कुछ शायरों की हिंदी शायरी 'बदल' पर - HINDI SHAYARIH सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कुछ शायरों की हिंदी शायरी 'बदल' पर - HINDI SHAYARIH

कुछ शायरों की हिंदी शायरी 'बदल' पर

जिस तरह से ग्रीष्म ऋतु में बदल और बारिश आने पर आप अच्छा महसूस करते है उसी प्रकार यह बदल पर शायरी पढ़ कर भी आपको अच्छा महसूस होगा

 
 
अपना बादल तलाशने के लिए
उमर भर धूप में नहाए हम
- नवनीत शर्मा


दीवार ओ दर झुलसते रहे तेज़ धूप में
बादल तमाम शहर से बाहर बरस गया
- इफ़्तिख़ार नसीम

दूर तक फैला हुआ पानी ही पानी हर तरफ़
अब के बादल ने बहुत की मेहरबानी हर तरफ़
- शबाब ललित


तेरा घर और मेरा जंगल भीगता है साथ साथ
ऐसी बरसातें कि बादल भीगता है साथ साथ
- परवीन शाकिर

बरसात का बादल तो दीवाना है क्या जाने
किस राह से बचना है किस छत को भिगोना है
- निदा फ़ाज़ली


कोई दीवाना कहता है कोई पागल समझता है
मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है
- कुमार विश्वास

पीने से कर चुका था मैं तौबा मगर 'जलील'
बादल का रंग देख के नीयत बदल गई
- जलील मानिकपूरी


ले गईं दूर बहुत दूर हवाएँ जिस को
वही बादल था मिरी प्यास बुझाने वाला
- इक़बाल अशहर

दूर तक छाए थे बादल और कहीं साया न था
इस तरह बरसात का मौसम कभी आया न था
- क़तील शिफ़ाई


बे-बरसे गुज़र जाते हैं उमड़े हुए बादल
जैसे उन्हें मेरा ही पता याद नहीं है
- वहीद अख़्तर




जिस ने बख्शे मेरी आँखों को ये बादल आँसू
उस के दिल पर मेरी आहों की सदा भी गुजरे              
इफ़्तिखार इमाम सिद्दीकी

 

रहेगी प्यासी ये धरती मिरे खुदा कब तक
रुते गुजर गई बादल इधर नही आया                               
शफ़ीक आजमी

 

एक शख्स ने मेह बरसाया बादल बादल बातों में
जला भुना तो अफ़वाहों से आग लगाने वाला था                    
दीपक कमर

 

जिस दिन उसकी जुल्फ़ें उसके शानों पर खुल जाएंगी
उस दिन शर्म पानी-पानी खुद बादल हो जाएगा                       
ताहिर फ़राज

 

गुनगुनाती हुई आती हैं फ़ल्क से बूँदें
कोई बदली तेरी पाजेब से टकराई है                                          
कतील शिफ़ाई

 

कुछ हाथों की महँदी छुटी कुछ आँखों के काजल बरसे
फ़ूल पात सब जोगी हो गए बिन मौसम जब बादल बरसे                
बेकल उत्साही

 

यह बस्ती है हसीनों की यहां से
किसी आवारा बादल सा गुजरा जा                                               
राजिन्द्र नाथ रहबर

 

इस बादल को उड़ जाने दो
धूप दरख्तों तक आने दो                                                               
रवि कुमार

 

सुना है शहर में बादल बहुत बरसता है
मेरा वजूद तो इक बूँद को तरसता है                                           
नसीम निकहत 

 

धूप से झलसे चेहरे ज्जबाती हो जाते हैं
साया करता है जब बादल तपते रेगिस्तानों पर                            
वारिस रफ़ी

 

कहो बादलों से ठहरें यहाँ वो
शराबी बना देते हैं इन के साए                                                   
दीवाना रोहतगी

 

जलते हुए बादल के साए के तआकुब’ में
ये तिश्नालबी मुझको सहराओं में ले आई                                     
मुजफ़्फ़र रज्मी

 

धुए के बादलों में छुप गए उजले मकाँ सारे
ये चाहा था कि मन्जर शहर का बदला हुआ देखें                                
शहरयार

 

लो फ़िर उड़ा के ले गई बादल को हवाएं
हम ने तो अभी होट भिगोए भी नही थे                                             
वाली आसी

 

दिल की तिश्ना प कोई अजनबी बादलों की तरह आ के छाता रहा
मैं महब्बत की बरसात का मुन्तजिर यूँ हवाओं के धोखे में आता रहा        
जावेद राही

 

क्या इसलिए बारिश की मांगी थी दुअ वाजद
बादल से ज्यादा अब घर मेरा बरसता है                                               
वाजद सहरी

 

आस बंध जरा सूखते तालाबों की
झूठा वादा ही जो कर जाता गुजरता बदल                                              
अनु जसरोटिया

 

ये भी तक्सीम न हो हो जाए जमीनों की तरह
एक बादल किसी सागर से उठा है यारो                                                    
अमीर आगा कज्लबाश






गरजेगा जोर शोर से बरसे यकी नहीं
बेहतर है नाज ख्वाहिश-ए-बादल न कीजिए 

    
Baadal sher, hindi baadal shayari, hindi baadal par sher, baadal par shayari, बादल शेर, बादल शायरी, बादल पर शेर, बादल पर शायरी

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे