Hindi short Story Sun Chhotu Bade Bhayya ki Kahani सुन छोटू . . . बड़े भैया की कहानी सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Hindi short Story Sun Chhotu Bade Bhayya ki Kahani सुन छोटू . . . बड़े भैया की कहानी


सुन छोटू . . . बड़े भैया की कहानी
Hindi short Story Sun Chhotu Bade Bhayya ki Kahani


जिंदगी हर रोज जाने कितनी कहानियां कहती है । इन कहानियों को बहत गौर से सनने की जरूरत है । क्या पता , इनमें से जीवन का कोई नया फलसफा निकल आए ।
सुन छोटू . . . बड़े भैया की कहानी
इंद्रजीत कौर


 "बेटा , एक समय की बात है । हजारों पेज की ऑनलाइन किताबें पढ़ता हुआ तुम्हारा भैया कभी स्कूल भी जाता था । जिस तरह आंखों की क्षमता से ज्यादा उससे काम करवाया जा रहा है , उसी तरह पीठ से । भारी ‘ स्कूल - बैग ' लदवाया जाता था । पीठ आधी झुकी रहती । 






। जितनी ज्यादा झुकी रहती , विद्यालय उतना ही अच्छा माना जाता था । सुबह पीले रंग की वैन आते ही तुम्हारा भैया तैयार होकर नीचे उतर जाता । वैन में हमें कोई सीट खाली नहीं दिखती थी पर ड्राइवर की नजर में पूरी वैन खाली रहती । वह भैया को गाड़ी के अंदर धंसाकर गेट सटाक से बंद कर देता था । हर चीज क्षमता से ज्यादा थी तो गाड़ी क्यों पीछे रहती ? सीट पर बैठे बच्चों के पैर भी सीट का ही काम करते । एक पैर , एक सीट । इस नियम के हिसाब से सीट पर बैठा हुआ एक बच्चा दो सीट के बराबर था ।





 भैया गाड़ी में बैठकर खुश रहता । उसने कभी शिकायत नहीं की । आज निक्कर - बानियान में झल्लों की तरह वह भले दिख रहा हो , स्कूल के दिनों में चार तरह की यूनिफार्म ( मोजे - जूते के साथ ) होती थी । नीली , लाल , हरी और सफेद । नीली वाली स्कूल की मेन यूनिफार्म थी और लाल वाली हाउस ड्रेस । खेत के ऊपर बने इस स्कूल में पर्यावरण दिवस हफ्तावार मनाया जाता था ।





 इस दिन हरी ड्रेस में विदेशी घास - पौधों की देखभाल करनी होती थी । समझ में नहीं आता था कि खेलते समय कपड़े जल्दी गंदे हो जाते हैं , दाग भी पड़ जाते हैं तो ' स्पोर्ट्स डे ' के लिए सफेद कपड़े ही क्यों ? खैर , मुझे मैनेजर द्वारा बताए । दकान से सफेद रंग की चार जोड़ी ड्रेस अलग से लेनी पड़ी थी । टाई बांधते समय खांसी आती थी , पर भैया इसे लटका कर ही जाता । शाम को इसे निकालता तो खुलकर सांस लेता । गले पर लाल दाग बन जाता , पर बच्चा स्मार्ट लगता । बिलकुल अंग्रेज | की तरह । पैरों का तो पूछो मत ।






 मोजे , जूतों में जकड़े ही रहते । हवा छू नहीं पाती थी । शाम को पैर बाहर निकलते तो चिपकी हुई उंगलियाँ धीरे से ऐसे अलग होती मानो कि सांस लेने के लिए जगह बना रही हो । हां , पैर साफ - सुथरे । रहते । धूल का कोई कण क्या , अणु - परमाणु भी पैर पर ' पर ' नहीं मार सकता था । तुम्हारा आठ वर्षीय भैया कभी - कभार बाहर भी खेलता था । घोड़े की टाप जैसे टप - टप करके नीचे उतरता था ।



 मन से दूर होते हुए भी आस - पड़ोस के बच्चों के साथ ' हाइड एंड सीक ' खेलता था । खेलता तो आज भी है । थोड़ा फर्क है । सभी ‘ हाइड ' हो गए हैं । वह बालकनी पर जाकर ' सीक ' करता है , फिर अंदर जाकर ' हाइड ' हो जाता है । जिस शुद्ध और ठहरी - सी हवा में तुम सांस ले रहे हो , पहले वह खुद सांस नहीं ले पाती थी । उसे पता ही नहीं था कि उसमें कौन सी गैसें मिल गई हैं और कौन सी गायब हैं । इस चक्कर में हवा को कभी कब्ज तो कभी गैस बनी रहती । तुम्हें बालकनी तक लाती हूं तो नीचे एक सड़क दिखती होगी । भाक बहुत सूनी - सूनी सी ।






 दरअसल , वहां कभी बहुत रौनक हुआ करती थी । भैया वहां चलता भी था । यह जो सभी के मुंह पर मास्क देख रहे हो न , पहले भी था । फर्क यह है कि इस वाले मास्क के पीछे थोड़ा चेहरा दिखता है , पहले वाले में पूरा छिप जाता था । चेहरे पर चेहरा लगा रहता था । पता ही नहीं चलता कि पीछे वाला चेहरा हरा है या लाल ।



 गुलाबी है या पीला । झक सफेद है या काले रंग से पुता हुआ । रंग मौकानुसार बदलता भी रहता , पर पता नहीं चलता था । दुकानों , शोरूम , मॉल आदि से पूरा बाजार टिमटिमाता रहता । तारों की तरह इन्हें गिनना मुश्किल था । गाड़ियां उल्काओं की तरह इधर उधर भागतीं । सभी ने आसमान सिर पर तो उठाया ही था , कदमों के नीचे भी पटक दिया था । हालांकि आसमान ने बहुत बार चेताया पर हमने चित्त धरा ही नहीं । अब वह सम्मान वापस लेने की सोच रहा है । देखो ! हमारे दिन कब बहुरतें हैं । " कुछ क्षण चुप रहकर मां ने गहरी सांस ली । उसका एक माह का बेटा गोद में सो गया था । बड़ा बेटा ऑनलाइन पढ़ाई के लिए खरीदे चार सौ पेज के रजिस्टर पर सिर रखकर सो गया था , जो उसने लॉकडाउन के कारण पड़ोस की दुकान को पिछवाड़े से खुलवाकर ली थी ।





इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे