Crime Kahaniya Crime Story Deewngi Ki Had se Aage Maut 19 दिन 19 कहानियां: दीवानगी की हद से आगे मौत सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Crime Kahaniya Crime Story Deewngi Ki Had se Aage Maut 19 दिन 19 कहानियां: दीवानगी की हद से आगे मौत




19 दिन 19 कहानियां: दीवानगी की हद से आगे मौत
नीलेश भाभी होने के नाते अपने मौसेरे भाई बादल की बीवी कविता को वाट्सऐप से अश्लील मैसेज और वीडियो क्लिप भेजने लगा था. कविता की चुप्पी से उसे लगा कि वह उस में रुचि ले रही है. उस के मौसेरे भाई ने उसे समझाया भी लेकिन...
विजय सोनी 





बीते 10 अक्तूबर की रात की बात है, रतलाम के औद्योगिक क्षेत्र के थाने की थानाप्रभारी डीएसपी (ट्रेनिंग) मणिक मणि कुमावत थाने में बैठी थीं. तभी रतलाम के इंद्रानगर क्षेत्र में रहने वाला बाबूलाल चौधरी थाने पहुंचा. वह काफी घबराया हुआ था. बाबूलाल ने थानाप्रभारी को बताया कि वह इप्का फैक्ट्री में ठेकेदारी का काम करता है. उस के परिवार में उस के अलावा उस की पत्नी, एक बेटा नीलेश और बेटी रेणुका है.




बाबूलाल ने बताया कि उस का बेटा नीलेश बीती रात से घर नहीं लौटा है. बाबूलाल ने अपने साले ईश्वर जाट के 21 वर्षीय बेटे बादल पर शक जताते हुए कहा कि बादल ही नीलेश को साथ ले गया है. थानाप्रभारी मणि कुमावत के पूछने पर बाबूलाल ने दिनभर का घटनाक्रम बता दिया. बाबूलाल के अनुसार उस का बेटा नीलेश रतलाम के आईटीआई से डिप्लोमा कर रहा था. वह सुबह 7 बजे घर से निकलता था और 3 बजे घर लौट आता था. जब वह 4 बजे तक नहीं लौटा तो उस की मां और बहन ने मोबाइल पर उस से संपर्क किया.





लेकिन नीलेश का फोन स्विच्ड औफ था. बादल का फोन भी स्विच्ड औफ था. जब बारबार मिलाने पर फोन बंद मिलता रहा तो मांबेटी को चिंता हुई. वे दोनों नीलेश का पता लगाने के लिए आईटीआई पहुंची. उन्होंने नीलेश के दोस्तों और साथ पढ़ने वालों से पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि सुबह नीलेश का मौसेरा भाई बादल जाट आया था, वही नीलेश को साथ ले गया.





बाबूलाल ने बताया कि उस के दूसरे साले रमेश जाट का बेटा जितेंद्र रतलाम में रह कर कोचिंग क्लासेज चलाता था. संभावना थी कि नीलेश और बादल जितेंद्र के पास चले गए हों. संगीता और रेणुका ने जितेंद्र से बात की.




उस ने बताया कि बादल सुबह उस के कोचिंग सेंटर आया था और उस के कमरे की चाबी मांग कर ले गया था. उस का कहना था कि वह गांव से अपनी पत्नी को ले कर आया है और कुछ देर उस के साथ गुजारना चाहता है. जितेंद्र ने उसे चाबी दे दी थी.


सवाल यह था कि बादल अगर अपनी पत्नी को ले कर आया था तो नीलेश को बुला कर ले जाने का कोई तुक नहीं था. एक सवाल यह भी था कि जब उस की पत्नी कविता नामली गांव में उस के साथ रहती थी तो बादल को उसे रतलाम ला कर उस के साथ कुछ समय गुजारने की क्या जरूरत थी.




यह जानकारी मिलने के बाद संगीता और रेणुका जितेंद्र के अलकापुरी स्थित घर पहुंचीं. वहां कमरे का दरवाजा खुला मिला, अंदर कोई नहीं था. मांबेटी ने अंदर जा कर देखा तो पता चला कमरे का फर्श पानी से धोया गया था. दीवारों पर खून के छींटे भी नजर आए.




बकौल बाबूलाल शाम को जब वह फैक्ट्री से लौट कर आया तो मांबेटी ने उसे पूरी बात बताई. उस के बाद ही वह रिपोर्ट दर्ज करवाने आया था. थानाप्रभारी कमावत को मामला गंभीर लगा. उन्होंने इस मामले की सूचना रतलाम के एसपी गौरव तिवारी को दी.




उन के निर्देश पर एडिशनल एसपी प्रदीप शर्मा के साथ सीएसपी विवेक सिंह चौहान, एसआई विजय सागरिया, एसआई और अमित शर्मा की टीम जितेंद्र के घर की जांच करने गई. वहां दीवारों पर खून के ताजे निशान पाए गए. पूछताछ के दौरान जितेंद्र ने बताया कि सुबह बादल उस की कोचिंग क्लास में गया था और घर की चाबी मांग कर ले गया था.




लेकिन जब वह शाम को घर आया तो वहां कोई नहीं था. दरवाजे भी खुले हुए थे. सीएसपी चौहान को मामला संदिग्ध लग रहा था.

कमरे की दीवारों पर लगे खून के निशान बता रहे थे कि कमरे में कुछ ऐसा हुआ है जो नहीं होना चाहिए था. पूछताछ में पुलिस इस बात का पता लगा चुकी थी कि उस रोज बादल के साथ उस के ताऊ का बेटा संदीप भी रतलाम आया था.




पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी के निर्देश पर थानाप्रभारी मणिक मणि कुमावत, एसआई विजय सागरिया, प्रमोद राठौर, एसआई अमित शर्मा, भूपेंद्र सिंह सोलंकी आदि की टीम बनाई गई. इस टीम ने बादल व उस के चचेरे भाई संदीप, पिता भूरूलाल जाट की खोजबीन शुरू की.

पुलिस की मेहनत बेकार नहीं गई. रात गहराते ही इस टीम ने बादल और संदीप को छत्री गांव से हिरासत में ले लिया. दोनों के चेहरों का रंग उड़ा देख टीआई कुमावत समझ गए कि नीलेश के साथ कुछ बुरा हो चुका है, इसलिए उन्होंने पूछताछ में सख्ती बरतनी शुरू कर दी.

नतीजा यह निकला कि सख्ती के चलते कुछ ही देर में बादल और संदीप ने नीलेश की हत्या की बात स्वीकार कर ली. उन्होंने बताया कि नीलेश की लाश रतलाम से 140 किलोमीटर दूर मांडू के पास घाटी में फेंकी थी. रात में 2 बजे पुलिस टीम लाश बरामद करने के लिए मांडू रवाना हो गई.

दिन निकलते ही पुलिस ने दोनों आरोपियों की निशानदेही पर मांडू से थेड़ा पहले आलमगीर गेट के पास 40 फुट गहरी खाई में पड़ा लोहे का बक्सा खोज निकाला.

इस बक्से को निकालने में पुलिस को काफी मेहनत करनी पड़ी. बक्से को खोला गया तो उस के अंदर दरी में लिपटी नीलेश की लाश मिल गई. लाश के हाथपैर बंधे हुए थे और उस के गले पर चाकू का गहरा घाव था.

जहां बक्से में लाश मिली थी, उस से थोड़ा पहले एक गहरी घटी में बेसबाल का बल्ला, चाकू और आरोपियों के कपड़े भी मिल गए. आरोपियों ने बताया कि मृतक का मोबाइल उन्होंने रतलाम से मांडू जाते समय कहीं रास्ते में फेंक दिया था.

मोबाइल खोजने के लिए पुलिस की एक टीम लगा दी गई. प्राथमिक काररवाई कर के पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए लाश धार के अस्पताल भेज दी.

पूछताछ के लिए दोनों आरोपियों को एक दिन के रिमांड पर लिया गया. पूछताछ में बादल जाट ने नीलेश की हत्या का जो कारण बताया, उस से कहानी कुछ इस तरह सामने आई.


नीलेश के पिता बाबूलाल मूलरूप से पचोड गांव के रहने वाले थे. पिछले कई दशकों से वह इप्का कंपनी में ठेका लिया करते थे, इंद्रलोक नगर में उन्होंने अपना घर बना लिया था और परिवार के साथ रहते थे.ठेकेदारी के चलते कंपनी के अधिकारियों से उन की अच्छी जानपहचान थी.

इसलिए बारहवीं के बाद उन्होंने बेटे नीलेश को आईटीआई से टर्नर ग्रेड का कोर्स करने की सलाह दी, ताकि पढ़ाई के बाद अपने संबंधों का लाभ उठा कर उसे आसानी से नौकरी दिला सकें.

नीलेश की एक मौसी बिलपांक थाना क्षेत्र के छत्री गांव में रहती थी. उस का बेटा बादल नीलेश का हमउम्र होने के साथसाथ उस का अच्छा दोस्त भी था. बादल 12वीं करने के बाद बीए कर रहा था. चूंकि उस के पिता की गांव में अच्छीखासीखेतीकिसानी थी, सो उसे नौकरी की चिंता नहीं थी.

बीते साल अप्रैल महीने में घर वालों ने उस की शादी मांडू इलाके के एक गांव में रहने वाली 18 वर्षीय कविता से कर दी थी. कविता केवल नाम की ही कविता नहीं थी, बल्कि उस के स्वभाव में भी कविता सी रचीबसी थी. खूबसूरत तो वह थी ही.

हाल ही में 18 साल पूरे करने वाली कविता का अल्हड़पन अभी गया नहीं था. शादी के समय जिस ने भी कविता को दुलहन के रूप में देखा, तो देखता ही रह गया. बारात में शामिल बड़ेबुजुर्ग जहां दुलहन में लक्ष्मी का रूप देख रहे थे, वहीं युवक रति का. नीलेश तो कविता को देख कर पगला सा गया था.

बहरहाल, बादल की शादी के कुछ दिन बाद नीलेश उसे भूल कर अपनी पढ़ाई में जुट गया. इसी दौरान एक रोज बादल कविता को ले कर रतलाम आया और दिन में आराम करने के लिए जितेंद्र से चाबी ले कर उस के कमरे पर पहुंच गया. उस ने भाभी को साथ ले कर आने की बात नीलेश को बताई.


साथ ही मिलने के लिए उसे जितेंद्र के कमरे पर बुला लिया. नीलेश जितेंद्र के घर पहुंचा तो बंद दरवाजे के पीछे से आ रही चूडि़यां खनकने की आवाज सुन कर चौंका. वह दरवाजे की झिर्री से अंदर झांकने लगा. उस ने कमरे के अंदर का नजारा देखा तो उस का खून गरम होने लगा.

छोटे से गांव से आई कविता देह के खेल में न केवल बादल का साथ दे रही थी, बल्कि उस माहौल में भी पूरी तरह डूबी हुई थी. कविता का यह रूप देख कर नीलेश का दिल और दिमाग दोनों घूम गए. उसे लगने लगा कि कविता अगर उसे मिल जाए तो उस की दुनिया भी रंगबिरंगी हो जाएगी. कुछ देर बाद जब कविता और बादल अलग हुए तो नीलेश ने दरवाजे पर दस्तक दी.

बादल ने दरवाजा खोल कर उसे अंदर बुला लिया. नीलेश जब तक वहां रहा, तब तक चोर निगाहों से कविता को ही निहारता रहा. बातबात में उस ने कविता से उस का वाट्सऐप नंबर ले लिया. इस के बाद उस ने कविता से वादा किया कि वह उसे रोज मैसेज भेजा करेगा.

इस के बाद नीलेश कविता को दिन में कईकई बार मैसेज भेजने लगा. कभीकभी वह फोन भी कर लेता था. कविता स्वभाव से चंचल तो थी ही, कभीकभी वह देवर से हंसीमजाक कर लेती थी. नीलेश तो जैसे भाभी से हंसीमजाक को अपना जन्मसिद्ध अधिकार मानता था. धीरेधीरे वह नीलेश के मजाक का जवाब भी मजाक में देने लगी.

इस से नीलेश को लगा कि कविता उस की ओर आकर्षित है. इसी बात को ध्यान में रख कर कुछ दिन बाद वह उसे वाट्सऐप पर अश्लील चुटकुले और फोटो भी भेजने लगा. पहले तो कविता ने इस का कोई जवाब नहीं दिया, लेकिन कुछ समय बाद वह भी ऐसे चुटकलों पर प्रतिक्रिया देने लगी. इसे लाइन क्लीयर मान कर नीलेश ने उसे अश्लील वीडियो भेजने शुरू कर दिए. साथ ही वह फोन पर मिलने की बात भी करने लगा.


बताते हैं कि कविता का गांव ज्यादा दूर नहीं था. 1-2 बार वह कविता से मिलने छत्री गांव भी पहुंच गया. लेकिन इस से पहले कि नीलेश की बात बन पाती, इस बात की बादल को खबर लग गई.

उस ने नीलेश से इस तरह की हरकतें बंद करने का कहा, लेकिन नीलेश कविता में ऐसा खो चुका था कि उसे कविता के सिवा कुछ और दिखता ही नहीं था. उस ने बादल की बात पर ध्यान नहीं दिया. वह पहले की तरह ही कविता को वाट्सऐप पर हर तरह के मैसेज, फोटो और वीडियो भेजता रहा.



इस बात को ले कर कई बार बादल और उस के बीच झगड़ा भी हुआ. इस के बावजूद नीलेश के सिर से कविता भाभी की चाहत का भूत नहीं उतरा तो बादल ने उस की हत्या करने की ठान ली.

इस के लिए योजना बना कर वह 10 अक्तूबर को अपने चचेरे भाई संदीप को ले कर रतलाम आया. रतलाम आ कर उस ने मौसेरे भाई जितेंद्र से झूठ बोल कर उस के कमरे की चाबी ले ली. फिर वह आईटीआई पहुंचा, जहां उस ने नीलेश से कविता के रतलाम आने की बात कही और उस से मिलने के लिए जितेंद्र के कमरे पर चलने को कहा.

कविता रतलाम आई है, बादल खुद उसे कविता से मिलवाने के लिए बुलाने आया है. यह सोच कर नीलेश के मन में लड्डू फूटने लगे. वह बिना सोचेसमझे क्लास छोड़ कर बादल के साथ अलकापुरी स्थित जितेंद्र के कमरे पर पहुंच गया.

वहां बादल कविता को मैसेज भेजने की बात को ले कर उस से विवाद करने लगा. नीलेश को भी तैश आ गया. उसे यह पता नहीं था कि बादल योजना बना कर आया है.

कुछ देर बाद बादल और संदीप ने उस के ऊपर बेसबाल के बल्ले से वार कर दिया. नीलश ने विरोध किया तो दोनों ने उस के हाथपैर बांध दिए. फिर दोनों ने उसे जी भर कर मारापीटा. बाद में बादल ने चाकू से उस का गला रेत दिया.


कुछ देर तड़पने के बाद नीलेश मर गया तो दोनों बाजार से बड़ा संदूक खरीद कर लाए और नीलेश की लाश बोरे में भरने के बाद दरी में लपेट कर संदूक में बंद कर दी.

इस के बाद वे फर्श पर गिरा खून साफ करने लगे. इसी दौरान जितेंद्र कोचिंग सेंटर से घर लौटने लगा तो उस ने बादल को फोन किया. इस से दोनों घबरा गए और दीवारों का खून साफ किए बिना मोटरसाइकिल पर नीलेश की लाश ले कर मांडू के लिए रवाना हो गए.

बादल की ससुराल मांडू के पास थी, वहां आतेजाते उस ने गहरी घाटियों को पहले से देख रखा था. रतलाम से 40 किलोमीटर दूर जा कर दोनों ने संदूक में बंद नीलेश की लाश आलमगीर दरवाजे के पास घाटी में फेंक दी.

इस के बाद दोनों अपने घर छत्री पहुंच गए, लेकिन तब तक पुलिस उन्हें पकड़ने के लिए घेरा डाल चुकी थी.

रतलाम के एसपी गौरव तिवारी और एएसपी प्रदीप शर्मा के निर्देशन और सीएसपी विवेक चौहान के नेतृत्व में थानाप्रभारी डीएसपी (प्रशिक्षु) मणिक मणि कुमावत की टीम में शामिल एसआई विजय सागरिया, प्रमोद राठौर अमित शर्मा आदि ने कुछ ही घंटों में दोनों आरोपियों को दबोच कर उन्हें सलाखों के पीछे पहुंचा दिया.

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे