Jokes Latest Funny Jokes In Hindi पूर्वजों के अनुसार सातवीं पीढ़ी पर पढ़िए हिंदी जोक्स सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Jokes Latest Funny Jokes In Hindi पूर्वजों के अनुसार सातवीं पीढ़ी पर पढ़िए हिंदी जोक्स


पूर्वजों के अनुसार सातवीं पीढ़ी पर पढ़िए हिंदी जोक्स
Jokes Latest Funny Jokes



कोई लोगों को समझाओ कि धरती से कोरोना खत्म करना है......
मैदा, सूजी और बेसन को नहीं।





पूर्वजों से सुना था कि सातों पीढ़ी बैठकर खाएंगी......
अब पता चला है कि वह सातवीं पीढ़ी हम लोग ही हैं। 





पप्पू एक लड़की को मोटी-मोटी बोलता था...
.
लड़की बोली - अगर अब मोटी कहा तो
ब्लॉक कर दूंगी...!
.
.
पप्पू - ब्लॉक कर देने से कौन सी
पतली हो जाएगी...!!!






पतिदेव - बाबाजी, सुखी वैवाहिक जीवन के लिए मंत्र बताइए?
.
.
.
बाबाजी - बेटा, जब तक मुंह बंद और
पर्स खुला रहेगा, कृपा आती रहेगी...!!!







समय पर घर पहुंचो तो खाना गरम
और घरवाली ठंडी (शांत) मिलती है...
.
.
और...
.
देर से पहुंचे तो घरवाली गरम (गुस्सा)
और खाना ठंडा मिलता है...!!!










भाभी - आपकी नई बहू कैसी है ?
सास - बहुत मेहनत करती है, इतनी गर्मी में भी दिन-रात लगी रहती है,
कैंडी क्रश के 452 लेवल पर पहुंच गई है. व्हाट्सएप पर 25 ग्रुप चलाती है,
फेसबुक पर 5 हजार फ्रेंड और 10 हजार फॉलोवर हैं. 16 ग्रुप की एडमिन है.
और 36 पेज चला रही है. सोच रही हूं सुबह दूध के साथ बादाम देना शरू कर दूं
और तरक्की करेगी.
पड़ोसन - सास की बात सुनकर बेहोश है...









लॉकडाउन के बाद कुछ ऐसी खबरें सामने आएंगी...
लूडो खेलते वक्त हुआ प्यार....
लॉकडाउन खत्म होते ही व्हाट्सऐप पर लिए 7 फेरे






लॉकडाउन के बाद देश में शादियों के कार्ड कुछ ऐसे प्रिंट होंगे...
भेज रहे हैं स्नेह निमंत्रण प्रियवर, केवल तुम्हें दिखाने को...
हे दोस्त तुम गलती से भी मत जाना खाने के लिए...







शक की इंतहा तो देखो...
पत्नी - तुम्हारी शर्ट में तो एक भी बाल नहीं मिलता है!
पति - हां तो, क्या हुआ?
पत्नी - मैं पूछती हूं कौन है वो गंजी...!!!







कागज़ पे लिखी गज़ल , बकरी चबा गयी !
 चर्चा पुरे शहर में हुई , के बकरी शेर खा गयी .





हमारे गांव में बेरोजगारी का ऐसा आलम हैं
 साहब चार आदमी लूडो  खेलते है
तो चार उनके सलाहकार होते है
काट काट इसको कहने वाले होते हैं




पहला सरदार - मैंने अपनी वाईफ को १२ वी पास करवाई ,
 फिर , बी . ए , फिर एम ए , 
और उसकी सरकारी जॉब लगवा दी , 
अब क्या करू ? 
दूसरा सरदार - अच्छा लड़का देख कर शादी कर दे !





आपका बेटा गूगल का CEO बन गया है आंटी आपको कैसा लग रहा है भारतीय मां
माँ - ठीक है लेकिन थोड़ी मेहनत और कर लेता तो सरकारी नोकरी लग नाती




मेरा दोस्त बोलायार ! मैं जोभी _ _ _ _ काम शुरू करता हूं मेरी बीवी बीच में आ जाती है
 मैंने सलाह दिया तू कार चला कर देख ,
 शायद किस्मत साथ दे दे



मेरी बीवी इतनी सुंदर है कि उसे देखकर रोटियां तो रोज जलती ही थी , Funny jokes आज तो चावल के साथ कुकर भी जलकर काला हो गया !







अकबर ने बीरबल से पूँछा बताओ बीरबल पानी बह क्यों जाता है ? दूध उफन क्यों जाता है ? और सब्जी जल क्यों जाती है ? बीरबल ने बहुत ही सुन्दर जवाब दिया " जहाँपनाह Whatsapp की वजह से " "

Hindi jokes king "




ईरफ़ोन का एक स्पीकर ख़राब हो गया था

 फिर उसको खोल के थोड़ी कलाकारी करी अब दोनों बंद हो गए







 कनिका कपूर हमे भी बुला रही थी
पार्टी में लेकिन राहत इन्दोरी का शेर याद आ गया
 " बुलाती है मगर जाने का नही " Jokes  








लड़कियाँ किसी डिग्री की मोहताज नही होती साहेब . . .
 डॉक्टर से शादी हुई तो डॉक्टरनी . .
मास्टर से शादी हुई तो मास्टरनी . .
पंडित से शादी हुई तो पंडिताइन . .
सेठ से शादी हुई तो सेठानी . .
बस डाकिया वाली का मुझे नही पता आपको पता है तो बता दीजिए . . . . .







मुझे जब भी सफलता की चाबी मिलती है

 ना मजाक था यार साला कोई ना कोई ताला बदल के चला जाता है





इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे