहीं बोले तो पत्नी ने ही पूछा, ‘‘आज इतनी देर कहां कर दी?’’

‘‘बस, यों ही, औफिस में थोड़ा काम था, रुक गया,’’ उन्होंने बिना किसी लागलपेट के कहा.


पत्नी ने कहा, ‘‘मैं कब से आप का इंतजार कर रही हूं.’’

‘‘अच्छा, कोई काम है क्या?’’ उन्होंने कुछ चिढ़ने के भाव से कहा. अब उन की समझ में आया कि पत्नी उन के देर से आने के लिए चिंतित नहीं थी. उसे अपने काम की चिंता थी, इसलिए उन का इंतजार कर रही थी.

‘‘हां, नवल को नई बाइक लेनी है. उस ने देखी है, कोई स्पोर्ट्स बाइक है, लगभग 1 लाख रुपए की.’’

नवल उन का बड़ा लड़का था. एक नंबर का लफंगा. पढ़ाई में कम, घूमनेफिरने और लड़कियों के चक्कर में उस का ध्यान ज्यादा रहता था.

‘‘उस के पास पहले से ही एक बाइक है, दूसरी ले कर क्या करेगा?’’ उन्हें मन ही मन क्रोध आने लगा था.

स्वाति ने बहुत ही लापरवाही से कहा, ‘‘क्या करेगा? आप तो ऐसे कह रहे हैं जैसे बच्चों की कोई जरूरत ही नहीं होती. जवान लड़का है, दोस्तों के साथ घूमनाफिरना पड़ता है. स्टेटस नहीं मेनटेन करेगा तो उस की इज्जत कैसे बनेगी? उस के कितने सारे दोस्त हैं, जिन के पास कारें हैं. वह तो केवल बाइक ही मांग रहा है. पुरानी वाली बेच देगा.’’

‘‘स्टेटस मोटरबाइक या कारों से नहीं बनता, बल्कि पढ़ाई में अव्वल आने और अच्छी नौकरी करने से बनता है. तभी इज्जत मिलती है. मैं हमेशा कहता रहा हूं, बहुत ज्यादा लाड़प्यार से बच्चे बिगड़ जाते हैं, परंतु तुम ध्यान ही नहीं देतीं. अपने बेटों की हम हर  जरूरत पूरी करते हैं, परंतु क्या वे हमारी इच्छा और आकांक्षा के अनुसार पढ़ाई कर रहे हैं? नहीं. बड़ा वाला न जाने कब बीसीए पूरा कर पाएगा. हर साल फेल हो जाता है और छोटा वाला अभी तो कोचिंग ही कर रहा है. प्रेम के क्षेत्र में सभी उत्तीर्ण होते चले जा रहे हैं, परंतु पढ़ाई की परीक्षा में लगातार फेल हो रहे हैं,’’ उन का गुस्सा बढ़ता ही जा रहा था.


‘‘बेकार की भाषणबाजी से क्या फायदा? बच्चों की जरूरतों को पूरा करना हमारा कर्तव्य है. हमारे कमाने का क्या फायदा, अगर वह बच्चों के काम न आए,’’ फिर उस ने चेतावनी देने वाले अंदाज में कहा, ‘‘कल उस को बाइक के लिए चैक दे देना, बाकी मैं कुछ नहीं जानती,’’ पत्नी इतना कह कर चली गई.

वे धम से बिस्तर पर बैठ गए. यह उन की पत्नी है, जिस के साथ वे लगभग 25 वर्ष से गुजारा कर रहे हैं. वे दफ्तर से आए हैं और उस ने न उन का हालचाल पूछा, न चायपानी के लिए और न ही खाने के लिए. यह कोई नई बात नहीं थी. रोज ही वह अपने बेटों की कोई नई फरमाइश लिए तैयार बैठी रहती है और जैसे ही वे दफ्तर से आते हैं, फरमान जारी कर देती है. उस का फरमान ऐसा होता है कि वे नाफरमानी नहीं कर सकते थे. वे ना करने की स्थिति में कभी नहीं होते. पत्नी के असाधारण और अनुचित तर्क उन के उचित तर्कों को भी काटने में सक्षम होते थे. इस का कारण था, वे बहुत भावुक और संवेदनशील थे. उन का मानना था कि जड़ और मूर्ख व्यक्ति के साथ मुंहजोरी करने से स्वयं को ही दुख पहुंचता है.

दूसरी तरफ बेटे उन की नाक में दम किए रहते हैं. जब भी घर पहुंचो, या तो वे टीवी देखते रहते हैं या फिर मोबाइल में किसी से बात कर रहे होते हैं या फिर होमथिएटर में आंखें और कान फोड़ते रहते हैं. इस से छुटकारा मिला तो इंटरनैट में अनजान लड़केलड़कियों से दोस्ती कायम कर रहे होते हैं. इंटरनैट ने भी यह एक अजीब बीमारी फैला दी है कि जिस व्यक्ति को हम जानतेपहचानते नहीं, उस से इंटरनैट की अंधी दुनिया में दोस्ती कायम करते हैं और जो सामने होते हैं, उन को फूटी आंख देखना पसंद नहीं करते. उन के लड़के दुनियाभर के कार्य करते हैं, परंतु पढ़ाई करते हुए कभी नहीं दिखते. उन के समझाने पर वे भड़क जाते हैं, क्योंकि मां की शह उन के साथ होती है.


c स्वाति उन्हें कितना प्रेम करती है, वे अब तक नहीं समझ पाए थे, परंतु अब उस के कर्कश और क्रूर व्यवहार के कारण स्वयं को उस से दूर करते जा रहे थे, तन और मन दोनों से. पत्थरों से सिर टकराना बहुत घातक होता है. अब उन्हें यह एहसास हो गया था कि वे व्यर्थ में ही एक ऐसी स्त्री के साथ दांपत्य सूत्र में बंध कर अपने जीवन को निसार बनाते रहे हैं, जो उन के मन को बिलकुल भी समझने के लिए तैयार नहीं थी.







मन की खुशी: भाग 2 
जिस दिन बेटा बिना किसी बैंडबाजे के लड़की को घर ले कर आया, तो उन की पत्नी ने अकेले उन की अगवानी की और रीतिरिवाज से घर में प्रवेश करवाया. पत्नी बहुत खुश थी. छोटा बेटा भी मां का खुशीखुशी सहयोग कर रहा था. वे एक अजनबी की तरह अपने ही घर में ये सब होते देख रहे थ



Maan Ki Khushee | Hindi Kahani
अपनी पत्नी से अब उन्हें एक विरक्ति सी होने लगी थी और जवान हो चुके बच्चों को वे एक बोझ समझने लगे थे. वे जीवनभर न केवल अपना प्यार पत्नी और बच्चों पर लुटाते रहे, बल्कि उन की सुखसुविधा की चिंता में रातदिन खटते रहे. परिवार के किसी व्यक्ति को कभी एक पैसे का कष्ट न हो, इस के लिए वे नौकरी के अतिरिक्त अन्य स्रोतों से भी आय के साधन ढूंढ़ते रहे परंतु उन के स्वयं के हितों की तरफ परिवार के किसी सदस्य ने कभी ध्यान नहीं दिया. पत्नी ने भी नहीं. वह तो बच्चों के पैदा होते ही उन के प्रेमस्नेह और देखभाल में ऐसी मगन हो गई कि घर में पति नाम का एक अन्य जीव भी है, वह भूल सी गई. बच्चों की परवरिश, उन की पढ़ाईलिखाई और उन को जीवन में आगे बढ़ाने की उठापटक में ही उस ने जीवन के बेहतरीन साल गुजार दिए. मणिकांत पत्नी के लिए एक उपेक्षित व्यक्ति की तरह घर में रह रहे थे. वे बस पैसा कमाने और परिवार के लिए सुखचैन जुटाने की मशीन बन कर रह गए.

दांपत्य जीवन के प्रारंभ से ही पत्नी का व्यवहार उन के प्रति रूखा था और कई बार तो उस का व्यवहार अपमानजनक स्थिति  तक पहुंच जाता था. पति की आवश्यकताओं के प्रति वह हमेशा लापरवाह, परंतु बच्चों के प्रति उस का मोह आवश्यकता से अधिक था. बच्चों को वे प्यार करते थे, परंतु उस हद तक कि वे सही तरीके से अपने मार्ग पर चलते रहें. गलती करें तो उन्हें समझा कर सही मार्ग पर लाया जाए, परंतु पत्नी बच्चों की गलत बातों पर भी उन्हीं का पक्ष लेती. इस से वे हठी, उद्दंड होते गए. उन्होंने कभी अगर बच्चों को सुधारने के उद्देश्य के कुछ नसीहत देनी चाही तो पत्नी बीच में आ जाती. कहती, ‘आप क्यों बेकार में बच्चों के पीछे अपना दिमाग खराब कर रहे हैं. मैं हूं न उन्हें संभालने के लिए. अभी छोटे हैं, धीरेधीरे समझ जाएंगे. आप अपने काम पर ध्यान दीजिए, बस.’ अपना काम, यानी पैसे कमाना और परिवार के ऊपर खर्च करना. वह भी अपनी मरजी से नहीं, पत्नी की मरजी से. इस का मतलब हुआ पति का परिवार को चलाने में केवल पैसे का योगदान होता है. उसे किस प्रकार चलाना है, बच्चों को किस प्रकार पालनापोसना है और उन्हें कैसी शिक्षा देनी है, यह केवल पत्नी का काम है. और अगर पत्नी मूर्ख हो तो…तब बच्चों का भविष्य किस के भरोसे? वे मन मसोस कर रह जाते.


पत्नी का कहना था कि बच्चे धीरेधीरे समझ जाएंगे, परंतु बच्चे कभी नहीं समझे. वे बड़े हो गए थे परंतु मां के अत्यधिक लाड़प्यार और फुजूलखर्ची से उन में बचपन से ही बुरी लतें पड़ती गईं. उन के सामने ही उन के मना करने के बावजूद पत्नी बच्चों को बिना जरूरत के ढेर सारे पैसे देती रहती थी. जब किसी नासमझ लड़के के पास फालतू के पैसे आएंगे तो वह कहां खर्च करेगा. शिक्षा प्राप्त कर रहे लड़कों की ऐसी कोई आवश्यकताएं नहीं होतीं जहां वे पैसे का इस्तेमाल सही तरीके से कर सकें. लिहाजा, उन के बच्चों के मन में बेवजह बड़प्पन का भाव घर करता गया और वे दिखावे की आदत के शिकार हो गए. घर से मिलने वाला पैसा वे लड़कियों के ऊपर होटलों व रेस्तराओं में खर्च करते और दूसरे दिन फिर हाथ फैलाए मां के पास खड़े हो जाते. बचपन से ही बच्चों के कपड़ों, स्कूल की किताबों और फीस, उन के खानपान और दैनिक खर्च की चिंता में पत्नी दिनरात घुलती रहती, परंतु कभी यह न सोचती कि पति को भी दिनभर औफिस में काम करने के बाद घर पर एक पल के लिए आराम और सुकून की आवश्यकता है. उन के जीवन में आर्थिक संकट जैसी कोई स्थिति नहीं थी. परंतु अगर कभी कुछ पल या एकाध दिन के लिए ऐसी स्थिति उत्पन्न होती थी, तो उन्होंने बहुत शिद्दत से इस बात को महसूस किया था कि पत्नी का मुंह तब टेढ़ा हो जाता था. वह उन की परेशानी की चिंता तो छोड़, इस बात का ताना मारती रहती थी कि उन के साथ शादी कर के उस का जीवन बरबाद हो गया, कभी सुख नहीं देखा, बस, परिवार को संभालने में ही उस का जीवन गारत हो गया.

तब पतिपत्नी के बीच बेवजह खटपट हो जाती थी. हालांकि वे तब भी चुप रहते थे, क्योंकि पत्नी को उन के वाजिब तर्क भी बुरे लगते थे. इसलिए बेवजह बहस कर के वे स्वयं को दुखी नहीं करते थे. परंतु उन के चुप रहने पर भी पत्नी का चीखनाचिल्लाना जारी रहता. वह उन के ऊपर लांछन लगाती, ‘हां, हां, क्यों बोलोगे, मेरी बातें आप को बुरी लगती हैं न. जवाब देने में आप की जबान कट जाती है. दिनभर औफिस की लड़कियों के साथ मटरगस्ती करते रहते हो न. इसलिए मेरा बोलना आप को अच्छा नहीं लगता.’ पत्नी की इसी तरह की जलीकटी बातों से वे कई दिनों तक व्यथित रहते. खैर, परिवार के लिए धनसंपत्ति जुटान उन के लिए कोई बड़ी मुसीबत कभी नहीं रही. वे उच्च सरकारी सेवा में थे और धन को बहुत ही व्यवस्थित ढंग से उन्होंने निवेश कर रखा था और अवधि पूरी होने पर अब उन के निवेशों से उन्हें वेतन के अलावा अतिरिक्त आय भी होने लगी थी. जैसेजैसे बच्चे बड़े होते गए, उन की जरूरतें बढ़ती गईं, उसी हिसाब से उन का वेतन और अन्य आय के स्रोत भी बढ़ते गए. संपन्नता उन के चारों ओर बिखरी हुई थी, परंतु प्यार कहीं नहीं था. वे प्रेम की बूंद के लिए तरस रहे उस प्राणी की तरह थे, जो नदी के पाट पर खड़ा था, परंतु कैसी विडंबना थी कि वह पानी को छू तक नहीं सकता था. पत्नी के कर्कश स्वभाव और बच्चों के प्रति उस की अति व्यस्तताओं ने मणिकांत को पत्नी के प्रति उदासीन कर दिया था.


उधर, छोटा बेटा भी अपने भाई से पीछे नहीं था. बड़े भाई की देखादेखी उस ने भी बाइक की मांग पेश कर दी थी. दूसरे दिन उसे भी बाइक खरीद कर देनी पड़ी. ये कोई दुखी करने वाली बातें नहीं थीं, परंतु उन्होंने पत्नी से कहा, ‘लड़कों को बोलो, थोड़ा पढ़ाई की तरफ भी ध्यान दिया करें. कितना पिछड़ते जा रहे हैं. सालदरसाल फेल होते हैं. यह उन के भविष्य के लिए अच्छी निशानी नहीं है.’ पत्नी ने रूखा सा जवाब दिया, ‘आप उन की पढ़ाई को ले कर क्यों परेशान होते रहते हैं? उन्हें पढ़ना है, पढ़ लेंगे, नहीं तो कोई कामधंधा कर लेंगे. कमी किस बात की है?’

एक अफसर के बेटे दुकानदारी करेंगे, यह उन की पत्नी की सोच थी. और पत्नी की सोच ने एक दिन यह रंग भी दिखा दिया जब लड़के ने घोषणा कर दी कि वह पढ़ाई नहीं करेगा और कोई कामधंधा करेगा. मां की ममता का फायदा उठा कर उस ने एक मोबाइल की दुकान खुलवा ली. इस के लिए उन को 5 लाख रुपए देने पड़े. परंतु बड़े बेटे की निरंकुशता यहीं नहीं रुकी. उन्हें मालूम नहीं था, परंतु स्वाति को पता रहा होगा, वह किसी लड़की से प्यार करता था. पढ़ाई छोड़ दी तो उस के साथ शादी की जल्दी पड़ गई. शायद उसे पता था कि मणिकांत आसानी से नहीं मानेंगे, तो उस ने चुपचाप लड़की से कोर्ट में शादी कर ली. अप्रत्यक्ष रूप से इस में स्वाति का हाथ रहा होगा.

जिस दिन बेटा बिना किसी बैंडबाजे के लड़की को घर ले कर आया, तो उन की पत्नी ने अकेले उन की अगवानी की और रीतिरिवाज से घर में प्रवेश करवाया. पत्नी बहुत खुश थी. छोटा बेटा भी मां का खुशीखुशी सहयोग कर रहा था. वे एक अजनबी की तरह अपने ही घर में ये सब होते देख रहे थे. किसी ने उन से न कुछ कहा न पूछा. पत्नी ने यह भी नहीं कहा कि वे बहू को आशीर्वाद दे दें. उन को दुख हुआ, परंतु किसी से व्यक्त नहीं कर सकते थे. बात यहां तक रहती तब भी वे संतोष कर लेते, परंतु दूसरे दिन पत्नी और बेटे की जिद के चलते परिचितों व रिश्तेदारों को शादी का रिसैप्शन देना पड़ा. इस में उन के लाखों रुपए खर्च हो गए. परिवार के किसी व्यक्ति की खुशी में वे भागीदार नहीं थे, परंतु उन की खुशी के लिए पैसा खर्च करना उन का कर्तव्य था. इसी मध्य, उन्हें छींक आई और वे भूत के विचारों की धुंध से वर्तमान में लौट आए.







 Hindi Story Maan Ki Khushee | Hindi Kahani Read Now राकेश भ्रमर मन की खुशी 





इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे