घटाओं पर शायरी - Ghata Shayari Collection In Hindi सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

घटाओं पर शायरी - Ghata Shayari Collection In Hindi

घटाओं पर शायरी - Ghataa Shayari Collection In Hindi
Ghataa Shayari



Ghata Shayari Collection In Hindi  घटाओं पर शायरी 'घटाओं' पर कहे शायरों के अल्फ़ाज़   अब कौन घटाओं को, घुमड़ने से रोक पायेगा। ज़ुल्फ़ जो खुल गयी तेरी, लगता है सावन आयेगा।। Ab Kaun Ghatao Ko Ghumadane Se Rok Payega
Best हवाओं Quotes, Status, Shayari, Poetry & Thoughts on India's fastest growing writing app | YourQuote. ... उन हवाओं, और तूफानों से, क्या डरना,घटाओं पर शायरी जो जिंदगी के, जोर पर हैं। एक दिन तो, मरना ही है, फिर..... क्यों डरे हम, इस शोर से। घटा पर शायरी




'घटाओं' पर कहे शायरो,

मेरी दुनिया में समुंदर का कहीं नाम नहीं
फिर घटा फेंकती है मुझ पे ये पत्थर कैसे
- अशहर हाशमी


क्यूं न टूटे मिरी तौबा जो कहे तू साक़ी
पी ले पी ले अरे घनघोर घटा छाई है
- रियाज़ ख़ैराबादी




घटाओं पर शायरी,

क्या मुसीबत है कि जिस दिन से छुटी मय-नोशी
दिल जलाने के लिए रोज़ घटा आती है
- जलील मानिकपूरी


कब से टहल रहे हैं गरेबान खोल कर
ख़ाली घटा को क्या करें बरसात भी तो हो
- आदिल मंसूरी


Ghataa Shayari Collection,

 
क्या ख़बर कब बरस के टूट पड़े
हर तरफ़ ऐसी है घटा छाई
- इंद्र सराज़ी


लिपट जाते हैं वो बिजली के डर से
इलाही ये घटा दो दिन तो बरसे
- दाग़ देहलवी


Hindi Ghataa Shayari,

उसी के शेर सभी और उसी के अफ़्साने
उसी की प्यास का बादल घटा में आया है
- विशाल खुल्लर


किस ने भीगे हुए बालों से ये झटका पानी
झूम के आई घटा टूट के बरसा पानी
- आरज़ू लखनवी



Ghataa Shayari Collection,

धूप में निकलो घटाओं में नहा कर देखो
ज़िंदगी क्या है किताबों को हटा कर देखो
- निदा फ़ाज़ली


जो घटा छा के न बरसे वो घटा क्या है घटा
हाँ अगर टूट के बरसे तो घटा कहते हैं
- कौसर सीवानी

 

तपिश से बच कर घटाओं में बैठ जाते हैं।
गए हुए की सदाओं में बैठ जाते हैं।।

 
एक दिल है कि जो प्यासा है समंदर की तरह।
दो निगाहें जो घटाओं के सिवा कुछ भी नहीं।।

  काली घटा पर शायरी  

 
तुम्हारे चेहरे को कमल कहू तो गुस्ताखी होगी
तुम्हारी जुल्फों को घटा कहू तो रुसवाई होगी।

तूम तो समंदर है मोह्हबत का
कोई तुम्हें दरिया कहे तो ना इंसानी होगी।।

 
तेरे नैनों ने काली घटा का काजल लगाया,
फ़िज़ाओं का मौसम जाने पर।

बहारों का मौसम आया, गुलाब से गुलाब का रंग,
जवानी जो तुम पर चढ़ी तो नशा मेरी आँखों में आया।।







तेरे रूखसार पर बिखरी जुल्फों की घटा।
मैं क्या कहूँ ऐ चाँद, हाय! तेरी हर अदा।।

 घटाओं शायरी 

 
या दिले दीवाना रुत जागी वस्ले यार की।
झुकी हुई ज़ुल्फ़ में छाई है घटा प्यार की।।

 
ज़ुल्फ़ घटा बन कर रह जाए आँख कँवल हो जाए शायद।
उन को पल भर सोचे और ग़ज़ल हो जाए।।
क़ैसर उल जाफ़री

 
ये आँखे, ये जुल्फे ,ये हौठ ,ये अदा , ये नजर ,ये काली घटा।
लगता है "सावन "आने वाला है, मोहब्बत  बरसा देना तुम।।

  Ghataa Shayari 

 
तुझको देखेंगे सितारे तो दुआ मांगेंगे
और प्यासे तेरी जुल्फों से घटा मांगेंगे।

अपने कांधे से दुपट्टा ना सरकने देना
वर्ना बूढ़े भी जवानी की दुआ मांगेंगे।।

 
अब कौन घटाओं  को, घुमड़ने से रोक पायेगा।
 ज़ुल्फ़ जो खुल गयी तेरी, लगता है सावन आयेगा।।

 

 
तुम्हारी लहराती ज़ुल्फ़ों ने,
सर्जिकल स्ट्राइक कर मन को घायल कर दिया।

गोरे रंग में काली घटाओं ने दर्दे ज़िगर को,
हमेशा के लिए तेरा क़ायल कर दिया।।

 
गुलाब से गुलाब का रंग
तेरे गालों पे आया।

तेरे नैनों ने काली घटा का
काजल लगाया।

जवानी जो तुम पर चढ़ी तो
नशा मेरी आँखों में आया।।

 
बरसता, भीगता मौसम है कमज़ोरी मेरी लेकिन।
मैं ये रिमझिम, घटा, बादल तुम्हारे नाम करता हूँ।।

 
जब दिल पे छा रही हों घटाएँ मलाल की।
उस वक़्त अपने दिल की तरफ़ मुस्कुरा के देख।।

  घटा शायरी 

 
तेरा उलझा हुआ दामन मेरी अंजुमन तो नहीं
जो मेरे दिल मे है शायद तेरी धड़कन तो नहीं।

यूँ ही अचानक मुझे बरसात की याद क्यूँ आई
जो घटा है तेरी आँखों मे वो सावन तो नहीं।।

 
मोहब्बत का है दरिया तू,मैं तेरी रवानी हूँ।
घटा घनघोर है तू तो मै तेरा ही पानी हूँ।।

कैसे लोग जीते हैं, नफरत मे तेरे होते।
मेरा तू दीवाना है, तेरी मैं दिवानी हूँ।।

  Ghata Shayari 

 
जुल्फ देखी है या नजरों ने घटा देखी है
लुट गया जिसने भी तेरी अदा देखी है।

अपने चेहरे को अब हमसे न छिपाना
मुद्दतों बाद इस मरीज ने दवा देखी है।।







जब भी चाँद पर काली घटा छा जाती है,
चाँदनी भी यह देख फिर शर्मा जाती है।

लाख छिपाएं हम दुनिया से यह मगर,
जब भी होते हैं अकेले तेरी याद आ जाती है।।


  घटा  शायरी 2 लाइन - Ghata Status  काली घटा पर शायरी

 
तुझे देखेंगे सितारे तो ज़िया मांगेंगे।
प्यासे तेरी जुल्फों से घटा मांगेंगे।।

 
सूरज का यूँ अफ़क़ पे गुरूब हो जाना तो कुछ तय सा था।
पर फिर ये तेरी जुल्फों की काली घटाएं क़यामत ले आई।।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Famous Love Shayari Of These Five Noted Urdu Poet होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते

  Bashir badr shayari  बशीर बद्र की नज़्मों में मोहब्बत का दर्द समाया हुआ है। उनकी शायरी का एक-एक लफ़्ज़ इसका गवाह है। Bashir badr shayari     होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते साहिल पे समुंदर के ख़ज़ाने नहीं आते पलकें भी चमक उठती हैं सोते में हमारी आंखों को अभी ख़्वाब छुपाने नहीं आते दिल उजड़ी हुई इक सराये की तरह है अब लोग यहाँ रात जगाने नहीं आते उड़ने दो परिंदों को अभी शोख़ हवा में फिर लौट के बचपन के ज़माने नहीं आते इस शहर के बादल तेरी ज़ुल्फ़ों की तरह हैं ये आग लगाते हैं बुझाने नहीं आते अहबाब भी ग़ैरों की अदा सीख गये हैं आते हैं मगर दिल को दुखाने नहीं आते मोहब्बत के शायर हैं जिगर मुरादाबादी इक लफ़्ज़-ए-मुहब्बत का अदना सा फ़साना है सिमटे तो दिल-ए-आशिक़, फ़ैले तो ज़माना है हम इश्क़ के मारों का इतना ही फ़साना है रोने को नहीं कोई हंसने को ज़माना है ये इश्क़ नहीं आसां, बस इतना समझ लीजे एक आग का दरिया है और डूब के जाना है     जिगर मुरादाबादी शायरी     वो हुस्न-ओ-जमाल उन का, ये इश्क़-ओ-शबाब अपना जीने की तमन्ना है, मरने का ज़माना है अश्क़ों के तबस्सुम में, आहों के तरन्नुम में मासूम मुहब्ब