Netflix Betaal Official Trailer Review: भूत प्रेतों और जिन्नात की धरती पर शाहरुख लेकर आए जॉम्बीज, बेताल के बदले मायने सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Netflix Betaal Official Trailer Review: भूत प्रेतों और जिन्नात की धरती पर शाहरुख लेकर आए जॉम्बीज, बेताल के बदले मायने


Netflix Betaal Official Trailer Review | Pankaj Shukla Vineet Kumar Aahana Kumra Suchitra Pillai Shahrukh Khan
Netflix Betaal Official Trailer Review | Pankaj Shukla Vineet Kumar Aahana Kumra Suchitra Pillai Shahrukh Khan




Trailer Review: बेताल
कलाकार: विनीत कुमार, आहना कुमरा, जितेंद्र जोशी, सुचित्रा पिल्लई आदि।
निर्देशक: पैट्रिक ग्राहम, निखिल महाजन
ओटीटी: नेटफ्लिक्स
रेटिंग: **

Netflix Betaal Official Trailer Review शाहरुख खान के लिए ये संकट काल चल रहा है। नेटफ्लिक्स ने उनको बार्ड ऑफ ब्लड बनाने को दिया। शाहरुख की टीम ने वहां लोचा कर दिया। अब बारी बेताल की है। विक्रम बेताल वाले राजा विक्रम सिंह के नौ रत्नों में शामिल रहा बेताल यहां खुद शाहरुख खान की ट्वीट के हिसाब से डेमन है। राक्षस है। यहां तक तो ठीक है लेकिन ट्रेलर में ये जॉम्बी है। बेताल और जॉम्बी में फर्क समझने के लिए रेड चिलीज के सीईओ गौरव वर्मा को कश्मीर के सोमदेव भट्टराव की लिखी कथा सरित्सागर पढ़नी चाहिए। इसी सागर में गोता लगाती मिलती हैं बेताल पचीसी की वे कहानियां, जिनमें बेताल के शक्ति, सामर्थ्य और श्राप का पता चलता है।

 





शाहरुख का बेताल उधार का है। नेटफ्लिक्स इतना बड़ा प्लेटफॉर्म है फिल्मों और वेब सीरीज का कि इसके रिंग में उतर कोई विदेशी दांव से देसी दर्शकों को लुभा नहीं सकता। जिन्नात और भूत प्रेतों वाली धरती पर घोस्ट तक रामसे बंधुओं ने देसी बना लिए थे। और, यहां एक सीरीज 2020 के छत्तीसगढ़ में हॉरर क्रिएट करने के लिए आमिर खान की लगान के दिनों की कहानी ले आई है। कमाल है।

 



शाहरुख खान की ब्रांडिंग पर बार्ड ऑफ ब्लड और बेताल का ट्रेलर कितना असर डाल सकते हैं, उनको शायद अंदाजा हो न हो पर नेटफ्लिक्स की टीम को हो चुका है। नेटफ्लिक्स भी चाहने लगा है कि बेताल के बारे में जब भी लिखा जाए तो सिर्फ शाहरुख खान के नाम का ही गाना न बजे। नेटफ्लिक्स की टीम चाहती है कि इसमें उन दो प्रोडक्शन हाउस का नाम भी डाला जाए जिन्होंने असल में ये सीरीज बनाई है।

 




नेटफ्लिक्स ने ट्रेलर में डाला भी है फ्रॉम द मेकर्स ऑफ गूल, गेट आउट, बार्ड ऑफ ब्लड। अरबी में गूल का मतलब होता है एक ऐसा साया जो कब्रों से लाशें निकाल कर खाता है। बेताल में यही गूल लौट आया है अंग्रेज अफसर की शक्ल में। ट्रेलर की शुरूआत होती है एक स्थानीय कबीले में चल रही पूजा से जिसमें पुजारी बता रहा है कि बाहरी लोग हमसे हमारे पहाड़ छीनने आ रहे हैं। फिर शव हैं। श्राप है। साया है और हैं जिंदा लोगों से लड़ने के लिए लौटती लाशें।





हिंदी सिनेमा में वीभत्स रस का ठेका बरसों तक रामसे ब्रदर्स के पास रहा है। श्रृंगार रस के रसिया शाहरुख खान ये सब क्यों बना रहे हैं, वह ही जानें। आम हिंदी दर्शक तो शाहरुख का नाम सुनते ही बहुत खराब इंसान कुछ सोच सकता है तो डर, बाजीगर या अंजाम तक जा सकता है। ये जिंदा लाशें, रामसे के लिए ही ठीक हैं। शाहरुख तो ऐसे नहीं थे। ट्रेलर गुड से एक प्वाइंट कम है लेकिन शाहरुख के डॉयलॉग के हिसाब से वेब सीरीज अभी बाकी है। अगर सीरीज ट्रेलर से बेहतर न हुई तो रेड चिलीज की ब्रांडिंग के लिए ये खतरे की घंटी साबित होगी।

 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Famous Love Shayari Of These Five Noted Urdu Poet होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते

  Bashir badr shayari  बशीर बद्र की नज़्मों में मोहब्बत का दर्द समाया हुआ है। उनकी शायरी का एक-एक लफ़्ज़ इसका गवाह है। Bashir badr shayari     होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते साहिल पे समुंदर के ख़ज़ाने नहीं आते पलकें भी चमक उठती हैं सोते में हमारी आंखों को अभी ख़्वाब छुपाने नहीं आते दिल उजड़ी हुई इक सराये की तरह है अब लोग यहाँ रात जगाने नहीं आते उड़ने दो परिंदों को अभी शोख़ हवा में फिर लौट के बचपन के ज़माने नहीं आते इस शहर के बादल तेरी ज़ुल्फ़ों की तरह हैं ये आग लगाते हैं बुझाने नहीं आते अहबाब भी ग़ैरों की अदा सीख गये हैं आते हैं मगर दिल को दुखाने नहीं आते मोहब्बत के शायर हैं जिगर मुरादाबादी इक लफ़्ज़-ए-मुहब्बत का अदना सा फ़साना है सिमटे तो दिल-ए-आशिक़, फ़ैले तो ज़माना है हम इश्क़ के मारों का इतना ही फ़साना है रोने को नहीं कोई हंसने को ज़माना है ये इश्क़ नहीं आसां, बस इतना समझ लीजे एक आग का दरिया है और डूब के जाना है     जिगर मुरादाबादी शायरी     वो हुस्न-ओ-जमाल उन का, ये इश्क़-ओ-शबाब अपना जीने की तमन्ना है, मरने का ज़माना है अश्क़ों के तबस्सुम में, आहों के तरन्नुम में मासूम मुहब्ब