लेखक का लॉकडाउन हिंदी कहानी - Hindi Shayarih सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

लेखक का लॉकडाउन हिंदी कहानी - Hindi Shayarih


जिंदगी में हंसी हो तो बहुत सी मुश्किलें आसान हो जाती हैं । मुस्कुराता हुआ चेहरा इंसान की जिंदादिली को दिखाता है । आप भी हंसी से परहेज न करें ।हिंदी कहानी लेखक का लॉकडाउन  Hindi Shayarih

लेखक का लॉकडाउन हिंदी कहानी


प्रेम जनमेजय
वे  वरिष्ठ लेखक हैं । साहित्य में वरिष्ठ लेखक विशेषाधिकार प्राप्त जीव होता है , जिसे अध्यक्षता का अधिकार मिलता है , पुरस्कार पाने की योग्यता में वृद्धि होती है , भक्तों को बांटने के लिए रेवड़ियां मिलती हैं , आदि । हिंदी में वरिष्ठ लेखक होने के अनेक मापदंड हैं ।



कुछ सफेद बालों के कारण होते हैं । कुछ बाल रंगने के बावजूद उम्र के कारण होते है । कुछ चेलों चेलियों की संख्या के आधार पर होते हैं । प्राप्त सम्मान / पुरस्कार बताते हैं कि वरिष्ठ होने के लिए लेखक ने कितने जुगाड़ - युद्ध किए । साहित्य में पुरस्कारिया मोती चुनने वाला हंस , घर में मुर्गी होता है साहित्य में चाहे वह हाई कमांड हो , पर घर में पार्टी का तुच्छ कार्यकर्ता होता है ।





दूध , साग - सब्जी लाने , बच्चों को स्कूल छोड़ने जाने जैसे अनेक महत्वपूर्ण दायित्व वयोवृद्धों के ही होते हैं । बाजार में सब्जी लेते समय वरिष्ठ लेखक को प्रणाम कर कनिष्ठ साश्चर्य पूछता है ' प्रणाम गुरुवर ! आप यहां ... लाइए , मैं थैला पकड़ लेता हूं । ' ऐसे में वरिष्ठ केवल हैं ... हैं ... कर हिनहिनाता है । आजकल वरिष्ठ लेखक उदास है । कोरोना युग ने उसका लॉकडाउन कर दिया है । वैसे तो साहित्य के हर युग में  लॉकडाउन का खेल चलता रहा है ! एक - दूसरे को डाउन करने के लिए अनेक वायरस अपनी लैब से छोड़े जाते हैं ।





साहित्य में लॉक लगाने वालों की कमी कहां है ! किसी के पास पुरस्कार न मिलने देने का ताला है , किसी के पास किताब को तुच्छ सिद्ध करने का , तो किसी के पास किताब न छपने देने का । वरिष्ठ लेखक को अमुक अखबार से , अमुक पत्रकार महोदय का फोन आया । लेखक महोदय पेट की कब्जियत मिटाने के लिए दो गिलास पानी पी चुके थे और तीसरा पीने की तैयारी में थे । तीसरे गिलास का एक बूंट अंदर गया ही था कि पानी गुल खिलने की सूचना देने लगा । तीसरा गिलास पानी का हो या फिर रसरंजनी का , गुल खिलाता ही है ।




-आप अमुक जी बोल रहे हैं ? -जी हां .... -अमुक अखबार से अमुक बोल रहा हूं ... एक परिचर्चा कर रहे हैं कि लॉकडाउन के समय में मशहूर लेखक क्या कर रहे हैं । आप मशहूर लेखक हैं , बताएं कि आप इस समय क्या कर रहे हैं ? -इस समय तो मैं नित्यकर्म की तैयारी कर रहा हूं । -नित्यकर्म ! -टॉयलेट ... टॉयलेट जाने की तैयारी कर रहा हूं ।



पत्रकार का दुर्गंध पीड़ित स्वर बोला- अच्छा ... आप निबटें ... पांच मिनट बाद करता हूं । ' उत्तर की प्रतीक्षा किए बिना पत्रकार ने फोन बंद कर दिया । पत्रकार को दूसरा मशहूर लेखक निबटाना था ।



वरिष्ठ लेखक ने गाली बड़बड़ाई- ' कितनी जल्दबाजी है युवा पीढ़ी में ... शालीनता तो बची नहीं है , वरिष्ठ लेखक का कोई सम्मान नहीं ... यदि मना किया तो कुछ अनुनय - विनय करो ... यह.  क्या कि फोन बंद कर दिया ... पत्रकारिता जल्दी रसाताल में जाने वाली है । उनकी कब्जियत रसातल में चली गई थी । पानी के तीन गिलास किसी पुरस्कार विहीन वरिष्ठ लेखक से निष्प्रभावी हो गए थे । गालिब ने कहा था- पहले आती थी हाले दिल पर हंसी और अब किसी बात पे नहीं आती । आज वरिष्ठ लेखक का हाल यह है- पानी देव की कृपा से जो आती थी ... अब कोई उम्मीद भर नहीं आती , कोई सूरत नजर नहीं आती ।






' लॉकडाउन के कारण साहित्य बंदी झेल रहा था । गोष्ठी बंद , पुरस्कार समारोह बंद , मुफ्त की विदेश यात्राएं बंद , कवयित्रियों के स्पर्श बंद तथा और कई आदि भी बंद थे । सम्मानजनक शॉल से संपन्न अलमारी किसी विरहिणी - सी बाट जोह रही थी । जमीनी लेखक के लिए जनता से जुड़ने का का सुअवसर था । बड़ी चुनौती ने जन्म ले लिया- पांच मिनट बाद पत्रकार के सामने अपने महिमागान के लिए शब्द पिरोने की चुनौती । लॉकडाउन के रचनाकर्म को तुच्छ और अपने रचनाकर्म को महान सिद्ध करने की चुनौती ।






बड़ी चुनौती के सामने छोटी चुनौती अक्सर मात खाती है । कोरोना काल बड़ी चुनौती का समय है , उसके समक्ष मजदूरों के पांव के छाले जैसी छोटी चुनौतियां मात खा गई हैं । लेखक में शब्दों का वायरस जन्म ले रहा था । कोरोना वायरस ने मनुष्य की जिंदगी को उतना दूभर नहीं किया है , जितना फोन वायरस ने । मोबइल देवता की कृपा से लॉकडाउन में लेखक प्रसन्न है । फेसबुक , व्हाट्सएप , यू - ट्यूब पर गोष्ठियों का वायरस फैला है । लेखन की कब्जियत दूर हो गई है । रचनाओं के दस्त हो रहे हैं । हे कोरोना ! तुम जाना पर हिंदी साहित्य को समृद्ध करने , फिर आना ।



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे