हिंदी कहानी रसों का सिरमौर बना करुण रस - Hindi Shayarih सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हिंदी कहानी रसों का सिरमौर बना करुण रस - Hindi Shayarih


हंसी का कोई मौसम नहीं होता । कोई खास पैमाना नहीं होता । आप भी अगर खुश रहना चाहते हैं , तो अपने परिवार और दोस्तों के साथ हंसते - खिलखिलाते रहिए । हिंदी कहानी रसों का सिरमौर बना करुण रस


हिंदी कहानी रसों का सिरमौर बना करुण रस - Hindi Shayarih

विजय जोशी शीतांशु

 कोरोना की वैश्विक आपदा ने चराचर जगत में सारी व्यवस्था को भंग कर दिया है । अचर जगत की स्थिति भी गड़बड़ा गई हैं । नियम - सिद्धांत , सभी के स्वरूप व मायने बदल रहे हैं । इन दिनों जहां सभी व्यवस्थाएं और कार्यशालाएं बंद हो गई हैं , वहीं साहित्यकारों की कार्यशाला और ऑनलाइन कवि सम्मेलनों की धूम मची हुई है । जैसे फलों का राजा आम है और इन दिनों आम रस की धूम मची हुई है , उसी प्रकार साहित्य रस में श्रृंगार रस को श्रेष्ठ माना गया है ।



 बिहारी , पद्माकर , केशवदास से लेकर चिंतामणि तक ने शृंगार रस को रसों में सर्वोपरि रखा है । लेकिन आज बाग - बगीचों में सुबह - शाम बेंचों पर , झाड़ियों के पीछे छुपकर टपकने वाला शृंगार रस हवा हो गया है । उसकी जगह करुण रस ने ले ली है । दो माह से लगातार पसीना बहाते पैदल यात्रियों पर कवियों का करुण रस फूट पड़ा है । आज जयशंकर प्रसाद , मैथिलीशरण गुप्त जी की परंपरा के अनुयायी कवि भी करुणा के सागर में डूब कर ऑनलाइन कवि सम्मेलन कर रहे हैं ।






 एक आयोजन में काव्य का लाखों में सौदा करने वाले कवि भी यू - ट्यूब या फेसबुक पर मुफ्त में करुणा भाव बांट रहे हैं । सांत्वना के साथ वाहवाही बटोर रहे हैं । अखबारों की हेडलाइनों में करुण रस का परचम लहरा रहे हैं । संपादकीय लेखों , साहित्यिक स्तंभों और अभिव्यक्ति के कालमों पर करुण रस का कब्जा हो गया । अखिल भारतीय कवि सम्मेलनों के दिन तो लद गए , जहां वीर रस और हास्य रस मंचों से खूब मुखरित होता था । जनता झूमकर आनंद लेती थी ।







 आज वही जनता घरों में और अखिल भारतीय कवि सम्मेलन चाइना निर्मित जूम एप पर आ गए हैं । वीर रस और हास्य रस के पुरोधाओं के अंग - अंग में करुण रस की आत्मा प्रवेश कर गई है । लॉकडाउन एक से चार तक करुण रस के कई ग्रंथों का बीजारोपण हो गया । कई प्रकाशकों और संस्थाओं ने अपने इश्तेहार देने भी शुरू कर दिए हैं । करुण रस का ग्रंथ कोरोना काल में छपे और हम अछूते रह गए , तो बड़ी किरकिरी होगी । लोग हमें भूल जाएंगे । अब यह बीमारी आगे जाने कितनी सदियों बाद आए ? वात्सल्य रस का कोना - कोना झांकने वाले सूरदास जी की वाणी पर भी करुण रस सिरमौर हो चला है । किड्स प्ले स्कूल जो बंद हो गए




आज करुण रस के नवोदित कवि - लेखक , गांव , गली , मोहल्ले तक में झांकते हुए तुकबंदी कर रहे हैं । एक ने लिखा- ' मोहल्ले में एक शिशु को लॉकडाउन में एक आदमी ने वात्सल्य भाव से गाल पर हाथ लगा



दिया तो , शिशु पालक का पारा चौथे आसमान पर चढ़ आया । करुण रस के सहयोगी माने जाने वाले रौद्र , वीभत्स व अद्भुत रस शिशुपालक के चेहरे पर उभर आए । वात्सल्य रस बिखेर रहे आदमी के मन में भयानक रस ने घर कर लिया । वह आदमी रौद्र रस के भय से स्वयं कई दिनों के लिए क्वारंटीन हो गया । ' करुण रस , यहां वात्सल्य रस पर भारी हो गया ।






 आज गांव , शहर , मंदिर , नदी , सरोवर , पनघट और शॉपिंगमाल से सुंदरियां अदृश्य हो गई हैं । शृंगार रस मास्क में मुंह छुपाए बैठा है । शांत रस पुलिस के डंडे से डरकर घरों में बंद हो गया है । वीर रस का हस्तांतरण मंचीय कवि के मुख से पुलिस के हाथों में चला गया है । चहुंओर मौत का तांडव मचाती महामारी से हास्य रस की भी हंसी गुम हो गई है । यानी करुण रस ही रसराज बनकर अपने मंत्री द्वय , भयानक रस व वीभत्स रस के साथ संपूर्ण जगत में छाया हुआ है । कवियों के मन में उद्दीपन करने वाले दृश्य , देश में यत्र - तत्र सड़कों पर , पुलिया के नीचे , रेलवे स्टेशनों और वीरान धर्मशालाओं में मिल जाएंगे । साहित्य मनीषियों के अंतःकरण में ये सारे ' विभाव ' भी इन दिनों तैंतीस संचारी भावों में से केवल निर्वेद , ग्लानि , चिंता , दीनता और करुणा ही प्रकट कर रहे हैं । 





 यहां तक की सम्मान पत्रों पर भी करुण रस ने पांव जमा लिए हैं । जैसे कि ' मान्यवर अमुख चंद जी , आपकी मार्मिक और करुण रचना ने ऑनलाइन सहभगिता के फलस्वरूप मंच को करुणामय कर दिया । संस्था आपको ' कोरोना योद्धा करुणा सम्मान ' से सम्मानित करती है । फिलहाल जहां तक संभव हो , आप घर में रहें । सुरक्षित रहें ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे