Hindi-Shayari-h-Sarkari-Naukri IBPS PO, Clerk, SO Result 2020: आईबीपीएस पीओ, क्लर्क और एसओ परीक्षा के नतीजे जारी, यह रहा - Hindi-shayari-h सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Hindi-Shayari-h-Sarkari-Naukri IBPS PO, Clerk, SO Result 2020: आईबीपीएस पीओ, क्लर्क और एसओ परीक्षा के नतीजे जारी, यह रहा - Hindi-shayari-h

आईबीपीएस पीओ, क्लर्क और एसओ परीक्षा के नतीजे जारी, यह रहा
Sarkari-Naukri IBPS PO, Clerk, 



Hindi-Shayari-h-Sarkari-Naukri IBPS PO, Clerk, SO Result 2020:  इंस्टीट्यूट ऑफ बैंकिंग पर्सनल  BPS PO, Clerk, SO Result 2020:  इंस्टीट्यूट ऑफ बैंकिंग IBPS PO Clerk SO Result 2020: IBPS PO SO exam results released ibps in here is the direct link, Career Hindi News



सेलेक्शन (आईबीपीएस) क्लर्क, प्रोबेश्नरी ऑफिसर, स्पेशलिस्ट ऑफिसर  CRP VIII के नतीजे जारी कर दिए है। जो उम्मीदवार इस परीक्षा में शामिल हुए थे वो इंस्टीट्यूट ऑफ बैंकिंग पर्सनल सेलेक्शन की आधिकारिक वेबसाइट ibps.in पर जाकर नतीजे चेक कर सकते हैं। 




इससे पहले 26 अप्रैल को आईबीपीएस ने अभ्यर्थियों को सूचना दी थी कि आईबीपीएस, पीओ, एसओ और क्लर्क सीआरपी CRP के रिजल्ट कोरोना वायरस महामारी के चलते स्थगित कर दिए गए हैं। आईबीपीएस क्लर्क प्रीलिम्स परीक्षा 7, 8, 14 और 21 दिसंबर को और आईबीपीएस क्लर्क मेन परीक्षा 18 जनवरी को आयोजित की गई थी। आईबीपीएस पीओ प्रीलिम्स परीक्षा 12, 13, 19 व 20 अक्टूबर को जबकि आईबीपीएस पीओ मेन परीक्षा 30 नवंबर, 2019 को आयोजित की गई थी। आईबीपीएस एसओ प्रीलिम्स परीक्षा 28 व 29 दिसंबर, 2019 को जबकि मेन परीक्षा 25 जनवरी, 2020 को आयोजित की गई थी।

इस लिंक पर क्लिक करके आप नतीजे चेक कर सकते हैं




ऐसे देखें अपने नतीजे

- आधिकारिक वेबसाइट ibps.in पर जाएं।

2- यहां होम पेज पर दिए गए लिंक IBPS PO, Clerk, SO Result 2020 पर क्लिक करें।

3- अब आपकी डिस्प्ले स्क्रीन पर एक नया पेज दिखाई देगा।

4- यहां लॉग इन संबंधित रजिस्ट्रेशन नंबर आदि की सूचनाएं भरें और सब्मिट करें।

5- आईबीपीएस पीओ रिजल्ट आपके सामने होगा। इसे आप डाउनलोड कर सकते हैं और भविष्य की जरूरत को देखते हुए प्रिंट आउट भी कर सकते हैं।




डाउनलोड करे ऍप और टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है। यहां क्लिक करके आप सब्सक्राइब कर सकते हैं।


 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे