हंसी मजाक के चुटकुले हिंदी में लिखे हुए Hsi Mjak Comedy Jokes in Hindi सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हंसी मजाक के चुटकुले हिंदी में लिखे हुए Hsi Mjak Comedy Jokes in Hindi

 
हंसी मजाक के चुटकुले हिंदी में लिखे हुए
Hsi Mjak Comedy Jokes in Hindi  



हंसी मजाक कॉमेडी स्टेटस, Hsi Mjak Comedy Jokes in Hindi मजाकी जोक, होली के मजाक, Hsi mjak मजाक सवाल, हंसी मजाक के चुटकुले हिंदी में लिखे हुए, हंसी मजाक कॉमेडी वीडियो डाउनलोड,




किसी ने मुझसे पूछा-
आपके दिल के सबसे करीब कौन है?
.
.
मैंने भी कह दिया...
.
फेफड़ा...!!!


 



पत्नी - तुम तो कहते थे कि
तुम शादी के बाद भी मुझसे ऐसे ही प्यार करोगे..!
.
.
.
पति - मुझे ये कहां पता था कि
तुम्हारी शादी मुझसे ही हो जाएगी...!!!

 





अरेंज मैरिज के भी अपने फायदे हैं...
.
कभी-कभी ऐसी लड़की से भी
शादी हो जाती है...
.
जिससे लड़का खुद सात जन्म तक भी
सेटिंग नहीं कर सकता...!!!

 





खुद की तारीफ करवाने के लिए लड़कियों का...
.
रामबाण तरीका...
.
.
मैं बहुत बुरी हूं न...!!!
 






जब कोई सुबह-सुबह आवाज लगाने से भी न उठे तो...
.
.
उसको उठाने का एक नया तरीका लाया गया है...
.
उसके कान में जाकर धीरे से कह दो...
.
तेरे पापा तेरा मोबाइल चेक कर रहे हैं...!!!

 







वो मेरा लव लेटर पढ़कर रो पड़ी...
.
और...
.
मेरे पास आकर बोली...
.
राइटिंग सुधार कमीने...
कितनी गंदी राइटिंग है...!!!

 







पति - क्या तुम मेरी सैलरी में गुजारा कर लोगी?
.
.
.
पत्नी - मैं तो कर लूंगी... पर तुम्हारा क्या होगा...!!!

 






माता-पिता के बाद सबसे ज्यादा
आगे बढ़ने की प्रेरणा कौन देता है...
.
.
बस कंडक्टर...
.
चलिए...चलिए... आगे बढ़िए... आगे बढ़िए...
आगे बढ़ते रहिए...!!!

 









निगाहें आज भी उस शख्स को
शिद्दत से तलाश कर रही हैं...
.
जिसने कहा था...
.
बस दसवीं कर लो...
आगे पढ़ाई आसान है...!!!


 










हंसी मजाक कॉमेडी स्टेटस, मजाकी जोक, होली के मजाक, Hsi mjak मजाक सवाल, हंसी मजाक के चुटकुले हिंदी में लिखे हुए, हंसी मजाक कॉमेडी वीडियो डाउनलोड, हंसी मजाक स्टेटस, मजाकी चुटकुले, majak tak, hasi majak chutkule hindi, majak majak, hasi majak whatsapp video, hasi majak cartoon, hasi majak chutkule download, majak joke, majak in english,

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे