Anand Hamesha Apne Bhitar Hona Chahiye मुखड़ा क्या देखेदर्पण हमारा सच्चा स्वभाव मुक्ति है । सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Anand Hamesha Apne Bhitar Hona Chahiye मुखड़ा क्या देखेदर्पण हमारा सच्चा स्वभाव मुक्ति है ।

Anand Hamesha Apne Bhitar Hona Chahiye मुखड़ा क्या देखेदर्पण हमारा सच्चा स्वभाव मुक्ति है ।
महर्षि रमण


महर्षि रमण आध्यात्मिक संत

Anand Hamesha Apne Bhitar Hona Chahiye मुखड़ा क्या देखेदर्पण हमारा सच्चा स्वभाव मुक्ति है ।
लेकिन हम कल्पना करते हैं कि हम बल है , (Anand Hamesha)और मुक्त होने के लिए विविध श्रमसाध्य साधनाएं करते हैं । जबकि हर समय हम मुक्त ही होते हैं । (Anand Hamesha)



जब तक संस्कारों का नाश नहीं हुआ , संदेह और गलत धारणाएं बनी रहेंगी । इन्हें नष्ट करने के लिए सारे उपाय किए जाते हैं । गुरु की बताई गई पद्धति से अभ्यास करने से वे बेअसर जाते हैं ।




 सभी जीव सदैव आनंद की इच्छा रखते हैं । ऐसा आनंद , जिसमें दुख का कोई स्थान न हो । जबकि हर आदमी अपने आप से सबसे अधिक प्रेम करता है । इस प्रेम का केवल एक कारण है , और वह है आनंद । इसलिए आनंद अपने स्वयं के भीतर हमेशा होना चाहिए । मन अंतरात्मा की एक आश्चर्यजनक शक्ति है ।



जो हमारे शरीर के भीतर में मैं के रूप में उदित होता है , वह मन है । जब सूक्ष्म मन मस्तिष्क और इंद्रियों के द्वारा बहुमुखी होता है , तो स्थूल नाम , रूप की पहचान होती है । जब वह हृदय में रहता है , तो नाम , रूप विलुप्त हो जाते हैं । यदि मन हृदय में रहता है , तो ' मैं ' या अंधकार , जो समस्त विचारों का स्रोत है , चला जाता है और केवल आत्मा या वास्तविक शाश्वत ' मैं प्रकाशित होता है ।




जहां अंधकार लेशमात्र प्रकाशित नहीं होता , वहां आत्मा है । हमारा सच्चा स्वभाव मुक्ति है । लेकिन हम , कल्पना करते हैं कि हम बद्ध है , और मुक्त , होने के लिए विविध श्रमसाध्य साधनाएं करते हैं । जबकि हर समय हम मुक्त ही होते हैं । यह बात तब समझ में आएगी , जब हम उस भूमिका पर होंगे । तब हमें आश्चर्य होगा कि जो हम सर्वदा थे और हैं , उसे प्राप्त करने के लिए हमने कठोर परिश्रम किया ।






एक साधक सो जाता है । स्वप्न में वह विश्वयात्रा पर निकलता है , और पर्वत , घाटी , जंगल , विविध देश , रण और पृथ्वी के कई खंडों को पार करता हुआ इस देश में वापस आता है । उसी . क्षण वह जग जाता है और देखता है कि वह अपनी जगह से एक इंच भी दूर नहीं गया है । ठीक इसी प्रकार का जन्म - मरण रूपी संसार का अनुभव है । यह पूछने पर , कि हम स्वतंत्र होते हुए भी बद्ध होने की कल्पना क्यों करते हैं , मेरा उत्तर यह है कि यह सब मन अर्थात माया है ।






अज्ञानी केवल मन को देखता है , जो हृदयस्थ शुद्ध चेतना के प्रकाश का प्रतिबिंब है । हृदय के विषय में उसका अज्ञान कायम है , क्योंकि उसका मन बहिर्मुख है , एवं उसने कभी भी अपने मूल की खोज नहीं की । घड़ें में रह रहा पानी घड़े के सीमित आकाश में महान सूर्य को प्रतिबिंबित करता है , ऐसे ही मनुष्य के मन में रहने वाली वासनाएं प्रतिबिंब के लिए माध्यम का कार्य करते हुए हदय से प्रकट होने वाले चैतन्य के सर्वव्यापक अनंत प्रकाश को प्रतिबिंबित करती हैं । इस प्रतिबिंब की घटना को मन कहा जाता है । केवल इस प्रतिबिंब को देखकर मोहित हुआ अज्ञानी स्वयं को सीमित जीव मानता है ।






लोग पूर्ण आत्मा के स्मरण और विस्मरण की बात करते हैं , लेकिन स्मरण और विस्मरण , दोनों विचार के रूप हैं । विचारों के रहने तक ये आते - जाते रहेंगे , किंतु सत्य इन दोनों से परे है । स्मृति और विस्मृति वैयक्तिक जीव पर आश्रित हैं । जब कोई उसे ढूंढता है , तो वह नहीं मिलता , क्योंकि वह सत्य नहीं है । इसलिए यह अहंकार , माया और अज्ञान का पर्याय है । अज्ञान कभी भी नहीं था , यह जानना सारे आध्यात्मिक उपदेशों का लक्ष्य है । जब तक संस्कारों का नाश नहीं हुआ , संदेह और गलत धारणाएं बनी रहेंगी । इन संदेहों तथा गलत धारणाओं को नष्ट करने के लिए सारे उपाय किए जाते हैं ।







ऐसा करने के लिए उसके मूल को काट देना चाहिए । संस्कार वह मूल है । गुरु की बताई गई पद्धति से अभ्यास करने से वे बेअसर जाते हैं । गुरु इतना कार्य शिष्य के लिए छोड़ देता है , जिससे वह स्वयं समझ सके कि अज्ञान का अस्तित्व नहीं है । कुछ असाधारण लोग सत्य को केवल एक बार सुनकर दृढ़ ज्ञान प्राप्त कर लेते हैं । नए साधकों को ज्ञान प्राप्त करने में अधिक समय लगता है ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे