Top Hindi Aaina Shayari Collection In Hindi - आईना शायरी कुछ लाइन सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Top Hindi Aaina Shayari Collection In Hindi - आईना शायरी कुछ लाइन


Top Hindi Aaina Shayari Collection In Hindi.
आईना शायरी कुछ लाइन - कहते हैं  लोग की आईना सच बोलता हैं, वही दिखाता हैं जो होता हैं, क्युकी आईना झूठ नहीं सच बोलता हैं.. अगर इश्क में हारे हुए आशिक से पूछो आईना क्या होता हैं? उसका एक ही जवाब होता हैं आईना और दिल एक समान होता हैं, जिसकी ज़िन्दगी में बस टूट के बिखर जाना ही लिखा होता हैं.




आईना शायरी 2 लाइन
Hindi Aaina Shayari Collection
 


Top Hindi Aaina Shayari Collection In Hindi - आईना शायरी 2 लाइन

आईना भी तुम्हे देख आहे भरता  होगा,
इतना भी खुद को निहारा ना कीजिये






   
आइना कोई ऐसा बना दे, ऐ खुदा जो....
इंसान का चेहरा नहीं, किरदार दिखा दे....





कोई भूला हुआ चेहरा नज़र आए शायद
आईना ग़ौर से तू ने कभी देखा ही नहीं
 

एक ऐसा भी वक़्त होता है
मुस्कुराहट भी आह होती है




आईना जब भी उठाया करो पहले देखो फिर दिखाया करो



अभी वो आंख भी सोई नहीं है
अभी वो ख़्वाब भी जागा हुआ है
 

पत्थर के जिगर वालो ग़म में वो रवानी है
ख़ुद राह बना लेगा बहता हुआ पानी है
 

 आईने में दिखता है टूटा सा अक्स अपना,
जख्मों की चोट खाकर यूं चटक सा गया हूं..




अब कैसे संभालू मैं अपने टूटे दिल के टुकड़े को,
अपने ही दिल के आईने में देखो बिखर सा गया हूं..




शीशे का घर शायरी




   
मैं आईना हूँ टूटना मेरी फितरत है,
इसलिए पत्थरों से मुझे कोई गिला नहीं,


मेरी किस्मत में तो कुछ यु लिखा हैं.
किसी ने वक़्त गुजारने के लिए अपना बनाया,
किसी ने अपना बना कर वक़्त गुज़ार लिया.






आइना और दिल का एक ही फ़साना हैं
आखिरी अंजाम दोनों का टूट कर बिखर जाना हैं...


.



   
 

    आईना देख के बोले ये सँवरने वाले
अब तो बे-मौत मरेंगे मेरे मरने वाले




आईना शायरी कलेक्शन



   
 

    आईना हूं तेरा, क्यूं इतना कतरा रहे हो.
सच ही कहूंगा, क्यूं इतना घबरा रहे हो.....






   
 

   
प्यार अपने पे जो आता है तो क्या करते हैं
आईना देख के मुँह चूम लिया करते हैं

अहमद हुसैन माइल


Top 50 Aaina Shayari Collection  In Hindi

 
   
कसूर निगाहों का नहीं आईने का था,
जो चुपके से उनका दीदार आईने में कर लिया...



۞
शिक़ायत है, मुझे आईने से तुम्हारे।
तुम मुझसे मिलने आती हो,
उससे मिलने के बाद।।

 

आज टूट गया तो बचकर निकलते है।
कल आईना था तो रुक-रुक कर देखते थे।।

 
घर का आईना भी अब हक जता रहा है।
खुद तो वैसा ही है पर मेरी उम्र बता रहा है।।

 



आईने को भी खूबसूरत बना देगी।

तुम्हारे चेहरे की मुस्कान।।
 

मुझे जरुरत नहीं किसी आईने की अब। 
क्यूँकि मेरा मेहबूब कहता है क़ि तुम बहुत खूबसूरत हो।।

۞ 
उनकी आंखों के आईने में जब-जब
देखी अपनी छाया।

हमनें खुद को पूरी कायनात में
सबसे ज्यादा खूबसूरत पाया।।

۞ 
मै तो फना हो गया  उसकी एक झलक देखकर।
 ना जाने हर रोज़ आईने  पर क्या गुजरती होगी।।

۞ 
और भी खुबसूरत लगने लगती हूँ।
जब आईने मे नहीं खुद को, तुम्हारी आंखों मे देख लेती हूँ।।

۞ 
ये लकीरें ये नसीब ये किस्मत सब फरेब के आईने हैं।
 हाथों में तेरा हाथ होने से ही मुकम्मल जिंदगी के मायने हैं।।

۞ 
आईने में जब भी देखता हूँ तो
एक छोटी सी स्माइल आ जाती है।
क्यूंकि मुस्कुराने की वजह तुम हो।।

۞ 
आईने भी तुझे कम पसंद करते है।
क्योकि उसे भी पता कि तुझे हम पसंद करते है।।

۞ 
किरदार देख देखकर आईना भी गया है थक।

शख्स कोई तो हो हूबहू जिसका अक्स हो।।

۞
साहब वक़्त का आईना वहीं होता है एक जैसा।
बस उस आईने में किरदार बदलते रहते हैं।।

۞
किरदार मेरे का आईना तुम हो।
मिलोगे मुझसे तो मिलोगे खुद से।।





۞ 
ख़ुद मिरी आँखों से ओझल मेरी हस्ती हो गई,
आईना तो साफ़ है तस्वीर धुँदली हो गई।

साँस लेता हूँ तो चुभती हैं बदन में हड्डियाँ,
रूह भी शायद मिरी अब मुझ से बाग़ी हो गई।।

۞
मैं जानता हूँ फिर भी पूछता हूँ ।
तुम आईना देख कर बताओ मेरी पसंद कैसी है❓

 
दोस्ती या  दुश्मनी, नहीं निभाता है आईना।

जो उसके सामने है, वही दिखाता है आईना।।

۞
आईना भी देखे तो देखता रहे तुम्हे।
खूबसूरती की वो मिसाल हो तुम।।

 
अपने इमान की हिफाजत खुद से हैं मुकमल।
रूह के मुआयने के लिए....कोई आईना नहीं होता।।

 
۞ 
हम आईना हैं आईना ही रहेंगे, फ़िक्र वो करें।
जिनकी शक्लो में कुछ और, दिल में कुछ और है।।

۞ 
मेरे वजूद में ऐ काश तू उतर जाए,
मैं देखूं आईना और तू नजर आए।

तू हो सामने और वक्त ठहर जाए,
ये जिंदगी तूझे यूं ही देखते हुए गुजर जाए।।

۞ 
छेड़ मत हर दम न आईना दिखा ।
अपनी सूरत से ख़फ़ा बैठे हैं हम।।
मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी

۞  
बार बार आईना पोंछा मगर हर तस्वीर धुंधली थी।
न जाने आईने पर ओस थी या हमारी आँखें गीली थीं।।

۞ 
आईना नज़र लगाना चाहे भी तो कैसे लगाए।
काजल लगाती है वो आईने में देखकर।।

۞ 
क्या करेंगे हम दिखावे से भरी दुनिया में,
यहाँ तो आईना भी फितरत से जुदा लगता है।

हमने शामिल किया जब दिल को अपने साथ कहीं,
अपना चेहरा भी बड़ा अजनबी सा लगता है।।

۞ 
हमारी  तडप तो कुछ भी नही है हुजुर  सुना है।
आपके दीदार के लिऐ तो आईना भी  इंतजार करता है।।

۞ 
आईना लेके जो भी आए हैं, हम भी उनका जमीर देखेंगे।
सब हैं तन्हा, सभी में खालीपन, आप किस किस की पीर देखेंगे।।

۞ 
जब शक्ल कोई तन्हा कमरे में सँवरती है।
आईना ही जाने क्या उस पर गुजरती है।।

۞ 
सब अपनी गरज़ के यार है तू दोस्ती की बात न कर।
वक्त बड़ा बेरहम है ये तुझे भी आईना दिखाएगा।।

۞
आईना कभी क़ाबिल-ए-दीदार न होवे।
गर ख़ाक के साथ उस को सरोकार न होवे।।

۞
झूटा है झूट बात ये बोलेगा आईना।
आओ हमारे सामने हम सच बताएँगे।।
जुनैद अख़्तर

۞
अपने इमान की हिफाजत खुद से हैं मुकमल।
रूह के मुआयने के लिए कोई आईना नहीं होता।।

 
आईना आज फिर रिशवत लेता पकडा गया।
 दिल में दर्द था ओर चेहरा हंसता हुआ पकडा गया।।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे