Ek WhatsApp Group Ki Kahani एक व्हाट्सएप ग्रुप की कहानी - हिंदी शायरी एच सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Ek WhatsApp Group Ki Kahani एक व्हाट्सएप ग्रुप की कहानी - हिंदी शायरी एच


एक व्हाट्सएप ग्रुप की कहानी Ek WhatsApp Group Ki Kahani

एक व्हाट्सएप ग्रुप की कहानी Ek WhatsApp Group Ki Kahani - Hindi Shayari H
मोहन लाल मौर्य


 मैं एक ऐसे साहित्यिक व्हाट्सएप समूह का सदस्य हूं , जिसके सदस्यों की सदाशयता देखने लायक है । वे संसद के सदस्यों की तरह साहित्य पर चर्चा करते हैं । चर्चा के दौरान जो सदस्य विषय से हटकर चर्चा करता है , उसे ग्रुप के संविधान के के तहत एडमिन द्वारा बाहर निकाल दिया जाता है । 







उसके बाहर जाने के बाद अंदर वाला कोई भी माननीय सदस्य उसे फिर से वापस लाने के लिए ' प्रत्यावर्तन ' विधेयक ग्रुप में पेश कर देता है , तो संसद की तरह उस पर विचार - विमर्श होता है । पक्ष विपक्ष में उसके साहित्यिक योगदान पर बहस होती है । बहुमत प्राप्त होने के पश्चात विधेयक को राष्ट्रपति की तरह ग्रुपपति के पास भेजा जाता है । ग्रुपपति के अनुमति हस्ताक्षर होने के बाद उस माननीय सदस्य को ससम्मान ' ऐड पार्टिसपेंट ' अनुच्छेद के तहत वापस सम्मिलित कर लिया जाता है । हमारे ग्रुपपति महोदय ग्रुप की सभी गतिविधियों पर नजर रखते हैं , लेकिन अपने विचार विषम परिस्थितियों में ही रखते हैं , क्योंकि सामान्य परिस्थिति में वे विचार रखने की स्थिति में नहीं रहते हैं , साहित्य साधना में तल्लीन रहते हैं ।








 हर वर्ष उनकी एक  कृति विश्व पुस्तक मेले में विमोचन के लिए आ ही जाती है । ग्रुप के दो माननीय सदस्यों को ग्रुप के सभी सदस्यों की प्रकाशित रचनाओं को अलसुबह ही ग्रुप में डालने का गौरव प्राप्त है । ये दोनों सुबह उठते ही सबसे पहले अखबारों के ई पेपर देखते हैं । ग्रुप सदस्य की रचना दिखते ही क्रॉप करके सीधे ग्रुप में डाल देते हैं । साथ में बगैर पढ़े ही बधाई भी चेप देते हैं । 








इनकी बधाई के बाद बधाइयों का सिलसिला देर रात तक जारी रहता है । कई बार बधाइयों पर प्रतिबंध ' विधेयक पेश किया गया है और पूर्ण बहुमत से पास भी हुआ है , लेकिन दो - चार दिन बाद फिर से बधाइयों का सिलसिला पूर्व की भांति सुचारू रूप से प्रारंभ हो जाता है । इस संदर्भ में ग्रुप का संविधान लचीला है , जिसे कठोर बनाने के लिए एक कोर कमेटी गठित की गई है , लेकिन कमेटी की ओर से अभी तक कोई कमेंट नहीं आया है । ग्रुप में एकमात्र वरिष्ठ माननीय सदस्य हैं , जो प्रकाशित रचना पर अपनी आलोचनात्मक टिप्पणी के साथ ही अपने विचार रखते हैं , अन्यथा फिर वह रखते ही नहीं है । वह बधाई में विश्वास नहीं रखते हैं । ऐसा भी नहीं है कि वह बधाई विरोधी है , लेकिन वह रचना का आलोचनात्मक पोस्टमार्टम करना अपना धर्म समझते हैं । वह अपने धर्म के बहुत ही पक्के हैं । धर्म के प्रति सदैव सजग रहते हैं ।








 थोड़ी - सी भी आंच नहीं आने देते हैं । आ जाए तो डिबेट के लिए तैयार रहते हैं । हमारे ग्रुप में सम्मिलित होने बाद ऐरा - गैरा भी माननीय सदस्य की उपाधि से ही अलंकृत किया जाता है । इसलिए मुझे भी माननीय सदस्य कहकर ही संबोधित करना पड़ रहा है ।





 अन्यथा ' संबोधित ' अनुच्छेद के तहत मुझ पर कार्यवाही हो जाएगी । ग्रुप में तीन - चार माननीय वरिष्ठ सदस्य ऐसे भी हैं , जो सदैव कनिष्ठ सदस्यों की रचनाओं में खामियां निकालकर वाहवाही लूटने में रहते हैं । गिद्ध की तरह अशुद्ध शब्द पर नजर गड़ाए रखते हैं । दिखते ही पकड़कर रख देते हैं । चाहे शब्द टाइपिंग मिस्टेक की वजह से अशुद्ध हुआ हो , लेकिन ये लोग मानते हैं कि लेखक को शुद्ध शब्द लिखना नहीं आता है । दो माननीय सदस्य ऐसे हैं , जो कि घटिया से घटिया प्रकाशित लेख को भी प्रशंसा प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किए बगैर नहीं रहते हैं । इनकी दृष्टि में प्रकाशित होना भी अपने आप में बहुत बड़ी उपलब्धि है , चाहे उस अखबार का एक भी पाठक न हो । एक लेखक के लिए प्रकाशित होने का परम सुख ही काफी है ।






 इनके पास ग्रुप के सभी सदस्यों के प्रशंसा प्रमाण पत्र रखे हुए हैं । बस निकालकर देना ही रहता है । दोनों देने में सदैव अग्रणी रहते हैं । दोनों देते भी अलग - अलग हैं । कुछेक सदस्य ऐसे हैं , जो ग्रुप की हर गतिविधि देखते रहते हैं , लेकिन चुप रहते हैं , कभी भी कुछ भी साझा नहीं करते हैं । ऑनलाइन उपस्थित होने के बावजूद भी अपनी हाजिरी तक नहीं बोलते हैं । जब कभी एडमिन या किसी वरिष्ठ सदस्य द्वारा कार्रवाई की धमकी दी जाती है , तब इमोजी डालकर अपनी उपस्थिति प्रस्तुत कर देते हैं ।






 इस साहित्यिक ग्रुप में सात - आठ नवांकुर लेखक हैं , जिन्हें कुछेक वरिष्ठ तो सदैव सींचने में रहते हैं और कुछेक टांग पकड़कर खींचने में लगे रहते हैं । ज्यादातर हम नवांकुरों को देश के किसी भी प्रमुख अखबार में लहलहाते देखकर हतप्रभ रह जाते हैं । ग्रुप में दो एडमिन हैं । एक कनिष्ठ और दूसरे वरिष्ठ हैं । दोनों में से कोई भी बगैर बीन बजाए नहीं आता है । ये लोग आने के बाद सबको अपने ज्ञान का लिफाफा देकर ही जाते हैं । इनके लिफाफे को देखकर कई सदस्य तो कई दिनों तक संशय में पड़े रहते हैं ।






इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे