Read Brajendr Singh Story Sahas - ब्रजेंद्र सिंह की कहानी साहस - Hindi Shayari h सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Read Brajendr Singh Story Sahas - ब्रजेंद्र सिंह की कहानी साहस - Hindi Shayari h

Read Brajendra Singh Story Sahas - ब्रजेंद्र सिंह की कहानी साहस - Hindi Shayari h
Read Brajendra Singh Story Sahas - ब्रजेंद्र सिंह की कहानी साहस - Hindi Shayari h


ब्रजेंद्र सिंह की कहानी साहस
टैक्सी एअरपोर्ट के डिपार्चर टर्मिनल के बाहर रुकी. मीरा और आनंद उतरे. टैक्सी ड्राइवर ने डिक्की खोली और स्ट्रोली निकाल कर आनंद को पकड़ाई.




टैक्सी एअरपोर्ट के डिपार्चर टर्मिनल के बाहर रुकी. मीरा और आनंद उतरे. टैक्सी ड्राइवर ने डिक्की खोली और स्ट्रोली निकाल कर आनंद को पकड़ाई. आनंद ने झुक कर मीरा के पांव छुए.

‘‘अच्छा मां, मैं जा रहा हूं. अपना खयाल रखना. मेरे बारे में आप को कोई आशंका नहीं होनी चाहिए. मैं अपनी देखभाल अच्छी तरह कर सकता हूं. मैं आप को समयसमय पर फोन किया करूंगा और पढ़ाई खत्म होते ही भारत लौट आऊंगा आप की देखभाल करने के लिए,’’ यह कह कर आनंद ने मीरा से विदा ली.

‘‘जाओ बेटे, अच्छे से रहना. मेरे बारे में चिंता करने की जरूरत नहीं है. तुम सुखी रहो और तुम्हारी सारी मनोकामनाएं पूरी हों,’’ मीरा ने प्रसन्नता के साथ उसे विदा किया. आनंद टर्मिनल की ओर घूमा और मीरा टैक्सी में वापस बैठी. उस की आंखें सूखी थीं क्योंकि उस ने आंसू रोक रखे थे. वह टैक्सी ड्राइवर के सामने रोना नहीं चाहती थी. घर लौटते समय वह मन ही मन सोचने लगी, आनंद उस का इकलौता पुत्र था, जो अपने पिता की मौत के 6 महीने बाद पैदा हुआ था. मीरा ने उसे अकेले, अपने दम पर, पढ़ालिखा कर बड़ा किया था. और आज आनंद उसे छोड़ कर चला गया था. हमेशा के लिए तो नहीं, पर मीरा को शक था कि अब जब भी आनंद भारत लौटेगा तो वह सिर्फ चंद दिनों के लिए ही उस से मिलने के लिए आएगा. उस ने हमेशा सोचा था कि आनंद को वह अपने पति मेजर विजय की तरह फौजी बना देगी, पर यह बात उस के बेटे के दिमाग में कभी नहीं जमी. वह तो बचपन से ही अमेरिका में जा कर बस जाने के सपने देखने लगा था. फौज में जाता तो उस का सपना अधूरा रह जाता. अपने सपने पूरे करने के लिए आनंद ने दिनरात पढ़ाई की जिस के कारण वह यूनिवर्सिटी में गोल्ड मैडलिस्ट बना, यानी अव्वल नंबर पर आया. उसे अमेरिका में आगे पढ़ाई करने के लिए बहुत अच्छी स्कौलरशिप मिली. अब उसे कौन रोक सकता था.




घर लौटने के बाद मीरा अपने पति के चित्र के आगे जा कर खड़ी हो गई, ‘‘देखिए, आज मैं ने आप के बेटे को अपने पैरों पर खड़े होने के काबिल बना दिया है. आप की तरह देशसेवक फौजी तो नहीं बना सकी पर मुझे यकीन है कि वह जीवन में बहुत सफलताएं प्राप्त करेगा ताकि हमारे सिर गर्व से ऊंचे रहेंगे.’’ मीरा अपने दिवंगत पति से और भी बातें करना चाहती थी, पर उस की भावनाओं का बांध टूट गया और वह हिचकियां ले कर रो पड़ी. उसे लगा कि उस के सारे सपने टूट गए थे. उस का आनंद को फौजी बनाने का इरादा अधूरा ही रह गया था. आनंद ने उसे यह विश्वास दिलाया था कि वह पढ़ाई पूरी कर के भारत लौट आएगा, पर मीरा जानती थी कि यह बात उस ने उस को बहलाने के लिए ही कही थी. अचानक मीरा का ध्यान बंट गया. साथ वाले घर में रेडियो पर मन्ना डे का पुराना लोकप्रिय गाना बज रहा था, ‘इधर झूम के गाए जिंदगी उधर है मौत खड़ी. कोई क्या जाने कहां है सीमा, उलझन आन पड़ी…’ गाने को सुनतेसुनते मीरा को खयाल आया, ‘हां, यह तो बिलकुल ठीक है. सच में आज तक किसी को नहीं पता चला है कि जिंदगी और मौत की सीमा कहां है.’

वह कैसे भूल सकती थी अक्तूबर के उस शनिवार की काली रात को, जिस के दौरान उस की जिंदगी हमेशा के लिए बदल गई. उन के कैंटोन्मैंट के फौजी अफसरों के क्लब में हर महीने के दूसरे शनिवार को पार्टी होती थी. यह बड़ा कैंटोन्मैंट था, कई यूनिटें स्थलसेना की और 2 यूनिटें वायुसेना की थीं. क्लब की इन पार्टियों में काफी ज्यादा रौनक रहती थी. म्यूजिक सिस्टम पर नए से नए हिंदी और अंगरेजी गाने बजते थे, जिन की धुन पर जोडि़यां नाचती थीं. उस शनिवार की रात भी मीरा का पति मेजर विजय सिंह हमेशा की तरह उसे ले कर पार्टी में पहुंचा. क्लब का प्रोग्राम शुरू हुआ. गाने बजने लगे और जोडि़यों ने नाचना शुरू किया. जो नाच नहीं रहे थे वे हाथों में डिं्रक का गिलास पकड़े उन्हें देख रहे थे. विजय नाचना चाहता था. पर मीरा नाचना नहीं चाहती थी क्योंकि वह गर्भ के तीसरे महीने में थी. पर विजय माना नहीं. ‘तुम फौजी की बीवी हो. तुम्हें कुछ नहीं होगा,’ कहते हुए वह मीरा सहित नाचने वालों में शामिल हो गया. 11 बजे के करीब, वे लोग जो अपने जवान बेटेबेटियों को साथ लाए हुए थे, जाने लगे. तभी अचानक एक अनापेक्षित बदलाव कार्यक्रम में आया. एक कर्नल, जो पूरी वरदी में था, क्लब में फुरती से आया. उस ने गानों को रोकने का संकेत दिया और ‘मैं माफी चाहता हूं’ की संक्षिप्त भूमिका के साथ उस ने विस्मित क्लब अधिकारी के हाथ से माइक्रोफोन का चोंगा अपने हाथ में लिया:



‘प्रतिष्ठित महिलाओ और सज्जनो,’ उस ने घोषणा की, ‘मैं आप की पार्टी को भंग करने के लिए क्षमा चाहता हूं. पर एक गंभीर राष्ट्रीय आपत्ति हमारे सामने उठ खड़ी हुई है. सेना व वायुसेना के सभी अधिकारी तुरंत क्लब छोड़ दें. वे अपने घर जाएं और कार्यक्षेत्र की वरदी पहनें. फिर एक अन्य जोड़ी वरदी और टौयलेट का सामान छोटे से बैग में डाल कर अपनी यूनिट के हैडक्वार्टर में सुबह 4 बजे से पहले रिपोर्ट करें. मैं फिर कहता हूं कि यह राष्ट्रीय आपदा है और हमें फौरन सक्रिय होना है.’ यह कह कर वह पलटा और बाहर जा कर, जिस जीप में आया था उसी में बैठा और चला गया. क्लब में सब लोग चौंक कर अपनीअपनी टिप्पणियां देने लगे. प्रश्न था कि क्या समस्या हो सकती है? क्योंकि कर्नल ने कुछ भी स्पष्ट नहीं किया था, इसलिए किसी को पता नहीं था कि कौन सी गंभीर घटना घटी है. तो भी फौजी हुक्म तो हुक्म ही था. सेना और वायुसेना के अफसरान फौरन जल्दीजल्दी बाहर निकले. जो परिवार के साथ आए थे वे घरों की ओर लौटे, अविवाहित अफसर अपने मैस के कमरों की तरफ पलटे.

मीरा और विजय भी अपने घर लौटे. जब तक विजय ने वरदी पहनी, मीरा ने उस के बैग में सामान डाला. ‘यह क्या हो रहा है? तुम लोग क्यों और कहां जा रहे हो? तुम कब तक लौटोगे? मुझे कुछ तो बताओ?’ पर उस के हर सवाल का जवाब विजय का ‘मैं नहीं जानता हूं. मैं कुछ नहीं कह सकता हूं’ था. बिछुड़ने का समय आ गया. उन की शादी को 2 साल हो गए थे और मीरा पहली बार विजय से अलग हो रही थी. उस की आंखों में आंसू थे और दिल में एक अंजान सा डर, पता नहीं क्या होने वाला था. ‘चिंता मत करो, मेरी जान,’ विजय ने हौसला दिया था, ‘मैं फौजी हूं. हुक्म की तामील करना मेरा फर्ज है. और तुम एक फौजी की बीवी हो, साहस रखना तुम्हारा फर्ज है. मैं जल्दी ही तुम्हारे पास लौट आऊंगा.’

यह कहने के बाद विजय चला गया, हमेशाहमेशा के लिए चला गया. मीरा अतीत में खोई थी कि अचानक दरवाजे की घंटी से उस का ध्यान टूटा. वह आंसू पोंछ कर उठी. दरवाजे पर उस की बाई रामकली खड़ी थी. वह बोली, ‘‘मालकिन, आनंद बाबा को याद कर के रोओ मत. वे अमेरिका में खूब खुश रहेंगे. आप अपने काम में लग जाओ. आज तक आप ने आनंद बाबा को विजय साहब की यादों के सहारे ही तो पाला है. अब अपने स्कूल के काम में मन लगाओ,’’ फिर मीरा को बहलाते हुए आगे बोली, ‘‘मैं आप के लिए चाय लाती हूं. फिर आप के लिए खाना बनाऊंगी.’’ उस रात को जब मीरा अपने बिस्तर पर लेटी तो यादों का कारवां एक बार फिर उस की आंखों के आगे चल निकला. मीरा को घर पर छोड़ने के बाद विजय पर जो गुजरी वह कई दिनों बाद मीरा को विजय के दोस्त और यूनिट में उस के साथी कैप्टन शर्मा ने बताई.

विजय के यूनिट पहुंचने के कुछ देर बाद कमांडिंग अफसर (सीओ) ने पूरी बटालियन को संबोधित किया और उन्हें बताया कि देश के लिए एक गंभीर संकट की स्थिति उठ खड़ी हुई थी. एक पड़ोस के दुश्मन देश ने, बिना कोई चेतावनी दिए हमारे कई सीमावर्ती अड्डों पर भारी हमला कर दिया था. इस धोखाधड़ी वाले हमले के कारण हमारे कई सैनिक मारे गए थे और हमारी तकरीबन दर्जनभर चौकियां कुछ पूरब में, कुछ पश्चिम में दुश्मन के हाथ में आ गई थीं. दुश्मन को जल्द से जल्द रोकना अनिवार्य हो गया था. पश्चिम के सरहदी इलाके में दुश्मन को रोकने का काम उन की यूनिट को दिया गया था. अंत में सीओ साहब ने कहा, ‘‘हम वीर सैनिक, आने वाले खतरों का डट कर सामना करेंगे, भारतीय सेना की परंपरा के मुताबिक. हो सकता है कि हम में से कुछ अपना फर्ज निभातेनिभाते अपनी जान खो दें. पर इस कारण हमें डरना नहीं चाहिए. हमेशा याद रखो कि वतन की इज्जत के लिए जो भी जवान शहीद होता है वह देश की आंखों में अमर हो जाता है.’’


सीओ के भाषण के फौरन बाद विजय, बटालियन के बाकी सदस्यों के साथ हवाई अड्डे पहुंचा. वहां से सारे सैनिक, 3 हवाई जहाजों में सवार हुए और चंद घंटों के बाद, 14 हजार फुट की ऊंचाई पर सीमा के एक हवाई अड्डे पर उतारे गए. वहां मौजूद अधिकारियों ने उन्हें सूचित किया कि वहां की स्थिति बेहद खतरनाक थी. हवाई अड्डे से कुछ ही दूरी पर, दुश्मनों की एक बड़ी टोली ने मोरचा जमाया था. वे अपने साथियों का इंतजार कर रहे थे जो हजारों की तादाद में 2-3 दिन बाद वहां पहुंचने वाले थे. हवाई अड्डे के पास वाले दुश्मनों को खदेड़ना और उन के आने वाले साथियों का रास्ता रोकना बेहद जरूरी था, वरना हवाई अड्डा दुश्मन के कब्जे में आ सकता था.

वहां के हालात देख कर, उन के सीओ ने दुश्मनों पर हमला करने की जिम्मेदारी विजय को सौंपी. बाकी सैनिक हवाई अड्डे की रक्षा में, और उस ओर आने वाले रास्ते को रोकने के काम में लगाए गए. अगले दिन सुबहसुबह विजय और उस के सैनिकों ने दुश्मनों पर अचानक धावा बोला. शुरू में तो उन को काफी सफलता मिली, पर इस दौरान विजय की टांग में 2 गोलियां लग गईं. अपने घावों की चिंता किए बिना विजय ने अपने सिपाहियों के आगे जा कर दुश्मन पर फिर धावा बोला. इस बार हमला इतना भयानक था कि बचे हुए दुश्मन सैनिक मोरचा छोड़ कर भाग गए. पर हमले के दौरान दुश्मन की 4 और गोलियों ने विजय की छाती छलनी कर डाली और उस ने वहीं जिंदगी और मौत की सीमा पार कर के वीरगति प्राप्त कर ली थी. इस महान बहादुरी के काम के लिए मेजर विजय को मरणोपरांत परमवीर चक्र मिला.

यह दास्तान मीरा के दिल और दिमाग पर गहरे निशान छोड़ गई थी. उस रात की याददाश्त ताजी होने पर मीरा की आंखें भर आईं, पर उस ने अपने आंसू रोके. तभी भोर की पहली किरणों ने आकाश में रंग भरना शुरू कर दिया. वह उठ कर बालकनी में गई. उस ने सोचा कि विजय के जाने के बाद भी तो जिंदगी उस ने अकेले ही चलाई थी तो अब आनंद के अमेरिका जाने पर भी चल ही जाएगी. समय की रफ्तार को कौन रोक सका है. आनंद ने पढ़ाई पूरी कर के अमेरिका में ही नौकरी कर ली. वह भारत समयसमय पर आताजाता रहा पर अब उस का मन वहां नहीं लगता था. उस ने मां की पसंद से भारत में शादी तो कर ली पर अपनी दुलहन समेत अमेरिका में ही जा कर बस गया. मीरा का सपना था कि आनंद अपने पिता विजय की तरह फौज में जाता पर वह सपना हकीकत न बन पाया. बाद में आनंद का आना भी कम हो गया. हां, उस की पत्नी शोभा आती रही. उन का बेटा अंकित भारत में ही पैदा हुआ. 8 साल की उम्र के बाद से तो वह मीरा के पास ही रह कर पला और बढ़ा. वह चाहता था कि वह अपने दादा की तरह फौजी अफसर बने. पर आनंद की इस में रजामंदी नहीं थी. उस ने अपनी मां की जिंदगी में दुख भरे तूफान का असर देखा था और वह नहीं चाहता था कि किसी और महिला को ऐसा दर्द मिले. तो भी अंकित ने स्कूल में एनसीसी में भाग ले लिया और कालेज की पढ़ाई पूरी कर के वह देहरादून मिलिटरी अकेडमी में चला गया.

आनंद इस सब से नाखुश था. अकेडमी से अफसर बन कर जब अंकित बाहर निकला तो उस ने अपने दादाजी की रेजीमैंट को जौइन किया. पर अब वह छुट्टियों में कम ही घर आता. उस की छुट्टियां दोस्तों के साथ घूमनेफिरने और मौजमस्ती में ही कट जातीं. मीरा उसे देखने को तरस जाती. एक दिन मीरा दीवार पर लगी विजय की फोटो देख रही थी. फिर उस की नजर साथ लगे डिसप्ले केस पर पड़ी, जिस में विजय के मैडल लगे थे. सर्वप्रथम एक बैगनी रंग के रिबन से लटका परमवीर चक्र था. 3 इंच का कपड़ा, एक तोला धातु, जिस को पाने के लिए सिपाही जान की बाजी दांव पर लगाने को तैयार रहते थे. वाह री शूरवीरता! तभी दरवाजे की घंटी बजी. मीरा ने दरवाजा खोला और उस के दिल पर जोर का झटका लगा. उस के सामने वरदी पहने, उस का पोता अंकित खड़ा था. हूबहू विजय. वही विजय जिस ने उस को बहुत साल पहले छोड़ा था और जिस की वरदी पहने वाली तसवीर उस के दिमाग में हमेशा के लिए छप गई थी. उस ने सोचा कि उस की आंखें उस को धोखा दे रही थीं. तभी एकदम अंकित ने उसे सैल्यूट मारा, फिर झुक कर पैर छुए, ‘‘देखिए दादीमां, मेरा प्रमोशन हो गया है. अब मैं भी दादाजी की तरह मेजर बन गया हूं.’’ मीरा ने अपने पोते को गले लगाया, उस के रुके हुए आंसू बह निकले. मीरा सोच रही थी कि ठीक था कि विजय ने अपने देश के लिए अपनी जान की बाजी लगा कर सराहनीय साहस का परिचय दिया था. पर मीरा के साहस का कौन अंदाजा लगा सकता था. समय की आंधी के आगे वह तन कर डटी रही और आगे ही बढ़ती गई. आज उसी साहस के बल पर उस ने अपने पोते को देश को समर्पित कर दिया था.

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे